सिपाहियों ने खनन माफिया को खदेड़ा, भैंसा गाड़ी छोड़ खेत में छिपे

Mukesh Kumar

Publish: Sep, 17 2017 02:28:57 (IST)

Pilibhit, Uttar Pradesh, India
सिपाहियों ने खनन माफिया को खदेड़ा, भैंसा गाड़ी छोड़ खेत में छिपे

योगी आदित्यनाथ सरकार ने भले ही एंटी भू माफिया टास्क फोर्स का गठन कर दिया हो, लेकिन फिर भी प्रदेश में धड़ल्ले से अवैध खनन हो रहा है।

पीलीभीत। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने भले ही एंटी भू माफिया टास्क फोर्स का गठन कर दिया हो, लेकिन फिर भी प्रदेश में धड़ल्ले से अवैध खनन हो रहा है। ताजा मामला पीलीभीत जिले का है। यहां देवहा नदी में खनन माफिया धड़ल्ले से रेत का खनन कर रहे हैं। रविवार को दो सिपाहियों ने कुछ खनन माफिया को खदेड़ दिया। पुलिस को देखकर खनन माफिया अपने भैंसे व गाड़ी छोड़ भाग निकले और गन्ने के खेतों में छुप गए।


देवहा नदी में होता है अवैध खनन
पीलीभीत के कोतवाली सदर क्षेत्र में देवहा नदी अवैध खनन माफियाओं का अड्डा है। यहां बेखौफ खनन माफिया रेत खनन करते चले आ रहे हैं। पिछली सरकार में यहां जिला प्रशासन और नेताओं की मिलीभगत से अवैध खनन होता था। अब सरकार बदलने के साथ ही जिले के खनन माफियाओं ने अवैध खनन करने का तरीका भी बदल लिया। खनन माफिया अब अपनी भैंसा गाड़ी से अवैध करते हैं। पुलिस से बचने के लिए खेतों के रास्ते से खनन किया गया रेत शहरों में पहुंचाते हैं।


भैंसा गाड़ी छोड़कर भागे खनन माफिया
रविवार को 100 नंबर पर कोतवाली पुलिस को सूचना मिली थी कि देवहा नदी के किनारे कुछ लोग अवैध खनन कर रहे हैं। इस पर कोतवाली सदर की पवन मोबाइल नंबर 4 पर तैनात दो सिपाही धीरेश कुमार और योगेन्द्र सिंह मौके पर पहुंचे। पुलिस को देखते ही खनन माफिया अपनी भैंसा गाड़ियां छोड़कर नदी पार कर भाग निकले।


सिपाहियों ने खनन माफियाओं का किया पीछा
दोनों सिपाहियों ने हिम्मत दिखाते हुए उनका पीछा भी किया, लेकिन वे लोग गन्ने के खेत में छिप गये। जिसके बाद दोनों सिपाही वापस लौट आए और कोतवाली पुलिस को सूचना दी। सिपाही धीरेश कुमार ने बताया कि पुलिस ने खनन माफियाओं की भैंसा गाड़ियां कब्जे में ले ली है। पुलिस अब खनन माफियाओं की पहचान करने में जुटी है।

 

 

 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned