कुश्ती : भारत को मिले तीन पदक, बजरंग, पूजा ने जीता सोना तो साक्षी को मिला रजत

  • बजरंग ने स्‍वर्ण पदक जीतने के बाद अपना मेडल विंग कमांडर अभिनंदन को समर्पित किया
  • महिलाओं के वर्ग में मिला भारत को दो पदक
  • पूजा ढांडा ने जीता सोना तो वहीं साक्षी मलिक ने रजत पर किया हाथ साफ

By: Mazkoor

Published: 03 Mar 2019, 07:11 PM IST

रूसे : भारतीय पहलवान बजरंग पूनिया और पूजा ढांडा ने बुल्‍गारिया के रूसे शहर में चल रहे डेन कोलोव-निकोला पेट्रोव इंटरनेशनल रैंकिंग सीरीज में अपने-अपने भार वर्ग में स्वर्ण पदक जीता तो वहीं साक्षी मलिक ने रजत पदक जीता।

बजरंग ने अभिनंदन को समर्पित किया अपना मेडल
बजरंग ने शनिवार रात पुरुषों के 65 किग्रा फ्रीस्टाइल वर्ग के फाइनल में अमरीका के जॉर्डन माइकल ओलिवर को शिकस्त देकर स्वर्ण पदक अपने नाम किया। बजरंग पहले 0-3 पीछे चल रहे थे, लेकिन इसके बाद जबरदस्‍त वापसी की और लगातार 12 अंक लेकर सोने पर कब्‍जा किया। जीत के बाद भारतीय पहलवान ने कहा कि वह यह स्‍वर्ण पदक विंग कमांडर अभिनंदन वर्थमान को समर्पित करते हैं। उनके प्रति सम्‍मान प्रदर्शित करते हुए उन्‍होंने कहा कि वह उनसे बहुत प्रभावित है और मौका मिलने पर वह उनसे हाथ मिलाना चाहेंगे।

पूजा को सोना तो साक्षी को रजत
बजरंग से पहले शनिवार रात हुए दो और मैच में भी भारत को दो पदक स्‍वर्ण और रजत मिले। विश्‍व चैम्पियनशिप-2018 की कांस्य पदक विजेता पूजा ने 59 किग्रा में स्वर्ण पदक अपने नाम किया तो रियो ओलम्पिक की कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक ने 65 किग्रा में फाइनल में हार कर रजत पदक पर अपना नाम लिखाया। 59 किग्रा फ्रीस्टाइल वर्ग में अपराजेय रहते हुए स्‍वर्ण पदक पर कब्‍जा जमाया। राउंड रोबिन प्रारूप में उन्‍होंने अपने तीनों मैच जीतने में सफल रहीं। इस क्रम में उन्‍होंने हमवतन सरिता मोर, लिथुआनिया की कोरनेलिजा जैयसेवेयूटे और किर्गिस्तान की एसुलु टिनबेकोवा को मात दी।
भारत के पास तीसरा सोना जीतने का भी अच्‍छा मौका था, लेकिन 65 किग्रा के फाइनल में स्वीडन की हेना जोहानसन से 3-8 से हार कर साक्षी इससे चूक गईं और उन्‍हें रजत पदक से संतोष करना पड़ा। साक्षी ने सेमीफाइनल में विश्‍व विजेता पेट्रा ओली को हराया था।

 

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned