कोरोना का खौफ : मंत्रालय में दो महीने से गायब हैं भूपेश सरकार के मंत्री, भाजपा ने बोला हमला

मंत्रालय का कामकाज भी शुरू हो चुका है। लेकिन पिछले काफी समय से मंत्रियों के गायब रहने पर भाजपा ने हमला बोला है।

By: bhemendra yadav

Updated: 14 Jun 2020, 07:51 PM IST

रायपुर। छत्तीसगढ़ में डेढ़ महीने से अधिक समय बीत गए हैं, लेकिन कोरोना के खौफ से मंत्रालय अभी तक सूना पड़ा हुआ है। यहां सन्नाटा इसलिए है, क्योंकि मंत्री जी नदारद हैं। भीड़ रोकने के लिए सैंकड़ों अन्य कर्मचारियों को भी आने से रोका गया है। हालांकि, अधिकारियों के आने के लिए आदेश जारी हो चुके हैं। मंत्रालय का कामकाज भी शुरू हो चुका है। लेकिन पिछले काफी समय से मंत्रियों के गायब रहने पर भाजपा ने हमला बोला है।

रविवार को एक बयान में विधायक शिवरतन शर्मा ने राज्य सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि मंत्रालय के अधिकारी-कर्मचारी रोज अपनी ड्यूटी पर बुलाए जा रहे हैं लेकिन उनकी समस्याओं को लेकर भूपेश बघेल सरकार सतर्क नहीं है। भाजपा विधायक ने यह भी आरोप लगाया कि कर्मचारियों को मंत्रालय तक आने-जाने के लिए उपलब्ध बसों में सेनिटाइजेशन तक की कोई व्यवस्था नहीं है। राजधानी की लगभग आधी आबादी कोरोना कंटेनमेंट जोन में आ जाने की वजह से मंत्रालय के कर्मचारियों और अधिकारियों पर भी खतरा मंडराने लगा है। इस खतरे को लेकर भाजपा ने सवाल उठाते हुए आरोप लगाया है कि भीषण संक्रमण काल में मंत्रालय जा रहे कोरोना वॉरियर्स कर्मचारियों को उनके हाल पर छोड़कर सभी मंत्री अपने मंत्रालय से गायब हैं। उन्होंने पूछा कि ऐसा क्यों है।

उल्लेखनीय है कि रायपुर में मंत्रालय में काम करने वाले एक कर्मचारी की पत्नी भी कोरोना पॉजिटिव निकली है। जबकि मंत्रियों के प्रेस वार्ता में शामिल होने वाले पत्रकार के घर तक कोरोना की दस्तक हो चुकी है। कोरोना के शुरुआती दिनों में दिल्ली से लौटी मंत्री शिव डहरिया की बेटी कोरोना पॉजिटिव निकली थी। जिसके बाद उनके पूरे परिवार को एकांतवास करना पड़ा। इसके बाद धीरे-धीरे कई और भी नेता व मंत्रियों के दरवाजे तक कोरोना की दस्तक हुई। इस वजह से कांग्रेस के नेता व मंत्री पिछले काफी समय से गायब हैं।

Show More
bhemendra yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned