जामगांव रेलवे क्रासिंग बंद होने का समय तय पर खुलने को लेकर विभाग कंफ्यूज

Rajkumar Shah

Publish: Oct, 12 2017 07:43:35 (IST)

Raigarh, Chhattisgarh, India
जामगांव रेलवे क्रासिंग बंद होने का समय तय पर खुलने को लेकर विभाग कंफ्यूज

हावड़ा-मुंबई रेल मार्ग पर स्थित जामगंाव रेलवे स्टेशन के पश्चिम गेट को बंद कर ट्रैक मेंटनेंस व अन्य कार्य किए जाएंगे।

रायगढ़. हावड़ा-मुंबई रेल मार्ग पर स्थित जामगंाव रेलवे स्टेशन के पश्चिम गेट को बंद कर ट्रैक मेंटनेंस व अन्य कार्य किए जाएंगे। रेलवे ने क्रासिंग बंद करने का समय शुक्रवार की सुबह 8 बजे से तय किया है।

पर फाटक खुलने का समय तय नहीं कर पाई है। रेलवे की ओर से जारी सूचना में शाम को कार्य पूरा होने तक फाटक बंद रखा जाएगा। सूत्रों की माने तो रेलवे के इस पहल के पीछे, कोतरारोड रेलवे फाटक में हुए उक्त कार्य को बताया जा रहा है।

तो तय समय के बाद 6 घंंटे बाद खुला था। जिससे 15 कि.मी तक वाहनों की लंबी कतार लग गई थी। ऐसे में, इस बार रेलवे ने ट्रैक मेंटनेंस के कार्य की समाप्ति के समय पर कोई स्पष्ट सूचना नहीं दी है।

जामगांव रेलवे स्टेशन के पश्चिम छोर पर स्थित रेलवे क्रासिंग को शुक्रवार की सुबह 8 बजे से बंद कर दिया जाएगा। इस बीच रेलवे द्वारा क्रासिंग के ट्रैक के अलावा अन्य जरुरी कार्य कराए जाने है। पर क्रासिंग बंद होने का समय तय किया गया है।

पर मरम्मत कार्य के बाद क्रासिंग खुलने व परिचालन बहाल करने को लेकर कोई सूचना नहीं दी गई है। वहीं मेंटनेंस कार्य समाप्त होने तक की बात कह गोलमटोल जवाब देने की पहल की गई है। इससे उक्त रास्ते गुजरने वाले कंपनी के वाहनों के अलावा निजी वाहन चालकों के बीच असमंजय की स्थिति बनी हुई है।

स्थानीय लोगों की माने तो रेलवे को पूर्व की भांति फाटक बंद होने व खुलने का समय भी निर्धारित करना चाहिए। जिससे आम लोगों केे बीच कोई असमंजस की स्थिति उत्पन्न हो गई। रेलवे के इस फैसले के पीछे कोतरारोड रेलवे क्रासिंग पर हुए मरम्मत कार्य का हवाला दिया जा रहा है।

जिसमें रेलवे क्रासिंग को रात 9 से सुबह 9 बजे तक बंद करने को लेकर सूचना दी गई थी। पर तीसरी लाइन बिछाने को लेकर ठेकेदार कम मजदूरां केे साथ पहुंचे। ऐसे में, जो काम सुबह 8-9 बजे पूरा होना था। वो दोपहर 3 बजे तक हुआ।

इसकी वजह से रायगढ़ सेे लेकर गेरवानी यानी 15 कि.मी तक वाहनों की लंबी कतार लग गई थी। जिसमेंं भारी वाहनों के साथ स्कूल व कंपनी की बसें भी शामिल थी। यहीं वजह है कि रेलवे ने इस बार ट्रैक मेंंटनेंस के कार्य की समाप्ति के समय को तय नही कर पाई है। जो स्थानीय वाहन चालकों के साथ ही कंपनियों के लिए भी परेशानी का सबब बन सकता है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned