छत्तीसगढ़ में 80 प्रतिशत उद्योगों में उत्पादन शुरू, डेढ़ लाख से ज्यादा लोगों को मिला रोजगार

  • 258 नई इकाइयों में 550 करोड़ रुपए का हुआ पूंजी निवेश
  • लॉकडाउन में भी चलते रहे उद्योग
  • लौह-इस्पात उद्योगों में 27 लाख मीट्रिक टन उत्पादन

By: Anupam Rajvaidya

Published: 07 Jul 2020, 09:24 PM IST

रायपुर. लॉकडाउन समाप्त होने और अनलॉक शुरू होने के साथ ही छत्तीसगढ़ में औद्योगिक गतिविधियों ने फिर जोर पकड़ लिया है। न केवल औद्योगिक उत्पादन में तेजी आई है, साथ ही बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर भी निर्मित हो रहे हैं। अब तक राज्य की 80 प्रतिशत औद्योगिक इकाइयां सक्रिय हो चुकी है और कोविड के मापदंडों का पालन करते हुए डेढ़ लाख से ज्यादा लोगों को रोजगार उपलब्ध करा रहे हैं।

ये भी पढ़ें...छत्तीसगढ़ देश का पहला राज्य जो खरीदेगा गोबर
कोरोना वायरस संक्रमण संकट शुरू होने के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर लॉकडाउन के दौरान भी औद्योगिक गतिविधियों को सुचारू रूप से संचालित करने के लिए रणनीति तैयार कर ली गई थी। इस दौरान सभी जरूरी सावधानियों के साथ छत्तीसगढ़ के उद्योगों में उत्पादन होता रहा है। अब लॉकडाउन समाप्त होने और अनलॉक शुरू होने के बाद उद्योगों को और ज्यादा रियायतें मिल गई है, जिससे उत्पादन में उत्तरोतर वृद्धि हो रही है।
ये भी पढ़ें...सामान्य परिवारों को भी अब सस्ती दर पर नमक देगी सरकार
छत्तीसगढ़ में मार्च से जून 2020 के बीच 258 नवीन औद्योगिक इकाइयों में लगभग 550 करोड़ रुपए का पूंजी निवेश किया गया, जिसमें 3360 व्यक्तियों को रोजगार के अवसर मिला है। इस अवधि में राज्य के लौह इस्पात उद्योगों द्वारा 27 लाख मीट्रिक टन लोहे का उत्पादन किया गया। राज्य सरकार द्वारा लॉकडाउन अवधि में अतिआवश्यक मेडिकल सामग्री निर्माण तथा खाद्य आधारित इकाइयों का निर्बाध संचालन कराया गया। राज्य सरकार द्वारा सेनिटाइजर के उत्पादन के लिए डिस्टलरियों को लाइसेंस दिए गए। पैकिंग सामग्री निर्माण की सुविधा देकर छत्तीसगढ़ में इनका वितरण सुनिश्चित किया गया।
ये भी पढ़ें...रेल यात्री कृपया ध्यान दें, 90 मिनट पहले पहुंचे स्टेशन

Show More
Anupam Rajvaidya Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned