नाइजीरियन समुद्री लुटेरों ने रायपुर के दंपती समेत 18 भारतीयों का किया अपहरण

  • हांगकांग के व्यापारिक जहाज से अपहरण किया
  • भनपुरी निवासी विजय तिवारी हैं जहाज के चीफ इंजीनियर

रायपुर . समुद्री लुटेरो ने 3 दिसम्बर की रात नाइजीरिया के बोन्नी ऑफशोर टर्मिनल के पास से एंग्लो ईस्टर्न शिप मैनेजमेंट कंपनी के जहाज में सवार 19 लोगों को अगवा कर लिया है। इनमें रायपुर के दंपती समेत 18 भारतीय हैं। भनपुरी निवासी विजय तिवारी उस जहाज के चीफ इंजीनियर हैं, उनकी पत्नी अंजू तिवारी भी उनके साथ ही हैं। इस घटना ने विजय और अंजू के परिजनों को हिलाकर रख दिया है।

इसे भी पढ़ें...हैदराबाद गैंगरेप मर्डर के बाद छत्तीसगढ़ के डीजीपी ने उठाया ये बड़ा कदम

विजय की मां अपने दूसरे बेटे-बहू के साथ भनपुरी में हैं। उनको अभी इस घटना की सूचना नहीं दी गई है। वे हाल ही में अस्पताल से डिस्चार्ज होकर घर पहुंची हैं, उन्हें हार्टअटैक आया था। वहीं विजय के दो बेटे हॉस्टल में रहते हैं, उन्हें भी खबर नहीं दी गई है। विजय की पत्नी अंजू का एक भाई रायपुर में और एक अमरीका में रहता है। सभी लगातार दिल्ली स्थित शिप मैनेजमेंट कंपनी दफ्तर से संपर्क कर रहे हैं। वहीं मुंबई में मर्चेंट नेवी कॉलोनी का स्टाफ कंपनी के मुख्यालय में डटा हुआ है, ताकि दबाव बना रहे। जहाज फिलहाल बोन्नी ऑफशोर टर्मिनल पर ही है। परिजनों को जानकारी उपलब्ध करवाने के लिए कंपनी ने एक हेल्पलाइन नंबर उपलब्ध कराया है। 'पत्रिका' ने भी इस पर संपर्क किया। लेकिन सुरक्षा कारणों का हवाला देकर जानकारी साझा करने से इनकार कर दिया गया। कंपनी की ओर से कहा गया कि सभी सूचनाएं परिजनों को ही दी जा रही हैं।

इसे भी पढ़ें...प्याज की कीमत को लेकर पीएम मोदी को छत्तीसगढ़ के सीएम ने पत्र लिखकर दिया ये सुझाव

एक बार पहले भी पास से गुजरा था लुटेरों का जहाज
अंजू तिवारी के भाई एस.पी. उपाध्याय ने बताया कि 1 दिसम्बर को मेरी अंजू से बात हुई थी। तब उसने बताया था कि चार दिन पहले नाइजीरियन लुटेरों का जहाज हमारे जहाज के पास से गुजरा था। तब जहाज खाली था, शायद इसी वजह से वे चले गए।

इसे भी पढ़ें...किसानों को धान का 2500 रुपए मूल्य दिलाने के लिए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने किया ये बड़ा ऐलान

परिजन की गुहार
मेरे बड़े भाई (विजय तिवारी) शुरुआत से मर्चेंट नेवी में हैं। प्राइवेट जॉब है इसलिए कंपनी बदलते रहते हैं। कुछ दिनों पहले ही उन्होंने एंग्लो ईस्टर्न शिप मैंनेजमेंट कंपनी जॉइन की। भैया-भाभी ढाई माह पहले चार महीने के कांट्रेक्ट पर जहाज से रवाना हुए थे। 3 दिसम्बर की रात मेरी पत्नी ने भाभी (अंजू) से बात की थी। पांच मिनट बात हुई और फिर फोन स्वीच ऑफ हो गया। इसके बाद कोई संपर्क नहीं हुआ। 4 दिसम्बर को शिप कंपनी के विनीत गुप्ता का फोन आया, उन्होंने भैया-भाभी समेत 18 भारतीय के बंधक बनाए जाने की सूचना दी। उन्होंने कहा कंपनी हांगकांग और साउथ अफ्रीका सरकार से बात कर रही है।

(जैसा विजय के भाई पवन तिवारी ने बताया)

इसे भी पढ़ें...भाजपा के धार्मिक एजेंडे पर आगे बढ़ते हुए छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार

सरकार को आधिकारिक सूचना का इंतजार

छत्तीसगढ़ के दो नागरिकों के विदेश से अपहरण हो जाने की जानकारी मिल जाने के बाद भी राज्य सरकार के अधिकारियों को घटना की आधिकारिक सूचना का इंतजार है। गृह विभाग के प्रमुख सचिव सुब्रत साहू ने कहा कि उनके पास अभी कंपनी अथवा केंद्र सरकार की ओर से कोई आधिकारिक सूचना नहीं है। सूचना मिलने के बाद हरसंभव मदद मुहैया कराई जाएगी।

इसे भी पढ़ें...छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के मुद्दे पर कांग्रेस ने लोकसभा से किया वॉकआउट

Show More
Anupam Rajvaidya Desk
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned