सस्ते में महंगा मोबाइल देकर का झांसा देकर डेढ़ लाख से अधिक की ऑनलाइन ठगी

- अलीबाबा डॉट कॉम के जरिए एक कंपनी से की थी ऑनलाइन खरीदारी .
- स्टूडेंट हुआ ठगी का शिकार .

By: Bhupesh Tripathi

Published: 14 Aug 2020, 04:25 PM IST

रायपुर। अनेक वेबसाइटों में ऑनलाइन तरह-तरह के सामान बेचे जा रहे हैं। इनमें कई फर्जी वेबसाइट भी हैं, जिनके जरिए ठग आम लोगों से धोखाधड़ी कर रहे हैं। एेसे ही एक मामले में महंगा मोबाइल सस्ते में बेचने का लालच दिखाकर एक युवक से ऑनलाइन ठगी कर ली गई। युवक से अलग-अलग किस्तों में डेढ़ लाख रुपए से अधिक राशि जमा करवा लिय गया। इसके बाद मोबाइल नहीं भेजा। इसकी शिकायत पर पुलिस ने अज्ञात आरोपियों के खिलाफ अपराध दर्ज कर विवेचना में लिया है।

पुलिस के मुताबिक डीडी नगर सेक्टर-२ निवासी प्रथम जैन ने एप्पल मोबाइल खरीदने के लिए वेबसाइट अलीबाबा डॉट कॉम के जरिए स्टेनलॉय वल्र्ड लिमिटेड कंपनी के संपर्क नंबर पर मैसेज किया। मैसेज करने के बाद कंपनी की ओर से उसे ईमेल आया। उसमें एक मोबाइल नंबर था। उसमें युवक ने वाट्सएप के जरिए संपर्क किया। इस दौरान कंपनी वालों ने दो एप्पल मोबाइल की कीमत ६४ हजार १७३ रुपए बताया। सस्ते में एप्पल मोबाइल मिलने से प्रथम खरीदने के लिए उतावला हो गया।

इसके बाद कंपनी वालों ने पेमेंट करने के लिए एक खाता नंबर दिया। प्रथम ने अपने एक दोस्त के बैंक खाते से फोन पे के जरिए ६४ हजार १७३ रुपए का भुगतान कर दिया। इसके बाद कंपनी के कर्मचारी ने प्रथम से कहा कि आगे का प्रोसेस अब दूसरे कर्मचारी देखेंगे। यह कहते हुए उसने एक अन्य व्यक्ति का मोबाइल नंबर दिया। कुछ देर बाद उस नंबर से प्रथम को वाट्सएप मैसेज आया। और कहा गया कि आपका पेमेंट कन्फर्म हो गया है। आपको मोबाइल भेजा जा रहा है। अगले दिन फिर उसी व्यक्ति ने वाट्सएप मैसेज किया कि मोबाइल के लिए पाकिस्तान का कस्टम चार्ज ५० हजार रुपए लगेगा। आपका मोबाइल पार्सल भेजा जा रहा है। कस्टम चार्ज जमा करवा दें। इसके कुछ देर बाद एक अन्य नंबर से प्रथम को वाट्सएप मैसेज आया, जिसमें कहा गया कि आपका पार्सल लेकर आ रहा हूं। मैं डिलीवरीमैन हूं। आप कस्टम पेमेंट कर दीजिए। इसके बाद प्रथम ने अपने खाते से फोन पे के माध्यम से ५० हजार रुपए का भुगतान आरोपियों के बताए बैंक खाते में कर दिया। इसके कुछ दिन बाद प्रथम को फिर वाट्सएप मैसेज मिला, जिसमें जीएसटी के रूप में ४४ हजार ८०० रुपए जमा करने के लिए कहा गया। जीएसटी अनिवार्य है। इसके बिना मोबाइल नहीं मिलेगा।

यह देखकर प्रथम ने फिर अपने बैंक खाते से ४४ हजार ८०० रुपए आरोपियों के बताए बैंक खाते में जमा कर दिया। इस तरह प्रथम ने आरोपियों के बताए अनुसार १ लाख ५८ हजार ९७३ रुपए जमा करवा दिया। इसके बाद भी उसे मोबाइल नहीं भेजा गया। काफी दिनों तक इंतजार करने के बाद भी मोबाइल नहीं आया, तो उन्होंने थाने में इसकी शिकायत की। पुलिस ने अज्ञात आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी का अपराध दर्ज कर विवेचना में लिया है।

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned