मामल्लापुरम में मिलेंगे जिनपिंग और पीएम मोदी, जानें महाबलीपुरम का भगवान विष्णु से कनेक्शन

महाबलीपुरम का नाम राक्षस राजा महाबली के नाम पर रखा गया था।

By: Devendra Kashyap

Updated: 11 Oct 2019, 11:32 AM IST

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और पीएम मोदी चेन्नई के महाबलीपुरम में आज मिलेंगे। चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग दो दिन की यात्रा पर आज भारत पहुंच रहे हैं। ऐसे में महाबलीपुरम के बारे में जानना बहुत जरूरी है। महाबलीपुरम का नाम राक्षस राजा महाबली के नाम पर रखा गया था।

gettyimages-171692475-170667a.jpg

पौराणिक कथाओं के अनुसार, राक्षस महाबली का वध भगवान विष्णु ने किया था। बाद में पल्लव वंश के राजा नरसिंह वर्मन, जिन्हें मामल्ला के नाम से जाना जाता था। उन्होंने महाबलीपुरम का नाम मामल्लापुरम रख दिया।

gettyimages-571381289-170667a.jpg

यह स्थान कई भव्य मंदिरों, स्थापत्य और सागर तटों के लिए विश्व प्रसिद्ध है। इतिहासकारों की मानें तो 7वीं और 10वीं सदी में पल्लव वंश के राजाओं द्वारा बनाए गए कई मंदिर यहां के शोभा बढ़ाते हैं। आज के दिन में महाबलीपुरम एक बहुत ही प्रसिद्ध पर्यटक स्थल बन गया है। यह शहर यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज का एक हिस्सा बन गया है।

gettyimages-528339850-170667a.jpg

शोर मंदिर दक्षिण भारत के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक है। शोर मंदिर के परिसर में तीन मंदिर स्थित हैं, इनमें से एक मंदिर बड़ा और अन्य दो मंदिर अपेक्षाकृत छोटे हैं। ग्रेनाइट पत्थरों से बना यह मंदिर द्रविड वास्तुकला का एक शानदार नमूना है।

gettyimages-171692475-170667a.jpg

मंदिर के दीवारों पर की गई बारीक नक्काशियां बहुत आकर्षक हैं। शोर मंदिर का मुख्य मंदिर पांच मंजिला है और यह भगवान शिव को समर्पित है। मंदिर के गर्भगृह में एक शिवलिंग भी है। शोर मंदिर का मुख्य आकर्षण पांच पांडव रथ है, जिनमें से चार पांडवों के नाम पर हैं लेकिन पांचवें रथ को द्रौपदी रथ के नाम से जाना जाता है।

gettyimages-571381289-170667a.jpg

जानवरों की मूर्तियां

इतिहासकारों की मानें तो शोर मंदिर का निर्माण पल्लव वंश के राजाओं ने किया था। लेकिन बाद में चोल वंश के राजाओं ने मंदिरों में कई प्रकार की गाय, सांड, दुर्गा और सिंह जैसे कई अन्य मूर्तियां बनाई गई, जो बहुत ही अद्भुत हैं।

gettyimages-535864310-170667a.jpg

छोटे-छोटे गुफाएं

महाबलीपुरम में कई छोटे-छोटे कई गुफाएं आपको दिख जाएंगे। इन गुफाओं में आपकों शेर भी दिख जाएंगे। लेकिन ये सच के शेर नहीं है। ये शेर की मूर्तियां पत्थर में उभरे हुए हैं। इसे टाइगर गुफा के नाम से जाना जाता है। इसे भी पल्लव वंश के राजाओं द्वारा ही बनाया गया था।

pm modi
Show More
Devendra Kashyap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned