आधी कीमत पर दवा उपलब्ध कराने छत्तीसगढ़ के 169 शहरों में खुलेंगे 188 मेडिकल स्टोर्स

  • श्री धन्वंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर से दवाइयों पर होने वाले खर्च का बोझ होगा कम
  • मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 20 अक्टूबर को श्री धन्वंतरी दवा योजना का करेंगे शुभारंभ

By: Anupam Rajvaidya

Published: 14 Oct 2021, 08:49 PM IST

रायपुर. छत्तीसगढ़ में स्वास्थ्य सुविधाओं का विस्तार करते हुए श्री धन्वंतरी दवा योजना शुरू की जा रही है। इस योजना के तहत 169 शहरों में 188 ऐसे मेडिकल स्टोर्स खोले जाएंगे, जिनमें मरीजों को अधिकतम खुदरा बिक्री मूल्य (एमआरपी) में 50 प्रतिशत से अधिक छूट दी जाएगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 20 अक्टूबर को इस योजना का शुभारंभ करेंगे।

ये भी पढ़ें...रामकृष्ण परमहंस की भावधारा को छत्तीसगढ़ में किया साकार
इसकी शुरुआत 85 श्री धन्वंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर्स के साथ की जाएगी। शेष दुकानें भी इस माह के अंत तक प्रारंभ हो जाएंगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि सरकार ने गरीबों और वंचित वर्गों तक शासन की योजनाओं का लाभ पहुंचाने हेतु अनेक प्रभावी कदम उठाए हैं। इसी दिशा में एक और पहल करते हुए श्री धन्वंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर्स शुरू करने जा रहे हैं। अब सस्ती दवाएं सभी की पहुंच में होंगी। इससे दवाइयों पर होने वाले खर्च का बोझ कम हो सकेगा। इस योजना के माध्यम से हम सब्बो स्वस्थ-जम्मो सुग्घर की परिकल्पना को साकार करने में सफल होंगे।
ये भी पढ़ें...सीता की रसोई को जान सकेगी दुनिया
श्री धन्वंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर के लिए नगरीय निकायों ने 188 दुकानों का चिह्नांकन किया है। इनमें 251 दवाइयों, 27 सर्जिकल आइटम साहित विभिन्न सामग्री उपलब्ध रहेगी। लघु वनोपज संघ द्वारा निर्मित गुणवत्तापूर्ण हर्बल उत्पाद भी यहां उपलब्ध रहेंगे। इन दुकानों में देश की ख्यातिप्राप्त कंपनियों की जेनेरिक दवाइयों की बिक्री की जाएगी। सर्दी, खांसी, बुखार, ब्लड प्रेशर जैसी आम बीमारियों के साथ गंभीर बीमारियों की दवाएं, एंटीबायोटिक, सर्जिकल आइटम भी उपलब्ध रहेंगे।
ये भी पढ़ें...भारत के पर्यटन नक्शे में उभरकर आएगा रामगढ़
यह सभी सामग्री अधिकतम खुदरा मूल्य (एमआरपी) में 50 प्रतिशत से भी अधिक की छूट के साथ उपलब्ध होंगे। नागरीय निकायों ने छूट की दर प्राप्त करने हेतु प्रतिस्पर्धात्मक निविदा का आमंत्रण किया था, जिसमें सभी निकायों में 50 फीसदी से ज्यादा छूट की दर प्राप्त हुई। योजना के संचालन की जिम्मेदारी कलेक्टर की अध्यक्षता में गठित यूपीएसएस को दी गई है।
ये भी पढ़ें...लखीमपुर खीरी हिंसा में 8 की मौत, मुख्यमंत्री बोले- किसानों के साथ वहशी व्यवहार

Show More
Anupam Rajvaidya Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned