scriptsirajuddin haqqani interfere in pakistan government lift ban on tlp | सामने आया सच: इस शख्स के दबाव में पाकिस्तान सरकार को TLP से हटाना पड़ा प्रतिबंध, इमरान खान को मानना पड़ रहा इसका हर आदेश | Patrika News

सामने आया सच: इस शख्स के दबाव में पाकिस्तान सरकार को TLP से हटाना पड़ा प्रतिबंध, इमरान खान को मानना पड़ रहा इसका हर आदेश

पाकिस्तान की इमरान खान सरकार ने हाल ही में चरमपंथी प्रतिबंधित संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान यानी टीएलपी के उन सभी सदस्यों को जेल से रिहा करना पड़ा, जिन्हें बड़ी मुश्किल से पकड़ा गया था। यही नहीं, इमरान खान को इस चरमपंथी संगठन पर लगाया गया प्रतिबंध भी हटाना पड़ा। यह फैसले इमरान खान को तालिबान सरकार में आंतरिक मामलों के मंत्री और आतंकी संगठन हक्कानी नेटवर्क के प्रमुख सिराजुद्दीन हक्कानी के दबाव में लेने पड़े हैं।

 

नई दिल्ली

Published: November 08, 2021 08:16:33 pm

नई दिल्ली।

अफगानिस्तान में तालिबान की सत्ता आने के बाद वहां आंतरिक मामलों के मंत्री बने सिराजुद्दीन हक्कानी का दबदबा अब पाकिस्तान में भी बढ़ रहा है। हक्कानी को पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का खास माना जाता है।
haqqani.jpg
वहीं, अमरीका ने सिराजुद्दीन हक्कानी पर पांच मिलियन डॉलर का इनाम घोषित किया हुआ है। हक्कानी नेटवर्क को अमरीका ने आतंकी संगठन सूची में शामिल करते हुए प्रतिबंधित भी किया है। इसके बावजूद सिराजुद्दीन हक्कानी पाकिस्तान सरकार के साथ मिलकर तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (TTP) से वार्ता कर रहा है। विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि अफगानिस्तान में हक्कानी के बढ़ते रुतबे से तालिबान के और खूंखार होने का डर है। इससे न केवल अफगानिस्तान बल्कि, पूरी दुनिया को खतरा हो सकता है।
यह भी पढ़ें
-

जिस मंदिर को मुस्लिम कट्टरपंथियों ने एक साल पहले तोड़ा था, हिंदू समुदाय उसमें करने जा रहा समारोह, चीफ जस्टिस को दिया खास निमंत्रण, जानिए क्यों

विशेषज्ञों के मुताबिक, सिराजुद्दीन हक्कानी और उसका चाचा खलील दुनिया का सबसे दुर्दांत आतंकवादी संगठन हक्कानी नेटवर्क को चलाते हैं। यह एक कट्टर अफगान सुन्नी इस्लामी आतंकवादी संगठन है, जिसे तालिबान का हिस्सा माना जाता है। अमरीका ने 2012 में हक्कानी नेटवर्क को आतंकवादी संगठन करार दिया था।
हक्कानी नेटवर्क के सभी लड़ाके अपने आप में सबसे ज्यादा हिंसक हैं। सत्ता पाने के बाद हक्कानी के और अधिक खूंखार होने की संभावना है। इससे दुनिया में शांति और दयालु बनने का ढोंग कर रहे तालिबान को भी नुकसान पहुंच सकता है। वह खुद ही तालिबान का सर्वेसर्वा बन सकता है, क्योंकि समूह में उसके विरोधी लोग काबुल से निर्वासित जीवन जी रहे हैं। मुल्ला बरादर और मुल्ला यूसुफ तालिबान के दो ऐसे नेता हैं जिनका सिराजुद्दीन हक्कानी से पुरानी दुश्मनी है।
यह भी पढ़ें
-

कश्मीर पर इस्लामिक सहयोग संगठन ने फिर की बकवास, पाकिस्तान में हुर्रियत कांफ्रेंस के साथ की बैठक

सिराजुद्दीन हक्कानी के नेतृत्व में ही हक्कानी नेटवर्क पहले से कहीं अधिक खूंखार हुआ। इसी ने काबुल में सबसे पहले हाई-प्रोफाइल आत्मघाती हमलों की सीरीज शुरू की। वास्तव में, हक्कानी नेटवर्क तालिबान का पहला ऐसा धड़ा था जिसने आत्मघाती बम विस्फोटों को अपनाया।
हक्कानी ने आत्मघाती हमलों का तरीका अल कायदा से सीखा और 2004 में उपयोग करना शुरू किया। पिछले दो दशक में काबुल में जितने भी हमले हुए हैं, उनसें से 90 फीसदी में हक्कानी नेटवर्क का हाथ था। हक्कानी और अल कायदा के बीच संबंध आज भी मजबूत हैं। ऐसे में अफगानिस्तान की धरती पर अल कायदा के एक बार फिर मजबूत होने का अंदेशा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Corona Update in Delhi: दिल्ली में संक्रमण दर 30% के पार, बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 24,383 नए मामलेSSB कैंप में दर्दनाक हादसा, 3 जवानों की करंट लगने से मौत, 8 अन्य झुलसे3 कारण आखिर क्यों साउथ अफ्रीका के खिलाफ 2-1 से सीरीज हारा भारतUttar Pradesh Assembly Election 2022 : स्वामी प्रसाद मौर्य समेत कई विधायक सपा में शामिल, अखिलेश बोले-बहुमत से बनाएंगे सरकारParliament Budget session: 31 जनवरी से होगा संसद के बजट सत्र का आगाज, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगाHowrah Superfast- हावड़ा सुपरफास्ट से यात्रा करने वाले यात्रियों को परिवर्तित मार्ग से करना पड़ेगा सफर, इन स्टेशनों पर नहीं जाएगी ट्रेनपूर्व केंद्रीय मंत्री की भाजपा में वापसी की चर्चाएं, सोशल मीडिया पर फोटो से गरमाई सियासतTrain Reservation- अब रेल यात्रियों के पांच वर्ष से छोटे बच्चों के लिए भी होगी सीट रिजर्व, जानने के लिए पढ़े पूरी खबर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.