कोरोना खौफ ने घटाई जंगल सफारी में पर्यटकों की संख्या, अटका दैनिक वेतन भोगियों का भुगतान

- सफारी में लगे दैनिक वेतन भोगियों का सैलरी निकालना हुआ मुश्किल
- हर माह 70 दैनिक वेतन भोगियों की सैलरी वहन कर रहा वन विभाग

By: Ashish Gupta

Published: 29 Nov 2020, 02:51 PM IST

रायपुर. प्रदेश में कोरोना ग्राफ लगातार बढ़ रहा है। कोरोना संक्रमण के खौफ से एशिया के सबसे बड़े जंगल सफारी 'नंदनवन' में पर्यटकों का ग्राफ भी लगातार गिर रहा है। आम दिनों में अटल नगर स्थित जंगल सफारी में रोजाना 200 से 250 कर्मचारी पहुंचे थे। कोरोना खौफ की वजह से अब पर्यटकों की संख्या 30 से 35 के बीच सिमटकर रह गई है। जंगल सफारी की आय अब इतनी कम हो गई है, कि दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों का भुगतान भी सफारी प्रबंधन नहीं कर पा रहा है। दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों को पिछले दो माह से वन विभाग भुगतान कर रहा है, जिस वजह से विभाग का खर्चा बढ़ गया है।

सरकार का बड़ा फैसला: छत्तीसगढ़ में इस तारीख से कॉलेजों में शुरू हो सकती हैं क्लासेज

70 कर्मचारी दैनिक वेतन भोगी
वर्तमान में जंगल सफारी में लगभग 123 अधिकारी-कर्मचारी काम कर रहे है। इनमें से लगभग 70 कर्मचारी दैनिक वेतन भोगी है। इन कर्मचारियों को कलेक्टर दर पर 500 रुपए रोजाना भुगतान दिया जाता है। संक्रमण फैलने से पूर्व पर्यटकों की आवाजाही से कर्मचारियों का भुगतान और सफारी मेंटेन का खर्च निकल आता था। संक्रमण फैलने के बाद लॉकडाउन और पर्यटकों की संख्या कम होने से अब सफारी प्रबंधन को हर माह वन विभाग के सामने हाथ फैलाना पड़ता है।

800 एकड़ में बना है जंगल सफारी
अटल नगर स्थित नंदनवन जंगल सफारी 800 एकड़ में बना है। विभागीय अधिकारियों द्वारा इसे एशिया का सबसे बड़ा जंगल सफारी बताया जाता है। जंगल सफारी परिसर में बंगाल टाइगर, शेर, भालू, चीतल, काला हिरण, नीलगाय, कोट्री, सांभर, मगरमच्छ और दरियाईघोड़ा को पर्यटकों को दिखता है। इन वन्य प्राणियों के अलावा औषधीय पौधों को संयोजित करके जंगल सफारी प्रबंधन ने रखा है।

सुकमा में IED विस्फोट में सहायक कमांडेंट शहीद, CRPF अधिकारी समेत 5 जवान घायल

जंगल सफारी डिप्टी डायरेक्टर एम.मर्सीबेला ने कहा, कोरोना संक्रमण की वजह से पर्यटकों की संख्या का ग्राफ कम हुआ है। पर्यटक नहीं आने से सफारी की आवक कम हो रही है, जिसका सीधा असर सफारी के खजाने पर पड़ रहा है। दैनिक वेतनभोगियों का भुगतान अभी पिछले दिनों किया गया है। जो भुगतान शेष है, वो भी जल्द कर दिया जाएगा।

Show More
Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned