आजादी से पहले से रायपुर में आयोजित हो रहा गोंडवाना कप टेनिस टूर्नामेंट

  • छत्तीसगढ़ की राज्यपाल को गोंडवाना कप ऑल इंडिया टेनिस टूर्नामेंट समारोह के लिए किया गया आमंत्रित

By: Anupam Rajvaidya

Published: 19 Feb 2021, 11:21 PM IST

रायपुर. क्या आपको पता है कि गोंडवाना कप टेनिस टूर्नामेंट का इतिहास आजादी से पहले का है। छत्तीसगढ़ प्रदेश टेनिस संघ के महासचिव गुरुचरण सिंह होरा ने बताया कि गोंडवाना कप की शुरुआत वर्ष 1937-38 में हुई थी। इसका पहला आयोजन यूनियन क्लब में हुआ था। यह प्रतियोगिता मध्य भारत की सबसे बड़ी आमंत्रण प्रतियोगिता थी। थोड़े-थोड़े अंतराल के बाद यह प्रतियोगिता 1990 तक जारी रही।
ये भी पढ़ें...शिक्षा टैक्स लगाएगी कांग्रेस सरकार
वर्ष 2011 में गोंडवाना कप ऑल इंडिया टेनिस टूर्नामेंट 5 लाख रुपए इनामी राशि के साथ प्रारंभ हुआ। वर्ष 2013 में गोंडवाना कप के स्वरूप को छत्तीसगढ़ टेनिस संघ ने अंतरराष्ट्रीय करने का निर्णय लिया। गोंडवाना कप आईटीएफ फ्यूचर मेन्स 10 हजार यूएस डॉलर राशि के साथ प्रारंभ हुई। वर्ष 2016 में इसे अखिल भारतीय स्तर की प्रतियोगिता कर दिया गया, ताकि देश के टेनिस खिलाडिय़ों को अधिक से अधिक लाभ मिल सके। इस हेतु प्रतियोगिता की पुरस्कार राशि पांच लाख एवं दस लाख रुपए की गई। यह राष्ट्रीय स्तर पर मेन्स की प्रतियोगिता की सर्वाधिक पुरस्कार राशि की प्रतियोगिता थी।
ये भी पढ़ें...डिजिटल ओलम्पियाड की मेरिट लिस्ट में छत्तीसगढ़ के 10 स्टूडेंट
राज्यपाल अनुसुईया उइके से शुक्रवार को यहां राजभवन में छत्तीसगढ़ प्रदेश टेनिस संघ के महासचिव गुरुचरण सिंह होरा के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ने मुलाकात की। उन्होंने राज्यपाल को राज्य टेनिस संघ का संरक्षक मनोनीत होने का पत्र सौंपा। साथ ही उन्होंने राज्यपाल को गोंडवाना कप ऑल इंडिया टेनिस टूर्नामेंट समारोह के लिए आमंत्रित किया।
ये भी पढ़ें...जीतेंगे असम! सोनिया-राहुल गांधी के प्रतिनिधि के रूप में जिम्मेदारी निभाने का लिया संकल्प

Show More
Anupam Rajvaidya Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned