'देर ना हो जाए कहीं देर ना हो जाए' गाने के जरिए याद आएंगे फरीद साबरी

- जयपुर के साबरी ब्रदर्स के नाम से मशहूर फरीद साबरी का इंतकाल, आमिर खान की शादी में दी थी स्पेशल परफॉर्मेंस

By: Anurag Trivedi

Published: 21 Apr 2021, 06:13 PM IST

जयपुर. राज कपूर साहब की फिल्म 'हिना' फिल्म का गाना 'देर ना हो जाए कहीं देर ना हो जाए' गाने के जरिए उस्ताद फरीद साबरी हमेशा लोगों की दिलों और जुबान पर रहेंगे। यह गाना उन्होंने अपने पिता सईद साबरी, लता मंगेश्कर और सुरेश वाडेकर के साथ गाया था। कव्वाल फरीद साबरी आज इस दुनिया में नहीं है, लेकिन उनकी कव्वाली और शायरी लोगों को उनकी याद जरूर दिलाती रहेगी। मथुरावालों की हवेली से निकले फरीद साबरी अपने पिता और भाई की जोड़ी के साथ साबरी ब्रदर्स के रूप में विख्यात थे। उन्होंने 'परदेस', 'सिर्फ तुम', 'बरसात की रात', 'ये दिल आशिकाना', 'परवाना' जैसी फिल्मों के लिए गाने गाए।

नूरसत साहब को गाना था हिना का गाना
फरीद साबरी ने पत्रिका को एक इंटरव्यू में कहा था कि 'हिना' फिल्म का 'देर ना हो जाए...' गीत को डायरेक्टर नुसरत फतेह अली खान साहब या पाकिस्तान के साबरी ब्रदर्स से गवाना चाहते थे, लेकिन म्यूजिक कंपोजर रवीन्द्र जैन हम पर विश्वास जताया और फिल्म प्रोड्यसूर्स को कहा कि ये आपको बिलकुल निराश नहीं करेंगे। इस गाने में साथ में लता मंगश्कर थी, गाने से पैर छूकर प्रार्थना की। इसके बाद जब यह गाना आया तो हर तरफ से खूब मुबारकबाद मिली और हर कॉन्सर्ट में इस गाने की फरमाईश जरूर होती रही।

पंकज उदास का कॉम्प्लीमेंट

एक कार्यक्रम में पंकज उदास के सामने साबरी ब्रदर्स प्रस्तुति दे रहे थे और फरीद ने एक गजल सुनाई। इस कॉन्सर्ट के बाद उदास सीधे फरीद के पास पहुंचे और कहने लगे कि आपकी गजल हमेशा मेरे जहन में रहेगी। ऐसा लाग ही नहीं कि किसी कव्वाल ने ये गजल गाई है। उदास ने उन्हें यह भी कहा कि १९९६ में विनस के चंपक जैन ने आकर बताया था कि उफ्फ ये मोहब्बत की कव्वाली 'दीवानी दीवानीÓ हमारे सभी रिकॉड्र्स से ज्यादा पसंद की गई। यह कॉम्प्लीमेंट साबरी ब्रदर्स को हमेशा याद रहता है और वे हमेशा इसका जिक्र जरूर करते हैं।

आमिर खान के घर की शान

आमिर खान ने सिटी पैलेस के एक कार्यक्रम में कहा था कि जयपुर के फरीद साबरी सहित उनके परिवार से मेरे निजी ताल्लुकात है। मेरी शादी में तो इन लोगों ने हंगामा ही मचा दिया था, शादी में आए लोग बिना पिए ही नशेमन हो गए। इनकी शायरी पर झूमने का दौर देर रात तक चला। आमिर खान जब भी जयपुर आते थे तो वे साबरी ब्रदर्स से जरूर मुलाकात करते थे और अपने निजी कार्यक्रमों में इन्हें जरूर आमंत्रित करते थे।
कलाकारों ने दिया ट्रिब्यूट
शहर के कलाकारों कलाप्रेमियों ने फरीद साबरी के निधन के बाद सोशल मीडिया के जरिए अपना शोक व्यक्त किया। ग्रेमी अवॉर्ड विनर पं. विश्वमोहन भट्ट, ईला अरुण, उस्ताद अहमद हुसैन, मोहम्मद हुसैन, उस्ताद वासिफुद्दीन डागर, रवीन्द्र उपाध्याय, सरताज नारायण माथुर, अनंत व्यास, ईश्वर दत्त माथुर, अरशद हुसैन सहित कई लोगों ने फरीद साबरी को याद किया।

Anurag Trivedi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned