आंबेडकर में कोविड-19 अस्पताल तैयार, लेकिन क्वारंटाइन करने व्यवस्था नहीं

माना सिविल अस्पताल में 94 कोरोना संक्रमित भर्ती, 100 मरीज होते ही आंबेडकर में शुरू होगा इलाज

By: Gulal Verma

Updated: 29 May 2020, 04:55 PM IST

रायपुर। राजधानी के आंबेडकर अस्पताल में कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज करने के लिए कोविड-19 अस्पताल पूरी तरह से तैयार हो गया है। 100 बेड के माना सिविल अस्पताल के भरते ही कोरोना मरीजों का इलाज यहां शुरू हो जाएगा। माना में फिलहाल 94 मरीज भर्ती हैं, जिनकी हालत स्थिर बनी हुई है। प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों के मिलने का जितने तीव्र गति से ग्राफ बढ़ रहा है, उससे संभावना जताई जा रही है कि एक-दो दिनों में आंबेडकर के कोविड-19 अस्पताल में मरीज भर्ती होना शुरू हो जाएंगे। डॉक्टर और स्टॉफ भी ड्यूटी के लिए तैयार हैं, लेकिन इनको क्वारंटाइन करने के लिए स्वास्थ्य विभाग के आला अधिकारी जगह की व्यवस्था नहीं कर पाए हैं।

आइसोलेशन वार्ड में ड्यूटी करने वाले डॉक्टर व स्टॉफ को क्वारंटाइन में रखना जरूरी होता है। एम्स का एक नर्सिंग ऑफिसर क्वारंटाइन में रहने के दौरान ही कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। आइसोलेशन वार्ड से क्वारंटाइन किए जाने से पहले नर्सिंग ऑफिसर की स्क्रीनिंग व जांच हुई थी, जिसमें वह नेगेटिव मिला था।
गौरतलब है कि एम्स और माना सिविल अस्पताल के बाद स्वास्थ्य मंत्री ने आंबेडकर में 500 बिस्तरों का कोविड-19 अस्पताल बनाने की घोषणा की थी। मंत्री के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग और आंबेडकर अस्पताल प्रबंधन जोरशोर से तैयारियों में जुट गया था। डीपी वार्ड को कोविड-19 अस्पताल के रूप में परिवर्तित कर दिया गया है। यहां पर 140 बेड का आईसीयू आधुनिक उपकरणों से लैस होकर पूरी तरह से तैयार है। गंभीर मरीजों के लिए वेंटिलेटर भी लगाया जा चुका है। कई वार्डों को खाली कराकर कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए आरक्षित कर दिया गया है।

डीकेएस में शिफ्ट हुआ मेडिसिन
दाऊ कल्याणसिंह सुपरस्पेशलिटी (डीकेएस) अस्पताल में आंबेडकर अस्पताल के मेडिसिन विभाग को शिफ्ट कर दिया गया है। गंभीर मरीजों को भी डीकेएस से मिले वार्डों में शिफ्ट कर दिया गया है। गायनिक को जिला अस्पताल में शिफ्ट किया जा रहा है। सारे सामान भेजे जा चुके हैं। फिलहाल दोनों डिपार्टमेंट की ओपीडी आंबेडकर अस्पताल में ही संचालित हो रही है। पीडियाट्रिक डिपार्टमेंट को कालीबाड़ी स्थित जच्चा-बच्चा केंद्र में शिफ्ट किया जाएगा।

कोविड-19 अस्पताल को घोषित किया प्रतिबंधित एरिया

डीपी वार्ड को कोविड-19 अस्पताल बनाया गया है। वार्ड के बाहर दोनों तरफ लकड़ी के मोटे-मोटे खंभे लगाकर लोगों के आवाजाही को रोक दिया गया है। डीपी वार्ड के सामने के एरिया को प्रतिबंधित कर दिया गया है। मेडिकल कॉलेज जाने वाले एक गेट को भी बंद कर दिया गया है। डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना संक्रमित मरीजों को अस्पताल में भर्ती करने के दौरान यह गेट खुलेगा। भूल से भी कोई व्यक्ति कोविड-19 अस्पताल में न घुस जाए, इसलिए प्रतिबंधित एरिया घोषित किया गया है।

डॉक्टर और स्टॉफ को क्वारंटाइन के लिए आंबेडकर अस्पताल से कुछ दूरी पर दो जगह चयनित किए गए हैं। दोनों जगहों पर रहने, खाने-पीने की पूरी व्यवस्था है। कोविड-19 अस्पताल मरीजों के इलाज के लिए पूरी तरह से तैयार है।

डॉ. एसएल अािदले, डीएमई

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned