खदान में काम कर रहे श्रमिक पर पत्थर गिरा, मौत

-मुआवजे की मांग को लेकर अड़े रहे परिजन, चार घंटे बाद बनी सहमति

By: Suresh Hemnani

Updated: 18 Sep 2021, 08:20 PM IST

पाली/बर मारवाड़। खदानों में काम कर रहे श्रमिकों की जानमाल की परवाह नहीं होने से शनिवार को एक श्रमिक को अपनी जान गंवानी पड़ी। श्रमिक पर पत्थर गिरने से उसकी मौत हो गई। इधर, घटना को लेकर परिजनों ने चार घंटे तक शव नहीं उठाया। आखिरकार, मुआवजे पर सहमति बनने पर परिजन शव लेने के लिए राजी हुए।

पुलिस के अनुसार ग्राम बिराटिया कलां निवासी भाखरराम बावरी (30) पुत्र सुगनलाल बावरी खदानों में पत्थर निकालने का काम करता है। शनिवार को वह बर के समीप खदान में काम कर रहा था। इस दौरान एक पत्थर इसके ऊपर आ गिरा जिससे युवक गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे बर अस्पताल लाया गया, जहां उसे चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। घटना की जानकारी लगते ही परिजनों के साथ बिराटिया कलां सरपंच प्रतिनिधि शैतान नायक सहित ग्रामीणों ने मुआवजे की मांग को लेकर शव उठाने से इनकार कर दिया। करीब चार घंटे के बाद खान मालिक व परिजनों में मुआवजे पर सहमति बनी। उसके बाद शव का पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सुपर्द किया। जानकरी के अनुसार मृतक युवक का छह माह पहले ही मुकलावा हुआ था।

पत्रिका ने चेताया था
खदानों में असुरक्षा में काम कर रहे श्रमिकों के हालात और खतरों को लेकर पत्रिका ने आगाह किया था। खदानों में श्रमिकों के लिए न तो सुरक्षा उपकरण और न ही और कोई सुरक्षा उपाय। ऐसे में उनके साथ कभी भी ऐसे हादसे हो सकते हैं। आसपास के गांवों के ग्रामीणों का यही रोजगार है।

खनिज विभाग गंभीर नहीं
खनिज विभाग का अंकुश नहीं होने से न केवल अवैध खनन का कारोबार फल-फूल रहा है, बल्कि खदानों में सुरक्षा उपाय भी नहीं है। सुरक्षा उपकरणों की कमी के कारण अक्सर हादसे हो रहे हैं। इस बारे में खनन विभाग के सहायक अभियंता श्याम खापरी का कहना है कि अवैध खनन पर अंकुश लगाने के लिए अभियान चलाया जाएगा।

Suresh Hemnani
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned