फिल्म 'स्पेशल की तर्ज पर रची साजिश, एक चूक से सभी 9 गिरफ्तार

- मां कुदरगढ़ी स्टील कंपनी के कैशियर से 31 लाख की लूट करने वाले 9 आरोपी पकड़े गए.
- गोवा जा रहे थे आरोपी, बीच में पुलिस ने पकड़ा, 25 लाख कैश भी बरामद .

By: Bhupesh Tripathi

Updated: 21 Jan 2021, 10:22 PM IST

रायपुर। उरला इलाके में स्टील कंपनी के कैशियर से डकैती ( robbery) करके लाखों रुपए लूटने की साजिश डकैतों ने फिल्म स्पेशल 26 की तर्ज भी की थी। कंपनी के एचआर विभाग में करने वाले कर्मचारी ने ही पूरी साजिश रची थी। उसने अपने साथियों को बताया था कि कंपनी में दो नंबर का पैसा आता है। इसे लूट लेंगे, तो कंपनी वाले पुलिस में शिकायत भी नहीं करेंगे। लेकिन एेसा हुआ नहीं। और डकैतों की एक चूक और पुलिस की जांच के पुराने तरीके ने उन्हें जेल पहुंचा दिया। मां कुदरगढ़ी स्टील कंपनी के कैशियर नित्यानंद छुरा से 31 लाख लूटने वाले 9 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उनसे २५ लाख रुपए कैश बरामद हो गया है। डकैती के बाद आधे आरोपी पैसा लेकर गोवा जा रहे थे, लेकिन पुलिस ने तगड़ी घेराबंदी करके आरोपियों को पकड़ लिया।

मामले का खुलासा करते हुए आईजी डॉक्टर आनंद छाबड़ा और एसएसपी अजय यादव ने बताया कि कंपनी के कैशियर से डकैती की घटना के बाद पुलिस ने जांच के लिए विशेष टीम बनाई थी। इसमें तकनीकी जांच के अलावा कंपनी से जुड़े कर्मचारियों और स्थानीय बदमाशों पर फोकस किया गया था। जांच में कंपनी के एचआर सेक्शन में काम करने वाले हिंछा साहू और एक अन्य युवक हेमंत साहू पर शक हुआ।

पुलिस ने दोनों से कड़ाई से पूछताछ की। इसके बाद पूछताछ में खुलासा हुआ कि हेमंत और हिंछा ने धरसींवा के ग्राम निमोरा निवासी टीकेंद्र सेन, बेरला के भूषण वर्मा, गिरोध के लिकेश पटेल, हेम कल्याण कोशले, हरीश पटेल, ग्राम निमोरा के डोमेश साहू और भूपेंद्र पटेल के साथ मिलकर डकैती को अंजाम दिया है। आरोपियों ने प्लानिंग के तहत १६ जनवरी को सभी बाइक में सवार होकर कैशियर नित्यानंद को कंपनी के कुछ दूर घेर लिया। इसके बाद रॉड से हमला किया और मिर्च पाउडर डालकर 31 लाख रुपए लूट लिया। फिर मौके से भाग निकले थे। पुलिस आरोपियों की तलाश में लगी थी। इस बीच मंगलवार की रात अनुपपुर के पास पुलिस ने सभी आरोपियों को पकड़ लिया।

ऐसे बनी थी डकैती की योजना
धरसींवा के निमोरा निवासी हेमंत साहू की स्टील कंपनी के एचआर सेक्शन में काम करने वाले हिंछा साहू से दोस्ती थी। हेमंत ने किसी से बड़ी राशि लूटने की योजना बनाई और हिंछा से चर्चा किया। हिंछा ने बताया कि कंपनी के कैशियर के पास दो नंबर के लाखों रुपए रहते हैं। अगर इसको लूट लिया जाए, तो कंपनी पुलिस में शिकायत नहीं करेगी। और न ही किसी को बताएगी। उल्लेखनीय है कि फिल्म स्पेशल 26 में भी इसी तरह से दो नंबर के पैसे रखने वालों पर छापा मारा जाता था।

कैशियर की जानकारी देता रहा हिंछा
मास्टर माइंड हेमंत और हिंछा ने लूट की योजना बनाई और उसकी रैकी भी की। गिरोह के सभी लोगों को नित्यानंद को दिखाया गया। उसके आने-जाने की टाइमिंग आदि की जानकारी ली गई। हिंछा कैशियर नित्यानंद के आने-जाने की एक-एक जानकारी गिरोह को देता रहा। इसके बाद 14 दिसंबर को आरोपियों ने नित्यानंद से लूट की कोशिश की थी, लेकिन उसमें सफल नहीं हो पाए। कंपनी वालों ने इस मामले में पुलिस में एफआईआर नहीं कराया था। और पुलिस ने भी गंभीरता से नहीं लिया। इससे हेमंत और हिंछा के हौसले और बढ़े गए। और उन्हें यकीन हो गया कि कंपनी में दो नंबर का पैसा आता है। इस कारण उन्होंने दूसरी बार तगड़ी प्लानिंग की और नित्यानंद को 16 दिसंबर को कंपनी से कुछ दूर ही घेर कर लूट लिया था।

यहां से मिली पुलिस को लीड
मामले की जांच के लिए सायबर सेल प्रभारी रमाकांत साहू के अलावा उरला टीआई अमित तिवारी, खमतराई टीआई संजय पुंढीर, टीआई सोनल ग्वाला की टीमें लगी थीं। इस दौरान आरक्षक हिमांशु राठौर और अभिषेक उरला और खमतराई के पुराने बदमाशों से पतासाजी में लगे थे। इस दौरान एक मुखबिर ने खुलासा किया कि हेमंत ने उसे एक लूट में शामिल होने के लिए कहा था। यहीं से पुलिस को बड़ी लीड मिली। जांच टीम ने हेमंत पर फोकस किया। हेमंत को पकड़ा गया, तो उसने कंपनी के हिंछा के बारे में बताया। दोनों से अलग-अलग पूछताछ में पूरे मामले का खुलासा हुआ। इस दौरान पता चला कि गिरोह के अन्य लोग गोवा भाग रहे हैं। इसके बाद पुलिस की एक टीम उनके पीछे लगी। गौरेला-पेंड्रा के एसआई योगेश अग्रवाल और मध्यप्रदेश के अनुपपुर पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना दी गई। इसके बाद जैतहरी थाना के एएसआई लकड़ा की मदद से रायपुर पुलिस ने सभी सभी आरोपियों को अनुपपुर से गिरफ्तार कर लिया।

एक लाख का इनाम
मामले का खुलासा करने वाली पुलिस टीम को डीजीपी डीएम अवस्थी ने 50 हजार, आईजी डॉक्टर छाबड़ा ने 30 हजार और एसएसपी यादव ने 20 हजार कुल 1 लाख रुपए का नगद इनाम की घोषणा की। मामले का खुलासा करने में एसआई अमित कश्यप, मार्तण्ड सिंह, कृपासिंधु पटेल, दिलीप जांगड़े, सरफराज चिश्ती, जमील खान, महेंद्र राजपूत, रवि तिवारी, प्रमोद बेहरा, राकेश पांडेय, मोहम्मद सुलतान, विजय पटेल, धनंजय गोस्वामी, जसवंत सोनी, नोहर देशमुख आदि शामिल थे।

Show More
Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned