scriptPashupati Paras removes Chirag Paswan from post of LJP President | चिराग पासवान को एक और बड़ा झटका, चाचा पशुपति पारस ने अध्यक्ष पद से हटाया | Patrika News

चिराग पासवान को एक और बड़ा झटका, चाचा पशुपति पारस ने अध्यक्ष पद से हटाया

locationनई दिल्लीPublished: Jun 15, 2021 05:57:17 pm

Submitted by:

Anil Kumar

पशुपति कुमार पारस समर्थित नेताओं ने LJP संविधान का हवाला देते हुए चिराग पासवान को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद से हटा दिया है।

chirag_paswan.png
Pashupati Paras removes Chirag Paswan from post of LJP President

पटना। लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के अंदर मचे सियासी घमासान के बीच चिराग पासवान को एक और बड़ा झटका लगा है। चिराग पासवान को अब पार्टी के राष्ट्रयी अध्यक्ष पद से भी हटा दिया गया है। पशुपति कुमार पारस समर्थित नेताओं ने LJP संविधान का हवाला देते हुए चिराग को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद से हटाया है।

इससे पहले बीते दिन लोकसभा अध्यक्ष ओम बिडला ने एलजेपी के संसदीय दल के नेता के तौर पर पशुपति पारस को मान्यता दी थी।

यह भी पढ़ें
-

चिराग पासवान को बड़ा झटका, लोकसभा अध्यक्ष ने LJP नेता के तौर पर पशुपति पारस को दी मान्यता

एलजेपी के नेताओं का कहना है कि चिराग पासवान तीन-तीन पदों पर काबिज थे। सूत्रों के हवाले से मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि पशुपति कुमार पारस 20 जून तक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभाल लेंगे।

चिराग ने बुलाई राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक

पार्टी के संसदीय दल के नेता और राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाद अब चिराग पासवान ने पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई है। चिराग के समर्थकों ने पटना में चाचा पशुपति पारस के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए हंगामा किया। विरोध में समर्थकों ने पशुपति पारस समेत सभी 5 सांसदों और नीतीश कुमार की तस्वीरें भी जलाईं।

चिराग ने चाचा के नाम किया भावुक ट्वीट

पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाने से पहले चिराग पासवान ने चाचा पशुपति पारस के नाम एकबेहद भावुक ट्वीट किया। उन्होंने कहा कि पापा की मौत के बाद आपके व्यवहार से टूट गया। मैं पार्टी और परिवार को साथ रखने में असफल रहा। इस ट्वीट के साथ चिराग ने एक पुराना पत्र भी शेयर किया है।

चिराग पासवान ने ट्वीट में लिखा- ''पापा की बनाई इस पार्टी और अपने परिवार को साथ रखने के लिए किए मैंने प्रयास किया लेकिन असफल रहा। पार्टी मां के समान है और मां के साथ धोखा नहीं करना चाहिए। लोकतंत्र में जनता सर्वोपरि है। पार्टी में आस्था रखने वाले लोगों का मैं धन्यवाद देता हूं। एक पुराना पत्र साझा करता हूं।''

ट्रेंडिंग वीडियो