प्रदेश में 4100 रजिस्टर्ड BAMS डॉक्टर, कोरोना के इलाज में आखिर क्यों नहीं ली जा रही इनकी मदद

- प्रदेश में 2 शासकीय आयुर्वेद कॉलेज, इनमें 100 से अधिक डॉक्टर-प्राध्यापक .

By: Bhupesh Tripathi

Published: 08 Oct 2020, 11:20 PM IST

रायपुर. केंद्र सरकार ने कोरोना संक्रमित बिना लक्षण वाले मरीजों का इलाज आयुर्वेद पद्धति (आयुर्वेद दवा) से करने को मंजूरी दे दी है। मंगलवार को केंद्रीय मंत्रियों ने इलाज में किन-किन आयुर्वेद दवाओं का उपयोग किया जाएगा, इसका प्रोटोकॉल भी जारी किया। केंद्र के इस फैसले से राज्य के आयुर्वेद डॉक्टरों में उत्साह है। मगर, अब तक राज्य सरकार ने स्थिति स्पष्ट नहीं की है। अगर, राज्य इसे लागू करता है तो उसे 4,100 रजिस्ट्रर्ड बीएएमएस डॉक्टरों की न सिर्फ मदद मिल सकेगी, बल्कि डॉक्टरों की कमी भी दूर होगी। इससे कोरोना मरीजों के इलाज और बेहतर ढंग से हो सकेगा।

शासकीय आयुर्वेद कॉलेज के डॉक्टरों का मानना है कि अभी भी बहुत मरीज कोरोना में आयुर्वेद की दवा ले रहे हैं। ठीक भी हो रहे हैं। अब जब केंद्र ने दवाएं तय कर दी हैं, बिल्कुल मरीजों को उनका लाभ मिलना चाहिए। इससे आयुर्वेद पर भरोसा बढ़ेगा। 'पत्रिका' ने इस अहम मुद्दा पर सबसे पहले आयुष संचालनालय के संचालक डॉ. जीएस बदेशा को कॉल किया। जब उन्होंने कॉल रिसीव नहीं किया तो उन्हें वॉट्सएप के जरिए संपर्क सवाल भेजे गए, मगर उन्होंने फिर भी जवाब नहीं दिया। स्वास्थ्य विभाग की अपर मुख्य सचिव रेणु पिल्ले ने भी कॉल रिसीव नहीं किया। मगर, आयुष रजिस्ट्रार डॉ. संजय शुक्ला का मानना है कि यह आयुर्वेद डॉक्टरों के लिए अच्छा अवसर है, बस उन्हें इलाज की इजाजत दी जाए।

साधन-संसाधन पर्याप्त लेकिन डॉक्टर कम- प्रदेश सरकार ने कोविड हॉस्पिटल, कोविड केयर सेंटरों में सभी सुविधाएं मुहैया करवा दी हैं। मगर, सबसे बड़ी कमी है, डॉक्टर्स की। क्योंकि अब तक एमबीबीएस डिग्रीधारी डॉक्टर से ही कोरोना मरीजों का इलाज करवाया जा रहा है। 4,100 आयुर्वेद डॉक्टरों के साथ खड़े होने से ऐलोपैथी के मैनपॉवर को राहत मिलेगी, जो बीते 7 महीने से दिनरात मरीजों का इलाज करने में जुटे हुए हैं।

'पत्रिका' सबसे पहले-
23 जून 2020 को 'पत्रिका' ने बताया था, मध्यप्रदेश और दिल्ली में आयुर्वेद पद्धति से कोरोना मरीजों का इलाज हो रहा है। मरीज ठीक भी हो रहे हैं। तब तत्कालीन स्वास्थ्य सचिव निहारिका बारिक ने कहा था- आईसीएमआर और केंद्र से कोई गाइड-लाइन नहीं मिली है, न ही आयुर्वेद के जरिए कोरोना मरीजों के स्वस्थ होने का कोई डेटा है।

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned