विजेंदर सिंह की लगातार 11वीं जीत, अमरीका के माइकल स्नाइडर को नॉक आउट मैच में हराया

विजेंदर सिंह की लगातार 11वीं जीत, अमरीका के माइकल स्नाइडर को नॉक आउट मैच में हराया

Kapil Tiwari | Updated: 14 Jul 2019, 07:03:27 PM (IST) अन्य खेल

विजेंदर सिंह ( Vijendra Singh ) ने अमरीका के माइकल स्नाइडर ( Mike Snider ) को मुक्केबाजी में हराकर लगातार 11वीं जीत दर्ज की है।

वॉशिंगटन। भारतीय बॉक्सर विजेंदर सिंह ने सात समुंदर पार अमरीका में एक बड़ी उपलब्धि हासिल की है। दरअसल, विजेंदर सिंह ने अमरीका के माइकल स्नाइडर को मुक्केबाजी में हराकर लगातार 11वीं जीत दर्ज की है। विजेंदर सिंह करीब एक साल के बाद रिंग में उतरे थे। शनिवार की रात सुपर मिडिलवेट कॉन्टेस्ट के 8वें राउंड में विजेंदर सिंह ने माइक स्नाइडर को नॉक आउट मैच में हरा दिया। ये मैच अमरीका के नेवार्क में हुआ। डब्ल्यूबीओ ओरिएंटल और एशिया पैसिफिक सुपर मिडिलवेट चैम्पियन विजेंदर को अब तक पेशेवर मुक्केबाजी में कोई हरा नहीं सका है। विजेंदर का यह पहला यूएस प्रोफेशन मुकाबला था।

हिमा दास की आर्थिक मदद को लेकर विजेंदर ने दिया बड़ा बयान

विजेंदर ने ट्विटर पर जारी की खुशी

विजेंदर ने इस मुकाबले को मिलाकर अभी तक अपने आठ मैचों में नॉकआउट के जरिए जीत हासिल की है। इसी के साथ विजेंदर ने डब्ल्यूबीओ ओरिंटल और एशिया पैसिफिक सुपर मिडिलवेट चैम्पियन का खिताब अपने पास ही रखा है। इस जीत के बाद विजेंदर ने अपने ट्विटर पर लिखा, "गान अर्पित, प्राण अर्पित, रक्त का कण-कण समर्पित। चाहता हूं देश की धरती, तुझे कुछ और भी दूं। भारत में मौजूद मेरा समर्थन करने वाले और यहां अमेरिका में मेरा साथ दे रहे सभी प्रशंसकों को मैं धन्यवाद देता हूं।"

 

Vijender Singh

करियर के सभी मुकाबले जीते हैं विजेंदर

आपको बता दें कि विजेंदर ने अपने प्रो-बॉक्सिंग करियर में अब तक 11 मुकाबले खेले और सभी में जीत दर्ज की है। 8 मुकाबलों में तो उन्होंने नॉकआउट से जीत हासिल की है। विजेंदर कह चुके हैं कि वह अपने मुक्केबाजी करियर पर ध्यान देना चाहते हैं। वे अपने प्रदर्शन को और ज्यादा बेहतर करना चाहते हैं। वह अपने आप को व्यस्त रखकर विश्व खिताब के लिए तैयार करेंगे।

विजेंदर ने ममता बनर्जी को किया ट्वीट, कहा स्वप्ना की पुरस्कार राशि बढ़ाए बंगाल सरकार

आपको बता दें कि विजेंदर सिंह ने हाल ही संपन्न हुए लोकसभा चुनाव में राजनीति में आने का फैसला किया था और उन्होंने दिल्ली की एक सीट से चुनाव भी लड़ा था, लेकिन वो चुनाव हार गए थे।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned