scriptgulab kothari articles sharir hi brahmand 08 january 2022 | शरीर ही ब्रह्माण्ड : नाड़ियों में बहते कर्म के संकेत | Patrika News

शरीर ही ब्रह्माण्ड : नाड़ियों में बहते कर्म के संकेत

मनुष्य कभी हंसता है, कभी रोता है, कभी उदास होता है। कभी दौड़ता है, बैठता है आदि अनेक प्रकार के क्रियाकलाप तथा हाव-भावों को करता है। इस विविध रूपता को प्रभावित करने वाला प्राण व्यान है। पृथक-पृथक नाड़ी स्रोतों से निकलने वाला यह प्राण ही हमसे भिन्न-भिन्न चेष्टाएं (कर्म) करवाता है। शरीर ही ब्रह्माण्ड श्रृंखला में नाड़ी विज्ञान की वैदिक व आध्यात्मिक विवेचना समझने के लिए पढ़िए पत्रिका समूह के प्रधान संपादक गुलाब कोठारी का यह विशेष लेख -

Updated: January 08, 2022 09:52:12 am

स्वयंभू, परमेष्ठी, सूर्य, चन्द्रमा और पृथ्वी इन पांच पर्वों की प्रतिकृति यह मानव शरीर है। चरक सूत्र है-यथापिण्डे तथा ब्रह्माण्डे। पांच पर्वों में तीन पर्व सूर्य, चन्द्रमा तथा पृथ्वी प्रत्यक्ष दिखते हैं। स्वयंभू एवं परमेष्ठी अदृष्ट रहते हैं। मानव शरीर में अदृष्ट तत्त्व आत्मा इन्हीं पर्वों से आता है। सूर्य बुद्धि का प्रदाता, चन्द्रमा मन का कारक तथा पृथ्वी शरीर की निर्मात्री है।

जगत् में दिखने वाले ऐसे सभी कार्यकलाप जो इस शरीर के माध्यम से होते हैं, उन सभी कर्मों का आधार ये ही पांच पर्व हैं। अध्यात्म में कर्म का स्वरूप यद्यपि गुण, वर्ण आदि से निर्धारित होता है किन्तु उनका संचालन पंचभूतों के आधार पर शरीर के व्यापक तंत्र के माध्यम से ही होता है। यह शरीर तंत्र विभिन्न अवयवों के अलावा विविध नाडिय़ों के संजाल से संचालित होता है। ये ही नाडिय़ां इन्द्रियों के माध्यम से शरीर के विभिन्न कार्यों को सम्पन्न कराने में मुख्य भूमिका निभाती हैं। एक तरह से हमारे सभी कर्म, मन-बुद्धि और इन्द्रियों के निर्देशन में इन नाडिय़ों से सम्पन्न होते हैं।

पंचभौतिक शरीर में पाई जाने वाली विविध नलिकाओं को नाड़ी कहा जाता है। प्राणधारियों के शरीर में बहत्तर हजार नाडिय़ां होती हैं। ये नाभिमूल से जुड़ी हुई हैं। ये नाडिय़ां पांचों इन्द्रियों के गुणों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचाती हैं। अर्थात् इन्हीं के द्वारा इन्द्रियां अपने-अपने शब्द, गंध, रस, स्पर्श आदि गुणों को ग्रहण करती हैं।

इन नाडिय़ों में से कुछ नाडिय़ां अन्न रस को बहाकर शरीर को निरन्तर सींचती हुई तृप्त एवं जीवित रखती हैं। मस्तक से लेकर पैर तक फैले हुए शरीर के अवयव इन नाडिय़ों की सहायता से ही यथास्थान स्थित होकर अपने-अपने काम करने में समर्थ होते हैं। नाड़ी से वात, पित्त, कफ, द्वन्द्व तथा सन्निपात के रोगों का पता चलता है। ये नाडिय़ां ही बताती हैं कि किस रोग से रोगी पीडि़त है।

शरीर ही ब्रह्माण्ड : नाडिय़ों में बहते कर्म के संकेत
शरीर ही ब्रह्माण्ड : नाडिय़ों में बहते कर्म के संकेत
शरीर में तीन प्रकार की नाडिय़ां प्रसिद्ध हैं-शिरा, धमनी और स्नायु। रसवाहिनी नाडिय़ां शिरा नाम से प्रसिद्ध हैं। ज्ञानवाहिनी नाडिय़ां स्नायु हैं। इसलिए ये ज्ञान तन्तु भी कहलाती हैं। वायुवाहिनी नाडिय़ां धमनी (धौंकनी) नाम से प्रसिद्ध हैं। जहां स्नायु है वहां रस भी अवश्य है एवं जहां रस है वहां 'यावानु वै रसस्तावानात्मा'-इस सिद्धान्त के अनुसार ज्ञान (चेतना) भी अवश्य है। वायु, रस और ज्ञान तीनों अविनाभूत हैं। वायु संचार से रस बनता है। रस पर ज्ञान प्रतिष्ठित रहता है। इस प्रकार धमनी, शिरा, स्नायु तीनों नाडिय़ों का अविनाभाव सिद्ध हो जाता है।

पंचभूतात्मक शरीर का मध्य भाग हृदय कहा जाता है। यहीं आत्मा प्रतिष्ठित है-'हृदि ह्येष आत्मा।' कठोपनिषद में हृदय की 101 नाडिय़ां कही गई हैं-'शतं चैका च हृदयस्य नाड्य:।' इन्हीं नाडिय़ों से हमारा व्यान (प्राण) सर्वत्र व्याप्त रहता है। मनुष्य कभी हंसता है, कभी रोता है, कभी उदास होता है। कभी दौड़ता है, बैठता है आदि अनेक प्रकार के क्रियाकलाप तथा हाव-भावों को करता है। इस विविध रूपता को प्रभावित करने वाला प्राण व्यान है। पृथक-पृथक नाड़ी स्रोतों से निकलने वाला यह प्राण ही हमसे भिन्न-भिन्न चेष्टाएं (कर्म) करवाता है।

व्यान नाडिय़ां-पृथ्वी, जल, तेज, वायु, आकाश पांच रूपों में विभक्त होकर पृथ्वीनाड़ी, जलनाड़ी, तेजनाड़ी, वायुनाड़ी, व्योमनाड़ी कहलाने लगती हैं। इन नाडिय़ों के सम्बन्ध से हृदय में उक्थ रूप से प्रतिष्ठित व्यान वायु अर्करूप से सम्पूर्ण शरीर में व्याप्त हो जाता है। अत: 'व्यान: सर्वशरीरग:' यह कहा जाता है। इन पांच रूप में विभक्त नाडिय़ों का शरीरगत भिन्न-भिन्न भावों से सम्बन्ध है एवं आयतन भेद से रस, वर्ण, स्पर्श भी पांचों के भिन्न-भिन्न हैं। शरीर के अस्थि, मांस, त्वचा तीनों घनद्रव्य हैं। 'यत् कठिनं सा पृथ्वी' के अनुसार तीनों का पृथ्वी भाग से सम्बन्ध है। इनका रस मधुर है, वर्ण पीत (पीला) है। स्पर्श सम (न उग्र न मृदु) है।

यह भी देखें - शरीर ही ब्रह्माण्ड : ज्ञान-कर्म-अर्थ हमारे अन्न

शुक्र, शोणित, मज्जा तीन तरल धातु हैं। कफ, लाला (लार) आदि का इन्हीं में अन्तर्भाव है। 'यद् द्रवं तदाप:' अर्थात् ये तीनों आप: भूत यानी जल नाडिय़ों से सम्बद्ध हैं। इनका रस शिव है। वर्ण श्वेत है। स्पर्श ठण्डा है। क्षुधा, तृषा, निद्रा तीनों आग्नेय धातु हैं। अन्न की आहुति से शरीराग्नि शान्त होता हुआ शिव बन जाता है। रुद्राग्नि को शान्त करने वाले को शतरुद्रिय कहते हैं।

बिना अन्न के अग्नि प्रज्वलित होकर क्षुब्ध हो जाता है। अग्नि के इस क्षोभ का ही नाम भूख और प्यास है। इन दोनों वृत्तियों को अग्निरूपा कहते हैं। तीसरी है निद्रा वृत्ति। तेज (सौर तेज) के प्रबल आक्रमण से ही निद्रा होती है। निद्रा का तेज में ही अन्तर्भाव है। इस प्रकार क्षुधा, पिपासा, निद्रा तीनों तेज नाडिय़ों से सम्बद्ध हैं। इनका रस तीक्ष्ण है, वर्ण लाल है, स्पर्श ऊष्म है।

धावन (दौड़), चलन, भाषण तीन वायु धातुएं हैं। दौडऩा, चलना, बोलना तीनों गतिधर्म वाले वायु के कार्य हैं। इन तीनों कार्यों को वायुधातु कहते हैं। वायु नाडिय़ों का रस अम्ल है। वर्ण चित्र (चितकबरा) है। स्पर्श सम है। द्वेष, लज्जा, भय तीन भावों का आकाश से सम्बन्ध है। लज्जा में आकाश संकुचित होता है। भय में प्रतिष्ठा से गिरता है, जगह छोड़ता है। द्वेष में दूसरे से अपने को हटाता है। तीनों कार्य अन्तरिक्ष रूप आकाश से सम्बन्ध रखते हैं। इन व्योमनाडिय़ों का रस कटु है। वर्ण श्याम है। स्पर्श कटु है।

इन पांचों नाडिय़ों की पुष्टि पांच प्राणों से होती है। शरीर में प्राण, उदान, व्यान, समान, अपान इन पांचों भागों में एक ही सौर प्राण विभक्त होकर प्रतिष्ठित रहता है-'पञ्चधाऽऽत्मानं प्रविभज्य।' प्राण हृदय में, अपान मूलाधार में और समान नाभि में प्रतिष्ठित है। उदान कण्ठ में प्रतिष्ठित है। व्यान पूरे शरीर में प्रतिष्ठित है। इन पांचों प्राणों के दो-दो काम हैं। नाडिय़ों को पुष्ट करना-'तत्तद्भूतरसोपजनित-तत्तद्भूतमय।' उन नाडिय़ों को सुरक्षित रखना पहला काम है।

हृदय में प्रतिष्ठित प्राण पृथ्वी नाडिय़ों को पुष्ट करता है। मूलाधार में प्रतिष्ठित अपान प्राण जलनाडिय़ों को पुष्ट करता है। कण्ठप्रदेश का उदान प्राण तेजनाडिय़ों को पुष्ट करता है। नाभिप्रदेश में प्रतिष्ठित समान प्राण वायु नाडिय़ों को पुष्ट करता है। पूरे शरीर में रहने वाला व्यान प्राण व्योम नाडिय़ों का पोषण करता है।

यह भी देखें - शरीर ही ब्रह्माण्ड : सूर्य जैसा हो यज्ञ-तप-दान
व्योम नाडिय़ों में मुख्य नाड़ी सुषुम्णा है जो कण्ठनलिका द्वारा ब्रह्मरन्ध्र तक जाती है। इसका मूल स्थान हृदय है। यही प्रधान सूर्यरश्मि है। ब्रह्मरन्ध्र स्थित इसी नाड़ी द्वार से सौर प्राण आता है तथा पुन: हृदय से सूर्य में जाता है। सूर्य से आने वाला सौरप्राण ही आयु का कारण है।

हमारा समस्त शारीरिक संचालन यानी सभी कर्म अन्न, मन, बुद्धि और त्रिगुण आदि से प्रभावित रहते हैं। 'जैसा खावे अन्न वैसा होवे मन' प्रसिद्ध ही है। यदि अन्न दूषित है और तामसिक है तो शरीर में विकार अवश्य ही उत्पन्न हो जाते हैं। इससे शरीर के वात-पित्त-कफ प्रभावित होते हैं। इनमें परस्पर असंतुलन से रोग हो जाते हैं। इन रोगों के निदान के लिए कलाई पर डॉक्टर-वैद्य को अपनी अंगुलियां रखकर नाड़ी अथवा 'पल्स' का परीक्षण करते हम अक्सर देखते हैं।

आयुर्वेद में इससे शरीर में वात-पित्त-कफ का परीक्षण होता है। ज्योतिष में विवाह गुण-मिलान के समय इसी नाड़ी का अन्य रूप में महत्वपूर्ण परीक्षण किया जाता है। दाम्पत्य और प्रजोत्पत्ति का संकेत इससे मिलता है। इन तीन नाडिय़ों को आद्य-मध्य और अन्त्य कहा जाता है। प्रत्येक नाड़ी से नौ नक्षत्र समूह जुड़े माने गए हैं। जन्मकुण्डली में चन्द्रमा की किसी विशेष नक्षत्र में उपस्थिति से नाड़ी का पता चलता है। कुल २७ नक्षत्रों में से नौ विशेष नक्षत्रों में चन्द्र (व्यक्ति के जन्म के समय) के होने से व्यक्ति की तीनों में से कोई एक नाड़ी जन्मनाड़ी होती है।

विवाह के लिए नर-नारी के गुणों का मिलान करते समय यह ध्यान रखा जाता है कि दोनों की नाड़ी समान नहीं हो। दोनों की आद्य-आद्य नाड़ी होने पर विवाह उपरान्त वियोग अथवा विच्छेद होना माना जाता है। मध्य-मध्य नाड़ी दोष मृत्युकारक माना गया है। अन्त्य-अन्त्य नाड़ी दोनों की हो तो अत्यन्त दु:ख भोगना पड़ता है। संतान मानसिक और शारीरिक रूप से अस्वस्थ होगी। वस्तुत: विवाह संस्था में नर-नारी दोनों एक-दूसरे को ही तो भोगते हैं। नाड़ी दोष हो तो दोनों के जीवन में दु:ख का कारण बन जाता है। नाड़ी दोष होने पर विवाह की सलाह नहीं दी जाती। यही नहीं, दो पुरुषों अथवा दो स्त्रियों में नाड़ी दोष हो तो शत्रुता अथवा अन्य दु:खों का कारण बन जाता है। क्रमश:

यह भी देखें - शरीर ही ब्रह्माण्ड : त्याग में देना नहीं, लेना है

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहकर्नाटक में कोरोना की रफ्तार तेज, 47  हजार से अधिक नए मामलेरामगढ़ पचवारा में बरसे टिकैत, कहा किसानों की जमीन को छीनने नहीं दिया जाएगाप्रदेश के डेढ़ दर्जन जिलों में रेत का अवैध परिवहन जारी, सरकार को करोड़ों का नुकसान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.