जिला धान संग्रहण केंद्र कुंडेलभाठा में लगी आग

जांच अधिकारियों के आने के वक्त ही आगजनी से साजिश का संदेश

By: Gulal Verma

Published: 11 Jun 2021, 03:38 PM IST

गरियाबंद। जिले का एकमात्र धान संग्रहण केन्द्र कंडेलभाठा में गुरुवार दोपहर 1 बजे केंद्र में रखे स्टेक क्रमांक 47 में (जिसमें 3 हजार बोरा धान की स्टेक है) आग लग गई । घटना की तब जानकारी हुई जब भारतीय खाद्य निगम क्षेत्रीय कार्यालय रायपुर से अधिकारियों की टीम (सुधीर मुखर्जी, मिथलेश कोष्ठा राजेश परमार, कमल साहू, सी.बी. नायक) गणना निरीक्षण करने पहुंचे थे। साथ में जिला विपणन संघ अधिकारी अमित चन्द्राकर मौजूद थे। टीम ने उस स्टेक की आकस्मिक गणना करने ढके कैपकवर को खुलवाए तो स्टेक में धुआं उठते देखा गया। आनन-फानन में वहां मौजूद हमाल से स्टेक का बारदाना ऊपर से हटाना शुरू किया तो अंदर ही अंदर धान के बारदाना जल रहे थे।
केन्द्र प्रभारी दिलीप कौन्नौजे ने दमकल विभाग राजिम व पुलिस थाना फिंगेश्वर को सूचना दी। सूचना मिलते ही दोनों की टीम घटना स्थल कुण्डेल धान केंद्र पहुंच कर आग पर नियंत्रण कर लिया। पर कहीं पर भी आग जैसी नहीं दिखा। केन्द्र के अधिकारी-कर्मचारी इस घटना को अत्याधिक उमस से होना बताया जा रहा है। वहीं यह भी कहा गया कि यह रुटिंग मामूली घटना है। इस आगजनी से हजारोंबोरा धान को नुकसान पहुंचा है। नियमानुसार स्टेक हटाने के लिए उच्च अधिकारी का होना आवश्यक है, पर ऐन वक्त पर जिला विपणन संघ अधिकारी अमित चन्द्राकर का चला जाना कई संदेह को इंकित करता है। कर्मचारियों व ग्रामीणों में ऐसी चर्चा है कि ऐसी घटना यह तीसरी बार है। इन्हीं सब बातों को लेकर यह भी आशंका जताई जा रही है कि उमस से आकस्मिक आग की आड़ में किसी ने आग तो नहीं लगा दी। दिन में ही किसी भी व्यक्ति को आगजनी की जानकारी कैसे नहीं हुई। ग्रामीणों को उलटा तर्क क्यों दिया जा रहा है कि उमस होने के कारण आगजनी हो जाती है। क्योंकि बीती रात क्षेत्र में लगभग 10 घंटे पानी गिरा है ऐसे में पूरा क्षेत्र में मौसम नमी रहा और उमस भी नहीं था। ऐसे में आग लगना कई प्रकार के संदेह को जन्म दे रहा है। अगर सही जांच की जाए तो इसमें कहीं ना कहीं दोषी सामने निकाल कर आएंगे, बस गंभीरता से जांच करने की आवश्यकता है

--
आग से नुकसान का सही आकलन में अभी समय लगेगा।
- दिलीप कौन्नौजे, धान संग्रहण केन्द्र

--
आगजनी शुरुआत में था। निरीक्षण के दौरान कैप खोलने पर जानकारी हुई। आग नियंत्रिण होने पर कलेक्टर वीडियो कांफ्रेंसिंग बैठक में गरियाबंद चला गया। नुकसान की गणना होगी, तब कुछ कह पाएंगे।
अमित चन्द्राकर, जिला विपणन अधिकारी

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned