दर्दनाक: बेटे के लिए माँ ने रखा था व्रत उसी दिन गोद हुई सूनी

छतीसगढ़ के कवर्धा से ऐसा ही रुला देने वाला मामला सामने आया है। जिस दिन माँ ने अपने बेटे की खुशहाली के लिए व्रत रखा था, उसी दिन उसके बच्चे की मौत हो जाती है।

By: Deepak Sahu

Updated: 21 Aug 2019, 06:41 PM IST

कवर्धा: माँ और बेटे के रिश्ते को इस देश में सबसे पवित्र माना जाता है।नौ महीने दर्द सहने के बाद जब मताएं अपने शिशु को जन्म देती है।तो खुद से ज्यादा अपने बच्चे का ख्याल रखती हैं।बच्चे के शरीर पर एक खरोच भी देखना माँ को पसंद नहीं होता।हर रोज मताये भगवन से यही दुआ करतीं हैं कि उसका बच्चा हमेशा कुछ रहे, जिसके लिए माताएं हजारों व्रत करती हैं।

लेकिन क्या आपने कभी यह सोचा है कि जब माँ अपने बेटे के लिए पूजा कर रही हो तभी उसका बेटा उसे हमेशा के लिए छोड़ कर चला जाए ।

 

बेटे की लंबी उम्र के लिए मां कर रही थी हलषष्ठी की पूजा, लेकिन इस दर्दनाक हादसे में छीन गई मासूम की जान

छतीसगढ़ के कवर्धा से ऐसा ही रुला देने वाला मामला सामने आया है। जिस दिन माँ ने अपने बेटे की खुशहाली के लिए व्रत रखा था, उसी दिन उसके बच्चे की मौत हो जाती है।

दरअसल प्रदेश में कमरछठ (हलष्ठी) के दिन सभी मताएं उपवास करती है और विधिविधान से अपने बच्चों की खुशहाली के लिए भगवान की पूजा पाठ करती है। पंडाताराई थाना के एक गांव के स्कूल के पास बच्चा खेलते-खेलते गड्ढे में जा गिरा।गड्ढे में पानी भरा हुआ था।जिससे उसकी मौत हो गई।इस घटना के बाद पूरे इलाके में शोक की लहार देखी जा रही है। पुलिस पूरे मामले की जांच में जुट गई है।

Prev Page 1 of 2 Next
Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned