scriptCorona did not go and the Kovid center of 10 lakhs got destroyed | कोरोना गया नहीं और उजड़ गया 10 लाख का कोविड सेंटर | Patrika News

कोरोना गया नहीं और उजड़ गया 10 लाख का कोविड सेंटर

तिल्दा-नेवरा नगर पालिका प्रशासन इसको लेकर कितना लापरवाह है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि 10 लाख रुपए की लागत से तैयार किया गया कोविड केयर सेंटर एक साल के भीतर ही उजड़ गया।

रायपुर

Updated: January 21, 2022 06:29:33 pm

तिल्दा-नेवरा. कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए एक तरफ प्रदेश सरकार करोड़ों रुपए खर्च कर रही है। ज्यादा से ज्यादा कोविड सेंटर बनाए गऐ हैं। लोगों को बचाव के लिए लगातार जागरूक किया जा रहा है। लेकिन तिल्दा-नेवरा नगर पालिका प्रशासन इसको लेकर कितना लापरवाह है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि 10 लाख रुपए की लागत से तैयार किया गया कोविड केयर सेंटर एक साल के भीतर ही उजड़ गया। इतना ही नहीं, इस पर असामाजिक तत्वों ने कब्जा कर लिया है। यह जुआरियों और शराबियों का अड्डा बन गया है।
वर्ष 2020 में जब कोरोना संक्रमण प्रारंभ हुआ था, तब प्रदेश सरकार ने केवल शहरों में, बल्कि गांवों में कोविड केयर सेंटर बनाए थे। स्कूलों को आइसोलेशन सेंटर में तब्दील किया गया था। सरकार की अपील पर सीमेंट और इस्पात संयंत्रों ने सीएसआर मद से लाखों रुपए का सहयोग किया। जिले की मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मीरा बघेल के दिशा निर्देश पर तिल्दा-नेवरा के हाईस्कूल मैदान स्थित नगर भवन को कोविड केयर सेंटर बनाया गया। इसके लिए बैंकुंठ स्थित अल्ट्राटेक सीमेंट संयंत्र ने 10 लाख रुपए का सहयोग किया। इस राशि से नगर भवन को स्वास्थ्य विभाग की गाइडलाइन के अनुसार पूरी तरह कोविड केयर सेंटर में तब्दील कर दिया गया था। पहली और दूसरी लहर के दौरान यहां मरीजों को रखा भी गया था।
चौकीदार तक को हटा दिया
नगर भवन स्थित कोविड केयर सेंटर की देख-रेख की जिम्मेदारी नगर पालिका प्रशासन की है। यहां की निगरानी के लिए एक चौकीदार भी नियुक्त किया गया था। लेकिन जब दूसरी लहर खत्म हुई, तब नगर पालिका प्रशासन इतना लापरवाह हो गया कि उसकी देख-रेख ही भूल गया। चौकीदार को हटा दिया गया। इसके बाद असामाजिक तत्वों ने धावा बोल दिया और एक-एक कर केबिन का लगभग सारा सामान गायब कर दिया। केबिन के दरवाजे चोरी हो गई है। अब हाल यह है कि कोविड सेंटर पूरी तरह उजड़ गया है और असामाजिक तत्वों ने डेरा जमा लिया है। यहां रोज शाम को जुआ का फड़ लगता है। जुआरियों और शराबियों का जमावड़ा रहता है।
तीसरी लहर पर आई सुध
इस कोविड केयर सेंटर को लेकर नगर पालिका प्रशासन तो लापरवाह था ही, स्वास्थ्य विभाग का भी उदासीन रवैया रहा। दूसरी लहर के बाद कभी सुध लेना मुनासिब नहीं समझा। जब तीसरी लहर ने दस्तक दी और उच्चाधिकारियों का दबाव बनाए तब स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने इसकी सुध ली। जब सुध ली, तब तक देरी हो चुकी थी। एक आधुनिक रूप से सुसज्जित सर्वसुविधायुक्त कोविड केयर सेंटर कबाडख़ाने में तब्दील हो चुका था। इसे पहले जैसे कोविड केयर सेंटर बनाने में फिर से लाखों रुपए खर्च करने पड़ेंगे।
कोरोना गया नहीं और उजड़ गया 10 लाख का कोविड सेंटर
कोरोना गया नहीं और उजड़ गया 10 लाख का कोविड सेंटर
नगर भवन को कोविड केयर सेंटर बनाया गया था। इसकी देख-रेख की जिम्मेदारी नगर पालिका प्रशासन को दी गई थी। जब हमारे विभाग द्वारा इस कोविड केयर सेंटर का जायजा लिया गया, तो बहुत सारा सामान गायब पाए गए। उच्च अधिकारियों को इसकी जानकारी दे दी गई है।
डॉ. आशीष सिन्हा, बीएमओ, तिल्दा ब्लॉक

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे की याचिका पर SC ने डिप्टी स्पीकर, महाराष्ट्र पुलिस और केंद्र को भेजा नोटिस, 5 दिन के भीतर जवाब मांगाMaharashtra Political Crisis: सुप्रीम कोर्ट से शिंदे खेमे को मिली राहत, अब 12 जुलाई तक दे सकते है डिप्टी स्पीकर के अयोग्यता नोटिस का जवाबMaharashtra Political Crisis: क्या महाराष्ट्र में दो-तीन दिनों में सरकार बना लेगी बीजेपी? यहां पढ़ें पूरा समीकरणPresidential Election: यशवंत सिन्हा ने भरा नामांकन, राहुल गांधी-शरद पवार समेत विपक्ष के कई बड़े नेता मौजूदPunjab Budget 2022: 1 जुलाई से फ्री बिजली; यहां पढ़ें पंजाब सरकार के पहले बजट में क्या-क्या है खासपटना विश्वविद्यालय के हॉस्टलों में छापेमारी, मिला बम बनाने का सामानMumbai News Live Updates: शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे का बड़ा बयान, कहा- ये राजनीति नहीं है, ये अब सर्कस बन गया हैMaharashtra: ईडी के समन पर संजय राउत ने कसा तंज, बोले-ये मुझे रोकने की साजिश, हम बालासाहेब के शिवसैनिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.