scriptRacial violence is presenting a grim picture of US | Patrika Opinion: अमरीका में नस्लभेद की चिंताजनक तस्वीर | Patrika News

Patrika Opinion: अमरीका में नस्लभेद की चिंताजनक तस्वीर

ऐसा लगने लगा है कि नस्लभेद अमरीका में रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा बन कर रह गया है। खास तौर से पिछले एक दशक के दौरान नस्लभेद की हिंसक घटनाएं यह भी बताती हैं कि अमरीका में उग्र श्वेत राष्ट्रवाद का प्रसार खूब हो रहा है।

Published: May 17, 2022 09:46:29 pm

अमरीका में नस्लभेद की भयावह तस्वीर फिर सामने आई है जब सैन्य वर्दी पहने एक श्वेत किशोर ने न्यूयॉर्क के बफेलो सुपर मार्केट में अंधाधुंध गोलियां बरसा दीं जिसमें दस जने मारे गए। मरने वालों में अधिकांश अश्वेत हैं। इस घटनाक्रम को अंजाम देने वाले किशोर ने इस दौरान न केवल नस्लीय अपशब्दों का इस्तेमाल किया बल्कि हमले को सोशल मीडिया पर ऑनलाइन स्ट्रीम भी किया। ऐसा लगने लगा है कि नस्लभेद अमरीका में रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा बन कर रह गया है। खास तौर से पिछले एक दशक के दौरान नस्लभेद की हिंसक घटनाएं यह भी बताती हैं कि अमरीका में उग्र श्वेत राष्ट्रवाद का प्रसार खूब हो रहा है।
प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र
भले ही नस्लभेद अमरीका में हर बार चुनावी मुद्दा बनता आया हो लेकिन इसे रोकने के प्रयास तेज हुए हों, ऐसा नहीं लगता। इसकी सबसे बड़ी वजह अश्वेतों को लेकर अमरीकियों में उस अज्ञात किस्म का भय ही माना जाना चाहिए जिसमें वहां की श्वेत आबादी अपनी हर समस्या के लिए अश्वेतों को जिम्मेदार मानने लगी है। यही वजह है कि राष्ट्रपति चुनाव के दौरान मूल अमरीकियों को अपने खेमे में बनाए रखने का जतन सब अपने तरीके से करते हैं। ऐसे जतन में बड़ा मुद्दा आर्थिक असमानता का और इसकी वजह अश्वेत आबादी को मानना भी रहता है। वस्तुत: खुद अमरीका ने ही ऐसी रक्तरंजित करतूतों को प्रोत्साहित किया है। वहां के हुक्मरान भी ऐसी घटनाओं को सिरफिरे की करतूत मानकर समस्या पर पर्दा डालने में जुट जाते हैं। राष्ट्रपति जो बाइडन ने हमले की निंदा करने के बाद अब बफेलो सुपर मार्केट जाने का कार्यक्रम भी तय किया है। इस प्रकरण को लेकर वहां का कानून अपना काम कर रहा है। लेकिन सीधे तौर पर यह आतंकी कार्रवाई ही है जो नस्लभेद का चरम दर्शाती है। अमरीका की केन्द्रीय जांच एजेंसी फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (एफबीआइ) की एक रिपोर्ट में यह चिंताजनक तस्वीर सामने आई है जिसमें कहा गया है कि वर्ष 2020 में अमरीका में अश्वेतों और एशियाई लोगों के खिलाफ घृणा अपराध की संख्या में 40 से 70 प्रतिशत की वृद्धि हुई।
हैरत की बात यह भी है कि भारत समेत दुनिया के तमाम दूसरे देशों में इस तरह की छोटी-बड़ी घटनाओं पर अमरीका खुद मानवाधिकारों की दुहाई देने व नसीहत देने में जुट जाता है। दूसरे देशों के लोकतंत्र और मानव अधिकारों की समीक्षा करने से पहले अमरीका को अपने घर में झांकना चाहिए। जरूरत इस बात की भी है कि न केवल अमरीका बल्कि दुनिया के तमाम दूसरे देश साझा प्रयास कर नस्लभेद से मुकाबले की रणनीति बनाएं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: महा विकास अघाड़ी सरकार को बड़ा झटका, शिंदे खेमे में शामिल होंगे उद्धव के 8वें मंत्रीRanji Trophy Final: मध्य प्रदेश ने रचा इतिहास, 41 बार की चैम्पियन मुंबई को 6 विकेट से हरा जीता पहला खिताबBypoll results 2022 LIVE: UP की आजमगढ़ सीट से निरहुआ की हुई जीत, दिल्ली में मिली जीत पर केजरीवाल गदगदअगरतला उपचुनाव में जीत के बाद कांग्रेस नेताओं पर हमला, राहुल गांधी बोले- BJP के गुड़ों को न्याय के कठघरे में खड़ा करना चाहिएSangrur By Election Result 2022: मजह 3 महीने में ही ढह गया भगवंत मान का किला, किन वजहों से मिली हार?सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद, फिर से सामने आया कनाडाई (पंजाबी) गिरोहMumbai News Live Updates: कलिना, सांताक्रूज में पार्टी कार्यकर्ताओं के कार्यक्रम में शामिल हुए आदित्य ठाकरेMaharashtra Political Crisis: केंद्र ने शिवसेना के बागी 15 विधायकों को दी Y प्लस कैटेगरी की सुरक्षा, शिंदे गुट ने डिप्टी स्पीकर के खिलाफ लिया ये फैसला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.