विभागों के बंटवारे पर कुमारस्वामी बोले-मतभेद है..लेकिन जल्द दूर होगी समस्याएं

विभागों के बंटवारे पर कुमारस्वामी बोले-मतभेद है..लेकिन जल्द दूर होगी समस्याएं

Prashant Kumar Jha | Updated: 26 May 2018, 09:45:02 PM (IST) राजनीति

कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की सरकार भले ही बन गई हो लेकिन विभागों को बंटवारे को लेकर राजनीतिक रस्साकशी अभी भी जारी है।

नई दिल्ली: कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की सरकार भले ही बन गई हो लेकिन विभागों को बंटवारे को लेकर राजनीतिक रस्साकशी अभी भी जारी है। कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने शनिवार को कहा कि गठबंधन में विभागों के बंटवारे को लेकर कुछ मतभेद हैं। उन्होंने कहा कि जल्द ही इस समस्या का हल निकाला जाएगा। हालांकि उन्होंने कहा कि बहुमत पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

नोटबंदी को लेकर नीतीश कुमार का बड़ा बयान, कहा- जनता को नहीं मिला योजना का पूरा लाभ

सोनिया गांधी के साथ करेंगे इन मुद्दों पर चर्चा

बताते चलें कि सीटों को बंटवारे को लेकर प्रदेश कांग्रेस के नेता पार्टी आलाकमान के साथ चर्चा के लिए दिल्ली पहुंच चुके हैं। कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रमुख जी परमेश्वर, पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरमैया और डी के शिवकुमार सहित कांग्रेस के नेताओं के कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और उनकी मां सोनिया गांधी के साथ इन मुद्दों पर चर्चा करेंगे।

रंगदारी केस में पटियाला कोर्ट ने दिया दोषी करार, 5 करोड़ न देने पर दी थी जान से मारने की धमकी

बता दें कि कर्नाटक में मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली सरकार ने दो दिन पूर्व भाजपा के विधायकों के विधानसभा से बहिगर्मन के बीच ध्वनिमत से विश्वासमत हासिल कर लिया था। इसके साथ ही यहां एक हफ्ते से चले आ रहे राजनीतिक नाटक का विधिवत पटाक्षेप हुआ। जनता दल-सेक्युलर (जेडी-एस) और कांग्रेस गठबंधन के 116 विधायकों ने विश्वास प्रस्ताव के पक्ष में अपना समर्थन दिया। जबकि भाजपा के 104 विधायक विश्वासमत से पहले ही सदन से बाहर चले गए थे। विधानसभा अध्यक्ष इसके बाद स्पीकर के.आर. रमेश कुमार ने प्रस्ताव के लिए मतदान कराया, जिसका समर्थन जेडी-एस के 36, कांग्रेस के 77, बहुजन समाज पार्टी के एक, कर्नाटक प्रज्ञवंता जनता पार्टी के एक और एक निर्दलीय विधायक सहित 116 विधायकों ने ध्वनिमत से नई सरकार को समर्थन दिया। अध्यक्ष रमेश कुमार ने मतदान नहीं किया था।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned