पत्रिका मास्टर की: बोर्ड परीक्षा में जरूरत से ज्यादा फिक्र सही नहीं

शिक्षाविद् डॉ. जवाहर सूरीशेट्टी ने एग्जाम के समय में बच्चों को गैरजरूरी तनाव न लेने की सलाह दी। उन्होंने कहा, एग्जाम में अगर कुछ हासिल होता है तो जरूर तनाव लीजिए।

By: Ashish Gupta

Published: 07 Mar 2020, 08:08 PM IST

रायपुर. शिक्षाविद् डॉ. जवाहर सूरीशेट्टी ने एग्जाम के समय में बच्चों को गैरजरूरी तनाव न लेने की सलाह दी। उन्होंने कहा, एग्जाम में अगर कुछ हासिल होता है तो जरूर तनाव लीजिए लेकिन परीक्षा मजा किरकिरा करने और परफॉर्मेंस बिगाडऩे के लिए स्ट्रेस ले रहे हैं तो खुद सोच लीजिए कि यह कितना फायदेमंद है।

ज्यादा टेंशन लेने से माइंड का संतुलन बिगड़ेगा, जिससे पेपर का खराब जाना भी स्वाभाविक है। एक हद तक फिक्र जरूरी है जिससे आप पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित होते हैं लेकिन जरूरत से ज्यादा चिंता आपके प्रदर्शन को प्रभावित करेगी। कुछ चीजें जिसे ध्यान में रखना चाहिए जैसे कि एग्जाम हॉल में जाकर दूसरों की बातें न सुनें, उनसे खुद को मत आंकिए कि अपन कमजोर हैं।

वे बोलते हैं लेकिन कर नहीं पाएंगे और नुकसान तो आपका हो चुका होगा। दूसरी बात ये कि जिस समय आप परीक्षा हॉल में जाएंगे, तब तक पता होना चाहिए आप कहां बैठते हैं। हॉल टिकट रखा कि नहीं। ये छोटी मगर मोटी बाते हैं। जिस तरह ज्यादा खाने से बदहजमी होती है ठीक वैसे ही बहुत ज्यादा पढऩा भी माइंड के लिए अच्छा नहीं। पढ़ाई के बीच म्यूजिक सुनना या दोस्तों से बात करना चाहिए।

Show More
Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned