मानसून से पहले छत्तीसगढ़ में मौसम मेहरबान, लगातार दूसरे दिन कई इलाकों में हुई झमाझम बारिश

Weather Alert: छत्तीसगढ़ में मानसून आने से पहले ही मौसम प्रदेश पर मेहरबान है। राजधानी रायपुर समेत कई जगहों में लगातार दूसरे दिन शाम होते ही मौसम फिर बदल गया। काले घने बादल छा गए और करीब घंटे भर हुई बारिश हुई।

By: Ashish Gupta

Published: 04 Jun 2021, 06:45 PM IST

रायपुर. छत्तीसगढ़ में मानसून (Monsoon 2021) आने से पहले ही मौसम प्रदेश पर मेहरबान है। राजधानी रायपुर समेत कई जगहों में लगातार दूसरे दिन शाम होते ही मौसम फिर बदल गया। काले घने बादल छा गए और करीब घंटे भर हुई बारिश हुई। बारिश से लोगों को उमस और गर्मी से राहत मिली। राजधानी में हुई बारिश को लेकर मौसम विभाग ने कहा, यह मानसून पूर्व की बारिश नहीं है, बल्कि उत्तरी छत्तीसगढ़ पर सक्रिय एक चक्रवात के असर से राजधानी समेत कई जगह पर शाम को बारिश हुई है।

इससे पहले दक्षिण पश्चिम मानसून अपने निर्धारित तिथि से दो दिन विलंब से केरल पहुंचा। इधर, गुरुवार को भी प्रदेश में रायपुर, दुर्ग समेत कई जिलों में अंधड़ के साथ तेज बारिश हुई। रायपुर में करीब डेढ़ घंटे तक बारिश हुई। दुर्ग में भी कई इलाकों में पानी जमा हो गया, जिससे लोगों को काफी परेशानी हुई। राजधानी में बारिश के साथ हवा तेज हवा भी चलती रही। माना एयर पोर्ट में मौसम विभाग ने हवा की अधिकतम गति 62 नॉट यानी लगभग 115 किमी प्रति घंटा दर्ज किया गया। यह स्क्वाल कहलाता है, जो 3 मिनट या उससे अधिक समय तक रहता है।

यह भी पढ़ें: Monsoon Weather Update : मानसून एक्सप्रेस केरल पहुंची, छत्तीसगढ़ में 16 जून को होगी एंट्री

राजधानी रायपुर में भी हवा की गति 30 से 40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चली है। अचानक मौसम बदलने और तेज बारिश होने से बाजारों में खरीदारी करने गए लोग वहीं फंस गए। कुछ देर तक बारिश रुकने का इंतजार करते दिखे। जो लोग रास्ते पर थे वे पेड़ और ओवर ब्रिज के नीचे खड़े होकर बारिश थमने का इंतजार करने लगे। हालांकि बारिश शाम सात के बाद थम गई। फिर भी हल्की बूंदाबांदी होती रहीे।

13 जून को प्रदेश में दस्तक देगा मानूसन
मौसम विभाग के अनुसार केरल में मानसून पहुंचने के बाद अब प्रदेश में 13 जून के आसपास मानसून पहुंच सकता है। इसके बाद करीब सप्ताहभर में यानी 20 जून के आसपास राजधानी पहुंचने की संभावना है। वैसे मानसून के प्रदेश में पहुंचने का औसत समय सात आठ जून है। लेकिन इस बार विलंब होने के कारण चार-पांच दिन बाद ही प्रदेश में पहुंचेगा।

यह भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ में चक्रवात के असर से रायपुर, दुर्ग समेत कई जिलों में भारी बारिश, जानिए आज कैसा रहेगा मौसम

इसलिए हुई बारिश
मौसम विज्ञानी एचपी चंद्रा ने बताया कि एक ऊपरी हवा का चक्रीय चक्रवाती घेरा उत्तर छत्तीसगढ़ के ऊपर 1.5 किमी तक स्थित है। एक द्रोणिका तेलंगाना से तमिलनाडु तक 1.5 किमी ऊंचाई तक स्थित है। प्रदेश में अरब सागर से काफी मात्रा में नमी आ रही है तथा दक्षिण छत्तीसगढ़ में बंगाल की खाड़ी से नमी आने की संभावना है। इसके युक्ति से प्रदेश के कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने अथवा गरज-चमक के साथ छींटे पडऩे की संभावना है। प्रदेश में एक-दो स्थानों पर गरज-चमक के साथ अंधड़ चलने तथा आकाशीय बिजली गिरने की आशंका है।

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned