2 महीनों में पकड़े गए 30 से ज्यादा गांजा तस्कर, सरगना तक पहुंचने जांच एजेंसियों ने बनाया प्लान

Ganja smuggling in Chhattisgarh: प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) और राजस्व खुफिया निदेशालय (DRI) की टीम मादक पदार्थो की तस्करी करने वाले अंतरराज्यीय गिरोह की तलाश करने में जुटी हुई है।

By: Ashish Gupta

Updated: 03 May 2021, 09:39 PM IST

रायपुर. प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) और राजस्व खुफिया निदेशालय (DRI) की टीम मादक पदार्थो की तस्करी करने वाले अंतरराज्यीय गिरोह की तलाश करने में जुटी हुई है। दोनों ही केन्द्रीय एजेंसियां गोपनीय रूप से इनपुट जुटा रही है। प्रदेश में पिछले 2 महीनों में पकड़े गए 30 से ज्यादा गांजा तस्करों से मिली जानकारी के आधार पर सरगना तक पहुंचने की योजना बनाई गई है। इसके लिए मुखबिरों को सक्रिय कर दिया गया है। छत्तीसगढ़ से सटे ओडिशा के रास्तों पर नजर रखी जा रही है।

डीआरआई के आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि पिछले कुछ समय से लगातार गांजा तस्करी की घटनाएं बढ़ी हैं। लॉकडाउन के बाद इसका परिवहन बढ़ा है। बड़ी मात्रा में इसे स्टोर करने के बाद पकड़े जाने के डर से इसे किस्तों में लाने के बाद मध्यप्रदेश के विभिन्न जिलों में ले जा रहे हैं। जनवरी में अभनपुर के बाद करोड़ों रुपए का गांजा ट्रक में पकड़ा गया था।

ओडिशा के सीमावर्ती जिलों में तस्कर सक्रिय
ओडिशा से सटे हुए महासमुंद, गरियाबंद और जगदलपुर जिले के अंदरूनी इलाकों से इसे मालवाहकों के जरिए लाया जा रहा है। वाहनों की सख्ती से जांच नहीं होने के कारण वह बचकर निकल रहे है। केवल छोटे स्तर पर ही गांजा और चरस पकड़ा रहा है। बताया जाता है कि अक्सर रात के समय निकलने वाले मालवाहक वाहनों के जरिए इसे सुरक्षित स्थानों में भेजा जा रहा है।

ओडिशा में गांजे की खेती
ओडिशा के गंजाम, कंधमाल, भवानीपटना, मलकानगिरी, चांदमेटा और बार्डर से सटे हुए शबरी नदी के किनारे बड़े पैमाने पर गांजे की खेती होती है। इसे स्थानीय लोगों से खरीदी करने के बाद अंतरराज्यीय गिरोह के लोग तस्करी कर बड़े शहरों में भेजते है। बता दें कि गरियाबंद पुलिस द्वारा मार्च में 4 गांजा तस्करों से करीब 2 लाख, महासमुंद के पिथौरा के पास 1 लाख, बागबाहरा के साथ 1 लाख रुपए और कांकेर पुलिस ने जगदलपुर के रास्ते 1 लाख 70 हजार रुपए का गांजा पकड़ा। इस दौरान गिरफ्तार 8 आरोपियों ने बड़ी मात्रा में मालवाहकों के जरिए गांजा तस्करी की जानकारी दी।

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned