गांव में लोगों की जान से खेल रहे झोलाछाप डॉक्टर, नेता प्रतिपक्ष के क्षेत्र में ही 342

- झोलाछाप डाक्टरों (jholachap doctor ) पर कार्रवाही करने के लिए सीएमएचओ द्वारा टीम गठित की गई है एक साल में पूरे जिले में बड़ी मुश्किल से 36 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गई है।

By: Bhupesh Tripathi

Published: 08 May 2021, 04:03 PM IST

बिलासपुर . नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक के क्षेत्र में झोलाछाप डाक्टर गांव - गांव में पाव पसारे हुए हैं। ऐसा नहीं है कि इस बात की जानकारी क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों को नहीं है। ये लोग डोर टू डोर मरीजों का इलाज करते हैं। अधिकांश डॉक्टरों का क्लीनिक संचालित है लेकिन बाहर बोर्ड नहीं नजर आता। डाक्टरों के क्लीनिक के बारे में क्षेत्र के सभी लोगों को जानकारी रहती है।

झोलाछाप डॉक्टरों पर कार्रवाई करने के लिए सीएमएचओ द्वारा टीम गठित की गई है एक साल में पूरे जिले में बड़ी मुश्किल से 36 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। तत्काल उपलब्ध होने के कारण 70 प्रतिशत ग्रामीण इन्ही लोगों से उपचार कराते हैं।

READ MORE : भिलाई के 6 दोस्तों ने मिलकर अपनी लग्जरी कारों को बनाया एंबुलेंस, एक कॉल पर कोरोना मरीजों को पहुंचा रहे अस्पताल

- इलाज का पैटर्न बदला
झोलाछाप डॉक्टर हर गांव में मिल जाएगा। हाईकोर्ट के सख्ती के बाद डॉक्टरों ने पैटर्न बदल दिया है। अधिकांश डॉक्टर अपने क्लीनिक के सामने से बोर्ड हटा दिए हैं और अन्दर में इलाज किया जाता है इससे बाहर के व्यक्ति को समझ नहीं आता है कि यह क्लीनिक है।

- डोर टू डोर चलता है इलाज
कुछ झोलाछाप डॉक्टर पकड़े जाने के डर से संपर्क का पैटर्न को बदल दिया है। सारा काम मोबाइल से चलता है। गांव के लोगों के पास इनका मोबाइल नम्बर होता किसी की तबीयत खराब होने पर फोन कर डॉक्टर को आधी रात को भी घर बुलाया जाता है। लोगों को इनसे प्राथमिकी इलाज मिल जाता है वे संतुष्ट हो जाते हैं।

READ MORE : बुजुर्ग ध्यान दें : घर में बाहरी व्यक्तियों से न मिलें, सोशल मीडिया और सनसनीखेज खबरों से बचें

झोलाछाप डॉक्टरों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा पांच लोगों की टीम गठित की गई है इनके द्वारा डेढ़ साल में बड़ी मुश्किल से 36 झोलाछाप डॉक्टर के खिलाफ कार्रवाई की गई है। टीम के सदस्य खानापूर्ति करने के बाद शांत बैठ जाते हैं। कार्रवाई के दौरान इनके पर कई बार सवाल भी उठाए गए हैं लेनदेन कर छोड़ दिया जाता है।

इसलिए ग्रामीण इनके पास आते हैं
झोलाछाप डॉक्टरों से गांव के लोगों को तुरंत इलाज मिलता है ग्रामीण सरकारी अस्पताल के डाक्टरों का रवैय्या देखकर वापस चले जाते हैं वही निजी अस्पताल में जांच के नाम पर मोटी रकम वसूली जाती है। झोलाछाप डॉक्टर ग्रामीणों के लिए सस्ता और सहज उपलब्ध हो जाते हैं।

READ MORE : ऑनलाइन शॉपिंग और रिचार्ज करने से पहले रहे सावधान, एक क्लिक में खाली हो सकता है खाता

झोलाछाप डॉक्टरों के खिलाफ स्वास्थ्य विभाग को कार्रवाई करना चाहिए। विभाग के अनदेखी के कारण क्षेत्र में एक बड़ी घटना घट चुकी है।
- धरमलाल कौशिक नेता प्रतिपक्ष, छग शासन

झोलाछाप डाक्टरों के खिलाफ अभियान चलाकर कार्रवाही की जाएगी बीच बीच टीम जाती है लेकिन इनके द्वारा पैटर्न बदलकर काम किया जाता है इसलिए पकड़ से बाहर है।
- डॉ. प्रमोद महाजन, सीएमएचओ

READ MORE : शराब के शौकीनों के लिए बड़ी खबर, लॉकडाउन में जल्द शुरू होगी होम डिलीवरी

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned