आधी रात जब बॉयफ्रेंड किसी और के साथ मना रहा था रंगरलियां, गर्लफ्रेंड ने पकड़ा रंगे हाथों फिर...

आधी रात को जब अपने बॉयफ्रेंड को देखा किसी और के कमरे में फिर कर दी गर्लफ्रेंड की हत्या

 

By: Deepak Sahu

Updated: 21 Jul 2018, 12:47 PM IST

रायपुर/रायगढ़. छत्तीसगढ़ में एक मामला सामने आया जिसमे एक गर्लफ्रेंड ने अपने बॉयफ्रेंड को आधी रात किसी और के साथ रंगरलियां मनाते देखा तो उसकी आखें फटी की फटी रह गई। जिससे बाद उसने जमकर हंगामा किया। इस हंगामे से प्रेमी डर गया की कोई आ जायेगा, ऐसे में उसने घर कोने में पड़े कुल्हाड़ी को उठाकर उसकी हत्या कर दी।

दरअसल यह मामला खरसिया के ग्राम चोढ़ा में हुए मां-बेटे के हत्याकांड का पुलिस ने खुलासा किया है। पुलिस ने बताया कि एक युवक से मृतिका और उसकी जेठानी का अवैध संबंध इस घटना का कारण था। इसी घटना में एक 05 वर्षीय मासूम की भी जान चली गई। पुलिस ने बताया कि घटना दिनांक की रात को गांव का आरोपी युवक मृतिका के घर गया था। जहां उसके साथ अवैध संबंध बनाने के बाद उसके कमरे से निकला तो उसे मृतिका की जेठानी ने देख लिया।

इसके बाद उसने भी युवक को रात में अपने कमरे में बुलाया। जब युवक जेठानी के कमरे में गया तो देवरानी ने उसे देख लिया। इसके बाद उसका पारा चढ़ गया और उसका अपनी जेठानी के साथ मारपीट शुरू हो गई। इसके बाद आरोपी युवक व जेठानी ने मिलकर देवरानी की टांगी से मार कर हत्या कर दी। वहीं पकड़े जाने के डर से मौके पर मौजूद उसके पांच वर्षीय बेटे को भी गला दबा कर मार दिया।

 

crime news

ज्ञात हो कि 16 जुलाई की सुबह खरसिया के ग्राम चोढ़ा निवासी वीर सिंह अपने पिता का इलाज कराने के लिए अपने भाई धनसिंह के साथ खरसिया अस्पताल गया था। जहां उन्होंने अपने पिता को अस्पताल में भर्ती किया। ऐसे में उन्हें एक रात अस्पताल में ही रुकना पड़ा। उस रात घर में वीर सिंह की पत्नी व बच्चा तथा धनसिंह की पत्नी और बच्चे थे। पुलिस ने बताया कि वीर सिंह और धनसिंह का आंगन एक ही है, लेकिन कमरा अलग-अलग है।

वहीं 17 जुलाई की दोपहर जब वीर सिंह अपने पिता का इलाज कर घर लौटा तो देखा कि उसका कमरे में ताला बंद है। इसके बाद ताला खोलकर अंदर जाकर देखा तो उसकी पत्नी जगरमति 30 वर्ष व उसका बेटा जीतू राठिया 05 वर्ष की लाश पड़ी थी। वहीं पूरा कमरा खून से सना था। इसके बाद उसने शोर मचाया और घटना की सूचना पुलिस को दी गई। सूचना मिलते ही पुलिस दल-बल के साथ मौके पर पहुंची और पंचनामा कार्रवाई किया गया। इस मामले में पुलिस अज्ञात आरोपी के खिलाफ अपराध दर्ज कर मामले की विवेचना की जा रही है।

ऐसे हुआ खुलासा
मां-बेटे की हत्या होने के बाद जब पुलिस ने मृतिका की जेठानी लक्ष्मी राठिया से पूछताछ की तो उसने कहा कि रात में उसे ऐसी कोई आहट सुनाई दी, जिससे उसकी नींद खुल सके। ऐसे में पुलिस को लक्ष्मी राठिया का बयान थोड़ा अटपटा लगा और उस पर शंका हुई। वहीं मौके पर मृतिका के अलावा एक अन्य महिला की भी चूड़ी टूट कर पड़ी थी। ऐसे में पुलिस ने लक्ष्मी राठिया से सख्ती से पूछताछ किया तो उसने अपना जुर्म कुबल लिया। वहीं इस मामले में गांव के एक युवक संदीप राठिया को भी शामिल होना बताया। इसके बाद पुलिस ने संदीप को भी पकड़ लिया। फिर दोनों का बयान लिया गया।

उस रात यह हुआ था...
पुलिस को संदीप ने बताया कि जगनमति और उसकी जेठानी लक्ष्मी राठिया के घर महुआ शराब बनाया और बेचा जाता है। संदीप अक्सर शराब पीने जाया करता था। इस बीच संदीप की दोनों महिलाओं व घर के पुरुषों के साथ जान-पहचान हो गई। धीरे-धीरे अवैध संबंध स्थापित होने लगा। वह एक ही घर की दोनों ही महिलाओं के साथ छुप-छुप कर मिलने लगा और अवैध संबंध बनाने लगा। 16 जुलाई की रात भी दोनों पुरुषों के घर में नहीं होने पर वह जगनमति के घर गया। इसके बाद उसके साथ संबंध बनाया। जब वह जगनमति के कमरे से निकल रहा था तो उसे उसकी जेठानी लक्ष्मी राठिया ने देख लिया और संदीप को रात्रि 02 बजे अपने कमरे में आने को कहा। इसके बाद संदीप जब लक्ष्मी के घर पहुंचकर उसका दरवाजा खटखटाया और उसके कमरे में गया तो जगनमति ने देख लिया। चूंकि जगनमति को संदीप और लक्ष्मी के संबंधों के बीच में जानकारी नहीं थी। ऐसे में वह भड़क गई और शोर मचा कर आसपास के लोगों को बुलाने की बात कहने लगी। दोनों के काफी समझाइश के बाद भी वह नहीं मानी और उसे अपनी जान गवांनी पड़ी।

 

crime news

पहले देवरानी को पीटा, फिर कर दी हत्या
पुलिस ने बताया कि संदीप और लक्ष्मी राठिया के हजार कोशिशों के बाद भी जब जगनमति मानने को तैयार नहीं हुई तो लक्ष्मी और उसका भिड़ंत हो गया। दोनों की एक-दूसरे का बाल पकड़ कर एक दूसरे को मारने और चिल्लाने लगे। तभी संदीप को डर लगा कि कोई आ जाएगा, ऐसे में उसने घर कोने में पड़े कुल्हाड़ी को उठाकर जगनमति के सिर पर पीछे साइड वार कर दिया। अपनी जान बचाने के लिए वह दरवाजे की तरफ भागी तो उसकी जेठानी और संदीप उसे घसीटकर फिर से कमरे में लाए और लक्ष्मी राठिया ने संदीप से टांगी छीनकर जगनमति के सिर पर ताबड़तोड़ वार कर उसकी हत्या कर दी।

कहीं सबूत न बन जाए इसलिए बच्चे को मारा
अपने कमरे में मारपीट और शोर शराबा सुनकर पांच वर्षीय मासूम जीतू राठिया की नींद खुल गई। इसके बाद अपनी मां को पिटता देख वह रोने लगा। आरोपियों ने जब उसकी मां को जान से मार दिया तो उन्हें लगा कि कहीं उसका बेटा सबूत न बन जाए और हमारा नाम बता दे। ऐसे में एक ने जीतू का पैर पकड़ा तो दूसरे ने उसका गला दबाकर उसे मौत के घाट उतार दिया। वहीं घटना के दोनों के शव को कमरे में बंद कर बाहर से ताला लगा दिया और चाबी को फेंक कर अपने-अपने घर चले गए। पुलिस ने दोनों ही आरोपियों को धारा 302, 201, 34 के तहत अपराध दर्ज कर लिया है। वहीं उन्हें रिमांड में जेल भेज दिया गया है।

रायगढ़ के एएसपी, हरिश राठौर ने बताया अवैध संबंध में जेठानी ने गांव के युवक के साथ मिलकर देवरानी की हत्या कर दी। वहीं इस घटनाक्रम को अपनी आंखों से देखने वाले मासूम बच्चे को भी गला दबा कर मार दिया। ताकि वह किसी को उनका नाम न बता दे। मेमोरेंडम के लिए टांगी, बाल, मौके पर पड़े चूडिय़ां, तथा आरोपिया की खून से सनी साड़ी और आरोपी के खून से सना पैंट को जब्त कर लिया गया है। वहीं दोनों को रिमांड में जेल भेज दिया गया है।

Show More
Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned