डेंगू के नाम पर लूट-खसोट, स्वास्थ्य विभाग की टीम ने एक पैथालॉजी लैब किया सील, तीन को हिदायत

डेंगू के नाम पर लूट-खसोट, स्वास्थ्य विभाग की टीम ने एक पैथालॉजी लैब किया सील, तीन को हिदायत

Shiv Singh | Publish: Sep, 06 2018 12:09:45 PM (IST) Raigarh, Chhattisgarh, India

- शहर में लगातार लोग डेंगू से पीडि़त हो रहे हैं, अब तक मेडिकल कालेज अस्पताल में ही 16 मरीज सामने आ चुके हैं

रायगढ़. डेंगू जांच के नाम पर भी लूट-खसोट शुरू हो गया है। डेंगू जांच के लिए राशि निर्धारित कर दी गई है, लेकिन पैथोलॉजी लैब संचालक अपनी हरकतों से बाज नहीं आते हुए मरीजों से अधिक राशि वसूल कर रहे हैं। इस बात को लेकर स्वास्थ्य विभाग की टीम शहर में संचालित विभिन्न पैथोलॉजी लैबों में पहुंच रही है। इस दौरान लैब संचालकों को अधिक राशि वसूल करते हुए पाया गया। ऐसे में उनका लैब सील कर दिया गया, वहीं अन्य लैब संचालकों को निर्देशित किया गया है कि निर्धारित दर से ज्यादा राशि नहीं ली जाए।

शहर में लगातार लोग डेंगू से पीडि़त हो रहे हैं। अब तक मेडिकल कालेज अस्पताल में ही १६ मरीज सामने आ चुके हैं। डेंगू से बढ़ते मरीजों की संख्या को देखते हुए बीते दिनों कलक्टर ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ निजी क्लिनिक संचालकों व पैथोलॉजी लैब संचालकों की बैठक ली थी। बैठक के दौरान डेंगू जांच के लिए २५० रुपए निर्धारित किया गया था। इस निर्धारित दर से ही राशि लिए जाने का निर्देश दिया गया था।

Read More : मुसाफिरखाना में महिलाओं के करीब लेटने का प्रयास करने वाले आयुर्वेद दवा विके्रता को जीआरपी ने पकड़ा

बैठक के दौरान इसकी स्वीकृति भी दी गई थी, लेकिन पैथालॉजी लैब संचालकों के द्वारा मनमाना दर वसूल किया जा रहा है। डेंगू जांच कराने पहुंच रहे मरीजों से निर्धारित दर से अधिक की वसूली की जा रही है। इस बात की शिकायत मरीजों व उनके परिजनों के द्वारा कलक्टर से की गई। लगातार मिल रही इस शिकायत के बाद पैथोलॉजी लैबों में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने आकस्मिक निरीक्षण किया।

बीते मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम सारवी पैथालॉजी पहुंची थी। जहां निर्धारित राशि से ज्यादा दर वसूल किए जाने मामला सामने आया। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उक्त सारवी पैथालॉजी लैब को सील कर दिया। इसी तरह सिटी पैथालॉजी लैब भी स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची। यहां निर्धारित राशि से अधिक की वसूली नहीं किए जाने का निर्देश दिया गया।

आपदा का फायदा
इस मामले में यह देखने को मिल रहा है कि एक ओर शहर डेंगू के आतंक से परेशान है तो दूसरी ओर लैब संचालकों की मौज हो गई है। इन हालात में लैब वाले मनमाना पैसा पीडि़तों से वसूल रहे हैं, इस बात की शिकायत भी बकायदा कलक्टर से की गई है, इसके बाद ये कार्रवाई प्रारंभ हुई है।

पांच लैब की हुई जांच, मिली थी शिकायत
यह जांच की कार्रवाई बुधवार को भी चली। बुधवार को नर्सिंग होम एक्ट के नोडल अधिकारी डॉ. केडी पासवान व जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. टीजी कुलवेदी की टीम द्वारा निरीक्षण किया गया। यह टीम बुधवार को बालाजी, संजीवनी, पीडी अग्रवाल, प्रगति व सिटी हास्पिटल के लैब पहुंचे थे। हालांकि बालाजी व संजीवनी में डेंगू का जांच किया जाता है, लेकिन यहां निर्धारित राशि से अधिक दर वसूल करने की बात सामने नहीं आई। ऐसे में लैब संचालकों को निर्देशित किया गया है कि निर्धारित राशि से ज्यादा मरीजों से नहीं लिया जाए। इसी तरह अन्य तीन लैब संचालकों के द्वारा यह जानकारी दी गई कि वहां आने वाले मरीजों को मेकाहारा व अन्य लैब भेजा जाता है।

-कलक्टर से मिले निर्देश के बाद लैबों में जांच की जा रही है। इसके लिए टीम लगातार निरीक्षण कर रही है। एक लैब में निर्धारित दर से अधिक की राशि वसूल करते हुए पाया गया। ऐसे में उसे सील कर दिया गया है- डॉ. टीके टोंडर, प्रभारी, सीएमएचओ

Ad Block is Banned