राहुल गांधी के नामांकन के बाद कांग्रेस में जश्न, प्रणब दा ने लगाया विजय तिलक

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के अध्यक्ष बनने का काउंटडान शुरु हो चुका है। राहुल आज कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल करेंगे।

नई दिल्ली। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के अध्यक्ष बनने का काउंटडान शुरु हो चुका है। राहुल गांधी ने आज कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल कर दिया है। इस दौरान राहुल के वर्तमान कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, अहमद पटेल समेत कांग्रेस के बड़े नेता मौजूद रहे।

 

 

ऐसा माना जा रहा है कि चुनाव मैदान में राहुल गांधी के एकमात्र उम्मीदवार रहने की संभावना है। जिससे उनके लिए अध्यक्ष चुने जाने की पूरी उम्मीद है। रविवार तक इस पद के लिए किसी ने नामांकन दाखिल नहीं किया है और सोमावार आखिरी दिन है। इस लिहाज से भी उनका अध्यक्ष बनना लगभग तय है।

 

राहुल के पक्ष में 75 नामांकन
राहुल गांधी नामांकन पत्र के चार सेट दाखिल करने वाले हैं। जिसमें एक में खुद सोनिया गांधी प्रस्तावक होंगी जबकि दूसरे नामांकन सेट में पूर्व पीएम मनमोहन सिंह प्रस्तावक बने।। खबर है कि राहुल के पक्ष में करीब 75 नामांकन दाखिल किए जाएंगे।


11 दिसंबर को हो सकती है घोषणा
पांच दिसंबर को नामांकन पत्रों की जांच की जाएगी और उसी दिन मान्य नामांकन पत्रों की सूची भी जारी कर दी जाएगी। नामांकन वापस लेने की अंतिम तारीख 11 दिसंबर है। अगर इस पद के लिए राहुल गांधी इकलौत प्रत्याशी हुए तो उसी दिन नए अध्यक्ष की घोषणा की जा सकती है।


19 साल से अध्यक्ष हैं सोनिया
बता दें कि कांग्रेस में करीब दो दशक के बाद कांग्रेस को नया अध्यक्ष मिलेगा। वर्तमान अध्यक्ष सोनिया गांधी ने 1998 से पार्टी की कमान संभाल रही हैं।


13 साल से सक्रिय राजनीति में
राहुल गांधी ने राजनीति में 2004 में प्रवेश किया था। उस वक्त वे अमेठी से लोकसभा चुनाव जीतकर संसद पहुंचे थे। बाद में राहुल गांधी को 2007 में कांग्रेस में संगठन महासचिव की जिम्मेदारी सौंपी गई। इस दौरान कांग्रेस 10 साल तक सत्ता में रही, लेकिन राहुल कभी भी मनमोहन सिंह की कैबिनेट में शामिल नहीं रहे और वे पार्टी के मोर्चे से ही राजनीति करते रहे।


5 साल से तेज हुई थी मांग
2012 में कांग्रेस की कमान राहुल गांधी को सौंपने की मांग तेज होने लगी थी। उस वक्त कांग्रेस का एक धड़ा राहुल गांधी को मनमोहन सिंह के स्थान पर प्रधानमंत्री भी बनाने की वकालत कर रहा था। जयपुर में जनवरी 2013 में राहुल गांधी को पार्टी का उपाध्यक्ष बनाया गया। तब से उन्हें लगातार अध्यक्ष बनाए जाने के कयास लगाए जा रहे थे, और माना जा रहा था कि लोकसभा चुनाव के बाद ऐसा होगा, लेकिन अब चार साल बाद उन्हें अध्यक्ष बनाया गया है।

Congress
Chandra Prakash Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned