VIDEO : Reet 2021 : परीक्षा नियमों की अनदेखी की तो केन्द्रों पर उतरवाएं आभूषण, खुलवाएं जुड़े, काटी आस्तीन

-परीक्षा केन्द्रों पर अभ्यर्थियों की सुबह आठ बजे ही लगने लगी कतार
-परीक्षार्थियों के जूते उतरवाएं केन्द्रों के बाहर
-हर परीक्षार्थी को मेडिकल टीम ने दिए सर्जिकल मास्क

By: Suresh Hemnani

Published: 26 Sep 2021, 09:01 PM IST

पाली। अध्यापक पात्रता परीक्षा (रीट) में अभ्यर्थी नियमों की अनदेखी कर परीक्षा केन्द्रों पर पहुंच गए। इस पर वहां मौजूद पुलिसकर्मियों व कार्मिकों ने महिला अभ्यर्थियों के नाक की फिणी, कानों की बालियां, हाथों की चूडिय़ां उतरवाने के साथ फूल बांह के पहने कपड़ों तक को काटा। वहीं पुरुष अभ्यर्थियों के भी कानों में पहनी बालियां आदि उतरवाई। शहर के एक केन्द्र पर एक महिला ने हाथ में पहना चूड़ा सुहाग की निशानी बताते हुए उतारने से इनकार कर दिया। इसके बाद अधिकारियों ने चर्चा कर उसे प्रवेश दिया। मास्क लगाकर पहुंचे अभ्यर्थियों के मास्क भी केन्द्र के बाहर ही उतरवा दिए गए। केन्द्रों में अभ्यर्थियों को नंगे पैर जाने दिया गया। इस पर अभ्यर्थियों ने आस-पास के पेड़ों व दीवारों पर मास्क आदि लटकाए। बांगड़ स्कूल परीक्षा केन्द्र पर एक अभ्यर्थी ने फूल बाह के शर्ट की बांहे कटवाने से इनकार किया और बनियान पहनकर ही परीक्षा भवन में प्रवेश किया।

कपड़े काटने पर रो पड़ी महिला
बांगड़ स्कूल में महिला पुलिसकर्मी के महिला अभ्यर्थियों की जांच करने के दौरान एक महिला के फूल स्लीव के कपड़ों की बांहे काटने पर वह रो पड़ी। वह रोते हुए बोली...इस तरह कोई जांच करता है क्या और कपड़े काटता है क्या। केन्द्रों के बाहर कई महिलाओं व पुरुषों के नाक-कान में पहने आभूषण नहीं उतरे तो उनको कैची से काटा गया। उन आभूषणों को अभ्यर्थियों ने वहां मौजूद पुलिसकर्मियों को सौंपा और परीक्षा समाप्ति के बाद वापस लिए।

परिजन बच्चों को लेकर बैठे रहे बाहर
कई अभ्यर्थियों के परिजन भी उनके साथ आए। कलक्ट्रेट परिसर में नाना-नानी अपने दूधमुंहे दोहिते को पाले में झूला देकर बेटे के परीक्षा देकर बाहर आने का इंतजार करते रहे। बांगड़ कॉलेज में एक पिता अपने छोटे बच्चे को गर्मी से राहत देने के लिए अखबार से हवा करता रहा। वह कई बार बच्चे के रोने पर उठता और उसे पेड़ों की छांव में घुमाकर दुलारता रहा। ऐसी ही स्थिति बालिया स्कूल, गल्र्स कॉलेज के पास भी देखने को मिली।

हर केन्द्र के बाहर खड़ी रही बसें
अभ्यर्थियों को गंतव्य तक ले जाने के लिए हर केन्द्र के बाहर बसें खड़ी रही। जिससे अभ्यर्थियों को बस स्टैण्ड या रेलवे स्टेशन नहीं जाना पड़े और वहां भीड़ नहीं हो। शहर के बालिया स्कूल, महावीर स्कूल, गल्र्स कॉलेज, बांगड़ स्कूल के पास, सेंटपॉल स्कूल, हाउसिंग बोर्ड, चिमनपुरा आदि क्षेत्रों में परीक्षा समाप्ति के बाद अभ्यर्थी सीधे बसों में बैठे और अपने गांवों व शहरों की तरफ रवाना हुए।

Suresh Hemnani
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned