Youth Olympic 2018: इतिहास रचने के चूकीं भारतीय हॉकी टीमें, रजत पदक से करना पड़ा संतोष

Youth Olympic 2018: इतिहास रचने के चूकीं भारतीय हॉकी टीमें, रजत पदक से करना पड़ा संतोष

| Updated: 15 Oct 2018, 11:56:52 AM (IST) अन्य खेल

अर्जेंटीना में जारी तीसरे यूथ ओलम्पिक में भारत की अंडर 18 हॉकी टीम (पुरूष, महिला) को फाइनल में हार का सामना करते हुए रजत पदक से संतोष करना पड़ा।

नई दिल्ली। अर्जेंटीन की राजधानी ब्यूनस आयर्स में जारी तीसरे यूथ ओलम्पिक में रविवार को भारत की हॉकी टीमें (महिला और पुरुष) वर्ग बड़ा इतिहास रचने से चूक गई। खिताबी मुकाबले में भारत को दोनों वर्गों में हार का सामना करना पड़ा। इस हार के साथ ही भारतीय हॉकी टीमों को रजत पदक से संतोष करना पड़ा। पुरूष वर्ग में भारत को मलेशिया ने जबकि महिला वर्ग में भारत को मेजबान अर्जेंटीना ने मात दी। भले ही भारतीय टीम स्वर्ण पदक जीतने से चूक गई हो लेकिन पहली बार इस टूर्नामेंट में भाग लेते हुए भारतीय टीम ने जैसा प्रदर्शन किया, उसे विशेषज्ञों द्वारा सराहा जा रहा है।

पुरूष वर्ग में 4-2 के अंतर से मिली मात-
रविवार को भारत और मलेशिया के बीच खेले गए फाइनल मुकाबले में भारतीय टीम को 4-2 के अंतर से मात झेलनी पड़ी। भारतीय अंडर 18 हॉकी टीम के खिलाड़ियों ने इस मुकाबले में मलेशिया को कड़ी चुनौती दी, लेकिन वो टीम को जीत और स्वर्ण पदक दिला पाने में नाकाम रहे।

 

महिला वर्ग में मेजबान अर्जेंटीना की जीत-
महिला वर्ग में भारत और मेजबान अर्जेंटीना के बीच हुए खिताबी मुकाबले में भारत को 3-1 के अंतर से हार का सामना करना पड़ा। अपने घरेलू दर्शकों के बीच खेल रही अर्जेंटीनी टीम ने इस मैच में दमदार प्रदर्शन करते हुए स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया।

दोहरे अंकों में पहुंची पदकों की संख्या-
हॉकी में मिले इन दो रजत पदकों के साथ ही इस यूथ ओलम्पिक में भारत के पदकों की संख्या दोहरे अंकों में पहुंच गई है। बताते चले कि भारत को शूटिंग से दो स्वर्ण और भारोतोलन से एक स्वर्ण पदक मिले।

 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned