छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह और उनके परिजनों की सुरक्षा में कटौती

पूर्व सीएम रमन सिंह के बेटे व पूर्व सांसद अभिषेक सिंह, बहू ऐश्वर्या सिंह, बेटी अस्मिता गुप्ता और पत्नी वीणा सिंह की सुरक्षा में कटौती की गई है।

रायपुर. केंद्रीय गृह विभाग की समीक्षा के बाद छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह की सुरक्षा में कटौती कर दी गई है। साथ ही डॉ. रमन सिंह के परिवार के सदस्यों की सुरक्षा में भी कमी की गई है। रमन सिंह को जेड प्लस (Z+) सुरक्षा को हटाकर जेड श्रेणी (Z) की सुरक्षा दी गई है।
पूर्व सीएम रमन सिंह के बेटे व पूर्व सांसद अभिषेक सिंह, बहू ऐश्वर्या सिंह, बेटी अस्मिता गुप्ता और पत्नी वीणा सिंह की सुरक्षा में कटौती की गई है।

अमित जोगी की भी सुरक्षा में कटौती, राजमन बेंजाम को जेड श्रेणी की सुरक्षा
गृह विभाग की समीक्षा के बाद पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के बेटे अमित जोगी की भी सुरक्षा में कटौती की गई है। इनके अलावा चित्रकोट से चुनकर आए विधायक राजमन बेंजाम को माओवादियों से खतरा देखते हुए जेड श्रेणी की सुरक्षा दी गई है।

लगता है अब प्रदेश सुरक्षित हो गया है : रमन
जेड प्लस सुरक्षा हटाए जाने के बाद पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह ने मीडिया से कहा कि प्रोटेक्शन रिव्यू की बैठक में अधिकारी निर्णय लेते हैं। किसे सुरक्षा देना है और किसे नहीं, यह वरिष्ठ पुलिस अधिकारी तय करते हैं। उन्होंने कहा कि जेड प्लस सुरक्षा हटाई गई है। इसका मतलब है कि अब प्रदेश सुरक्षित हो गया है। अब किसी को जेड प्लस सुरक्षा की आवश्यकता नहीं हैं।

देशभर में अभी सुरक्षा को लेकर अच्छा वातावरण : टीएस सिंहदेव
हम लोग अभी दिल्ली से सीख रहे हैं। इसलिए यहां कुछ लोगों की सुरक्षा में कटौती की गई है। दिल्ली महसूस कर रही है कि देश में अभी सुरक्षित माहौल है। सुरक्षा को लेकर देशभर में अच्छा वातावरण बन रहा है। सुरक्षा की अब उतनी जरूरत नहीं है।

बदलापुर की राजनीति कर रही छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार: भाजपा
अभी केंद्र में गांधी परिवार की सुरक्षा में कटौती की गई है। जिसके चलते छत्तीसगढ़ की कांग्रेस अब पूर्व सीएम रमन सिंह और उनके परिवार के लोगों की सुरक्षा में कटौती की है। इसको लेकर अब छत्तीसगढ़ में राजनीति माहौल गरमा गई है। भाजपा ने ऐतराज जताते हुए इस पूरे मामले को बदलापुर की राजनीति बताया।

इस तरह होता है जेड प्लस सुरक्षा
जेड प्लस सुरक्षा में एक मजबूत घेरा होता है। यह देश में एसपीजी के बाद सबसे मजबूत सुरक्षा घेरों में से एक होता है। जेड प्लस सुरक्षा किसे देनी है, इसका फैसला केंद्र सरकार का गृह विभाग करता है। खुफिया विभाग यह पता लगाता है कि, किसे कितना खतरा है। उसी आधार पर जेड प्लस या जेड श्रेणी की सुरक्षा तय की जाती है।

Show More
bhemendra yadav
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned