विधायक अदिति सिंह पर जानलेवा हमला, अनियंत्रित होकर गाड़ी पलटने से हुईं घायल, लखनऊ रेफर

विधायक अदिति सिंह पर जानलेवा हमला, अनियंत्रित होकर गाड़ी पलटने से हुईं घायल, लखनऊ रेफर

Nitin Srivastva | Publish: May, 14 2019 11:40:39 AM (IST) | Updated: May, 14 2019 11:47:18 AM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

- जिला पंचायत अविश्वास प्रस्ताव से पहले जमकर हिंसा
- वोट करने जा रहे जिला पंचायत सदस्यों पर बेखौफ दबंगों ने की फायरिंग
- विधायिका अदिति सिंह की कार समेत उनके काफिले की तीन अन्य गाड़ियां भी पलटीं

रायबरेली . यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली से बड़ी खबर सामने आई है। रायबरेली में जिला पंचायत अविश्वास प्रस्ताव से पहले जमकर हिंसा हुई है। जिला पंचायत अविश्वास प्रस्ताव पर वोट करने जा रहे जिला पंचायत सदस्यों पर बेखौफ दबंगों ने फायरिंग और पथराव किया है। दबंगो ने कांग्रेस की सदर विधायका अदिति सिंह पर भी जानलेवा हमला किया है। विधायक अदिति सिंह की गाड़ी काफी दूर तक दबंगों से बचते हुए आगे चलती रही और फिर अचानक अनियंत्रित होकर पलट गई। जानकारी के अनुसार विधायिका की कार समेत उनके काफिले की तीन अन्य गाड़ियां भी पलट गई हैं। हादसे में विधायक अदिति सिंह घायल हो गई हैं, जिन्हें इलाज के लिए लखनऊ रेफर किया गया है। यह घटना रायबरेली में हरचंदपुर थाना क्षेत्र के मोदी स्कूल के पास हुई।


बहस के बाद होगा मतदान

दरअसल आज जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव को लेकर बहस के बाद मतदान होना है। अविश्वास प्रस्ताव में डीएम ने आज चुनाव कराने का ऐलान किया था। इसके लिए कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है। रायबरेली में गैर जिलों से पुलिस बल बुलाया गया है। जिला पंचायत के पूरे परिसर की बैरीकेडिंग की गई है और परिसर में जिला पंचायत सदस्यों के अलावा किसी की भी इंट्री पर रोक लगा दी गई है। आपको बता दें कि जिले के 31 जिला पंचायत सदस्यों ने जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास पेश करते हुए डीएम को प्रपत्र पर अविश्वास प्रस्ताव पेश किया था।


मतदान रोकने की साजिश

वहीं इससे पहले सपाइयों ने सोमवार को डीएम व एसपी को ज्ञापन देकर आरोप लगाया कि जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव से बचने के लिए एमएलसी मतदान रोके जाने की साजिश कर रहे हैं। सपाइयों ने डीएम व एसपी से मांग की कि जिला पंचायत सदस्यों को मतदान में जाने से कतई न रोका जाए। साथ ही मतदान प्रभावित न हो। इसके लिए अध्यक्ष के भाई व एमएलसी व विधायक भाई और अन्य परिवारीजनों व समर्थकों के मतदान परिसर प्रवेश पर पाबंदी लगाई जाए।

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned