तेजस्वी में नहीं इतनी काबिलियत जो नीतीश कुमार पर उठा सके सवाल-सुशील मोदी

तेजस्वी में नहीं इतनी काबिलियत जो नीतीश कुमार पर उठा सके सवाल-सुशील मोदी

Prateek Saini | Publish: Dec, 01 2018 04:46:53 PM (IST) Patna, Patna, Bihar, India

तेजस्वी यादव के तीखे हमलों पर नीतीश कुमार ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है पर राज्य के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी, नीतीश कुमार के बचाव में उतर आए है...

(पटना): बिहार में राजनीतिक सरगर्मियां चरम पर है। विपक्ष की ओर से सरकार व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर हमले किए जा रहे है। इसका असर विधानमंडल के शीतकालीन सत्र पर भी पड़ा जिसके पांचों दिन हंगामे की भेंट चढ़ गए। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव नीतीश कुमार पर हमले करने में सबसे आगे है। तेजस्वी यादव हर मोर्चे पर राज्य में बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर नीतीश कुमार को आडे हाथ ले रहे है। तेजस्वी यादव के तीखे हमलों पर नीतीश कुमार ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है पर राज्य के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी, नीतीश कुमार के बचाव में उतर आए है। तेजस्वी यादव पर तीखा प्रहार करते उन्होंने कहा है कि तेजस्वी में इतनी काबिलियत नहीं है कि वह नीतीश कुमार के काम पर सवाल उठा सके।

 

 

 

लालू—राबड़ी को दें पुरस्कार

सुशील मोदी ने ट्वीट करते हुए कहा कि पहली बार विधायक बनने वाले तेजस्वी प्रसाद यादव की इतनी काबिलियत नहीं है कि वे किसी वर्तमान मुख्यमंत्री के काम का मूल्यांकन कर सकें,लेकिन अगर वे बिहार के वर्स्ट परफार्मिंग एक्स सीएम का अवार्ड देना चाहें, तो यह पुरस्कार वे अपने माता—पिता को अवश्य दे सकते हैं, जिनके 15 साल के शासन में कई नरसंहार और दंगे दलितों—अल्पसंख्यकों की पीढियां तबाह कर गए।

 

राजद के प्रमाण पत्र की नहीं कोई जरूरत

इसी के साथ उन्होंने लिखा कि गुड गवर्नेंस और ईमानदारी के लिए जिस नीतीश कुमार को 2010 में फोर्ब्स इंडि्या के पर्सन ऑफ द ईयर अवार्ड सहित राष्ट्रीय ख्याति के कई पुरस्कार मिल चुके हैं, उसे राजद के सर्टीफिकेट की जरूरत नहीं।

 

नहीं दिखते कानून के लंबे हाथ

बिहियां बाजार में महिला को निर्वस्त्र कर घुमाने के मामले में दोषियों को सजा मिलने की बात को एनडीए सरकार की सुदृढ़ कानून—शासन व्यवस्था का उदाहरण बताते हुएअपने दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा कि एनडीए सरकार ने कानून के शासन का जो उच्च मानक गढ़ा है,उसका ताजा उदाहरण है बिहिया बाजार की घटना,जिसमें दलित महिला को निर्वस्त्र घुमाने के मामले में सभी 20 आरोपी 100 दिन के भीतर दोषी करार दिए गए। कानून—व्यवस्था पर छाती पीटने वालों को कानून के लंबे हाथ नहीं दिखते।

Ad Block is Banned