फजीहत के बाद पुलिस ने बरामद किशोरी को कोर्ट में किया पेश, जानिए क्या है पूरा मामला!

एसपी से शिकायत के बाद न्यूरिया थाना पुलिस ने कोर्ट में दर्ज कराए बयान

 

By: suchita mishra

Updated: 19 Jan 2019, 02:07 PM IST

पीलीभीत। न्यूरिया थाने से अपहृत नाबालिग को आखिरकार फज़ीहत होने के बाद पुलिस ने मेडिकल कराकर कोर्ट में पेश किया है। न्यूरिया पुलिस ने आज 10 दिन बाद किशोरी का मेडिकल कराने के बाद न्यायालय में पेश किया। बीते दिन नाबालिग किशोरी की मां व परिजनों ने थाना पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुए एसपी से शिकायत की थी। आरोप था कि न्यूरिया पुलिस ने 9 जनवरी को ही उसकी पुत्री को बरामद किया था। लेकिन न्यूरिया पुलिस ने उसे न तो मेडिकल के लिए भेजा और न ही उसका न्यायालय में बयान कराया। इस संबंध में उसकी मां पुलिस अधीक्षक से मिली थी।

 

यह थी घटना
थाना न्यूरिया के एक गांव से 31 दिसंबर को गांव का ही एक युवक पर किशोरी के अपहरण का आरोप लगा था। किशोरी की मां ने थाना न्यूरिया में युवक अजय सहित चार लोगों के खिलाफ तहरीर देकर रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इस मामले में रिपोर्ट दर्ज होने के बाद नौ जनवरी को ही किशोरी को बरामद कर लिया था। किशोरी की मां ने 18 जनवरी को पुलिस अधीक्षक के समक्ष पेश होकर एक प्रार्थनापत्र दिया था कि न्यूरिया पुलिस ने उसकी पुत्री को न्यायालय में पेश नहीं किया और न ही उसका मेडिकल कराया। मां का यह भी आरोप था कि पुलिस दबाव बना रही है कि पुत्री आरोपियों के पक्ष में बयान दें। उनका आरोप था कि न्यूरिया पुलिस आरोपियों से मिली है, क्योंकि आरोपी काफी पैसे वाले है। किशोरी की मां का यह भी कहना है कि जब वह न्यूरिया पुलिस से मिली और किशोरी का न्यायालय में पेश करने का आग्रह किया तो पुलिस का कहना था कि जब उनकी मर्जी होगी तब वह कोर्ट में पेश करेंगे।

ये बोले एसपी
18 जनवरी को किशोरी के परिजनों के पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार सोनकर के समक्ष पेश होने के बाद न्यूरिया थाना पुलिस ने किशोरी का मेडिकल कराकर बयान दर्ज करवाए। लेकिन जब मीडिया ने पुलिस अधीक्षक से सवाल पूछा तो वो बोले कि ऐसा कोई मामला उनके संज्ञान में ही नहीं है।

Show More
suchita mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned