scriptपर्यटन के लिए सालभर नेशनल पार्क खोलना ‘प्रोजेक्ट टाइगर’ पर सवाल | Opening National Park throughout the year is wrong for 'Tiger Project' | Patrika News
ओपिनियन

पर्यटन के लिए सालभर नेशनल पार्क खोलना ‘प्रोजेक्ट टाइगर’ पर सवाल

– 50 टाइगर रिजर्व हैं देश में कुल। ये 18 राज्यों में 72749 वर्ग किमी. में फैले हैं, जो देश का 2.21 % भौगोलिक क्षेत्र है। इसमें 40145.30 वर्ग किमी. कोर व 32603.72 वर्ग किमी. बफर जोन अधिसूचित है।15 जून-15 नवंबर झिलमिल जोन को छोड़कर राजाजी और झिरना व बिजरानी जोन को छोड़कर कॉर्बेट नेशनल पार्क इस अवधि के लिए आम तौर पर बंद रहते हैं। झिलमिल व झिरना जोन सालभर खुले रहते हैं, वहीं बिजरानी जोन लगभग 15 जून से 15 अक्टूबर तक बंद रहता है।

Jun 28, 2021 / 09:08 am

विकास गुप्ता

पर्यटन के लिए सालभर नेशनल पार्क खोलना 'प्रोजेक्ट टाइगर' पर सवाल

पर्यटन के लिए सालभर नेशनल पार्क खोलना ‘प्रोजेक्ट टाइगर’ पर सवाल

उत्तराखंड के वन मंत्री हरक सिंह रावत ने हाल ही राज्य के दो नेशनल पार्क/ टाइगर रिजर्व – जिम कॉर्बेट और राजाजी – को साल भर पर्यटकों के लिए खोलने की घोषणा की। इस फैसले की हर तरफ आलोचना हो रही है। एक ओर, वन्यजीव विशेषज्ञों का मत है कि नेशनल पार्क बंद करने के नियम सभी पक्षों पर भलीभांति विचार के बाद तय किए गए थे और यदि इन नियमों की अनदेखी कर पूरे साल इन्हें खोला जाता है तो बाघ संरक्षण मुहिम ‘प्रोजेक्ट टाइगर’ प्रभावित हो सकता है। दूसरी ओर, मंत्री का कहना है कि आय बढ़ाने के लिए यह फैसला वन अधिकारियों के साथ चर्चा के बाद लिया गया है। दरअसल, देश में वन गुणवत्ता, भौगोलिक स्थिति व जलवायु में भिन्नता के आधार पर नेशनल पार्क बंद करने की तिथियां बदलती रहती हैं। राजस्थान का रणथम्भौर उद्यान अल्प बारिश के कारण जहां अक्टूबर से जून तक नौ माह खुला रहता है, वहीं असम का काजीरंगा अधिक बारिश की वजह से मई से अक्टूबर तक छह माह बंद रहता है।

बाघ प्रजनन ही कारण नहीं-
कुछ पर्यावरणविदों के दावों के विपरीत पर्यवेक्षण के आधार पर जुटाए गए साक्ष्य बताते हैं कि भारत में बाघों के प्रजनन के लिए सबसे अच्छा मौसम शरद-वसंत ऋतु का होता है, बारिश का नहीं। हाथी प्रजनन बारिश पैटर्न से जुड़ा है। राजाजी टाइगर रिजर्व में हाथियों के व्यवहार पर 2009 में प्रकाशित एक शोध में कहा गया था कि मई से जुलाई शुरू की अवधि हाथियों के प्रजनन का पीक सीजन है। चिंता का विषय बाघ प्रजनन ही नहीं है। बारिश के दौरान कई अन्य प्रजातियां प्रजनन करती हैं जो पारिस्थितिकी तंत्र या खाद्य शृंखला के संतुलन के लिए अहम है। इसके अलावा पर्यटन के चलते शोर व प्रदूषण से भी वन्यजीवन को अवकाश की दरकार होती है। ऐसे में बारिश का मौसम इस अवकाश को सुनिश्चित करने के लिए सबसे सुविधाजनक समय है।

बंद रखने के हैं ठोस कारण-
इंसानी गतिविधियों और उनसे उत्पन्न खतरों के मद्देनजर वन्यजीव पार्कों को बंद करना जरूरी समझा जाता है। दुनियाभर में वाइल्डलाइफ पार्क मौसम के मुताबिक बंद रखे जाते हैं। उष्णकटिबंधीय वनों में मानसून की वजह से रास्ते अवरुद्ध हो जाते हैं। भारत में पुराने समय में शिकारियों ने भी बरसात के महीनों को ऑफ-सीजन के रूप में चुना था। जानवरों की आबादी बढ़े, यह भी उद्देश्य था। कर्नाटक के नागरहोल व बांदीपुर टाइगर रिजर्व शुष्क गर्मी में जानवरों को तनाव और जंगलों को आग से बचाने के लिए बंद रखे जाते हैं। उत्तर में, बरसात के महीने सबसे चुनौतीपूर्ण होते हैं। मौसमी नालों से पुलिया और सड़कें भी क्षतिग्रस्त हो जाती हैं।

जोखिमपूर्ण हो सकता है कदम-
बारिश के महीनों में पर्यटकों के लिए नेशनल पार्क खोलने से बाघ प्रजनन की संभावनाओं में भले ही बाधा न आए, पर राष्ट्रीय पशु की जान खतरे में पड़ सकती है। प्रोजेक्ट टाइगर के तहत मानसून के दौरान अधिक निगरानी ‘ऑपरेशन मानसून’ पर जोर दिया जाता है। यदि इससे हटाकर वन कर्मियों को पर्यटन संबंधी जिम्मेदारियां दी जाएंगी तो बाघ निगरानी कमजोर पड़ेगी और शिकारी इसका फायदा उठा सकते हैं। मानसूम के महीनों में, जबकि निगरानी में लगे गार्डों के लिए टाइगर रिजर्व के ज्यादातर क्षेत्रों की पेट्रोलिंग मुश्किल हो जाती है, तब पर्यटन जारी रखना बाघों के शिकार के लिए शिकारियों को न्योता देने जैसा हो सकता है।

Hindi News/ Prime / Opinion / पर्यटन के लिए सालभर नेशनल पार्क खोलना ‘प्रोजेक्ट टाइगर’ पर सवाल

loksabha entry point

ट्रेंडिंग वीडियो