प्रदेश में नहीं बंद होगा पालतू पक्षियों की खरीद-फरोख्त का कारोबार, संक्रमण मिला तभी विभाग लेगा एक्शन

- पशुधन विभाग के डायरेक्टर ने की पुष्टि
- कारोबारी या दुकान के पक्षियों में संक्रमण तो ही दुकान होगी बंद

By: Ashish Gupta

Published: 17 Jan 2021, 06:07 PM IST

रायपुर. बर्ड फ्लू की वजह से प्रदेश में पालतू पक्षियों की खरीद-फरोख्त करने वाले कारोबारियों का कारोबार प्रभावित नहीं होगा। पशुधन विभाग के डायरेक्टर ने पत्रिका से चर्चा के दौरान यह पुष्टि की है। डायरेक्टर का कहना है कि यदि कारोबारी या उसके दुकान के पक्षियों में संक्रमण मिलता है, तो ही बर्ड फ्लू तक उसके कारोबार में रोक लगाई जाएगी। डायरेक्टर का कहना है कि भारत सरकार की गाइड लाइन में कारोबार को बंद कराने का उल्लेख नहीं है। स्थिति को देखकर सरकार ने निर्णय लेने का अधिकार दिया है।

कारोबारियों को मिलेगी राहत
पशुधन विभाग के डायरेक्टर के इस निर्णय से पक्षी कारोबारियों को राहत मिलेगी। प्रदेश में पालतू पक्षियों की खरीद फरोख्त का बडा कारोबार है। राजधानी रायपुर, बिलासपुर और दुर्ग पक्षी कारोबारियों का हब है। कारोबारी छत्तीसगढ़ के अलावा दूसरे राज्यों भी पालतू पक्षियों की सप्लाई करते है। सोशल मीडिया में पक्षी कारोबार की खबरे वायरल होने के बाद कारोबारियों की चिंता बढ़ा दी थी, लेकिन डायरेक्टर का बयान कारोबारियों के लिए राहत की सांस लेकर आया है।

आंख में मिर्ची पाउडर छिड़कर नकाबपोश लुटेरों ने दिनदहाड़े 31 लाख लूटे, वारदात CCTV में कैद

दूसरे राज्य में बंद का हवाला
जानकारों की मानें तो बर्ड फ्लू की पुष्टि होने के बाद पड़ोसी राज्यों ने पालतू पक्षियों की खरीद फरोख्त का बाजार बंद करवा दिया है। इसी को आधार बनाते हुए प्रदेश में कारोबार बंद होगा, यह बात सोशल मीडिया के माध्यम से वायरल की जा रही थी। कारोबारियों ने पूरे मामलें में विभाग से गाइड लाइन जारी होने पर कारोबार बंद करने की बात कही। प्रदेश के पक्षी कारोबारियों की मांग पर पत्रिका ने विभागीय अधिकारियों से चर्चा की, तो उन्होंने संक्रमण मिलने पर बाजार बंद कराने की बात कही है।

राजधानी के इन इलाको में बड़ा कारोबार
विभागीय अधिकारियों की मानें तो राजधानी के फाफाडीह, खमतराई, शंकर नगर, कटोरा तालाब, तेलीबांधा और पंडरी इलाके में पक्षियों को खरीदने बेचने का कारोबार चल रहा है। ये कारोबारी दूसरे जिले और राज्य से पालतू पक्षियों को लाकर उनकी बिक्री करते है और अपने परिवार का जीविकोपार्जन करते है।

छत्तीसगढ़ में टीकाकरण के पहले दिन सुकमा में सर्वाधिक 87 प्रतिशत, बलरामपुर में सबसे कम 36 प्रतिशत

पशुधन विभाग के डायरेक्टर माथेस्वरन वी. ने कहा, भारत सरकार की गाइड लाइन में पालतू पक्षियों की खरीद फरोख्त को बंद कराने का उल्लेख नहीं है। सरकार ने स्थिति को देखते हुए निर्णय लेने का निर्देश जारी किया है। यदि किसी दुकान के पक्षी में या कारोबारी में बर्ड फ्लू के संक्रमण मिलेगा, तभी पक्षियों की खरीद फरोख्त के कारोबार को बंद करने का निर्देश दिया जाएगा।

Show More
Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned