चक्रवाती तूफान 'अम्फान' देगा गर्मी से राहत, इस बार मानसून प्रवेश में देरी संभव

चक्रवाती तूफान Amphan को लेकर 8 राज्यों में अलर्ट, ओडिशा,पश्चिम बंगाल में वर्षा के साथ तीन जिलों में यलो अलर्ट।

By: Bhupesh Tripathi

Updated: 16 May 2020, 02:22 PM IST

रायपुर। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार केरल में इस वर्ष दक्षिण- पश्चिम मानसून आने में चार दिन की देरी हो सकती है। लेकिन चक्रवात के कारण भारी गर्मी से राहत मिल सकती है। भारत के मौसम विज्ञान विभाग ने शुक्रवार को बताया कि मानसून दक्षिणी राज्य में 5 जून तक आएगा। आमतौर पर केरल में हर साल मानसून एक जून को आता है। बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती तूफ़ान के कारण अंडमान-निकोबार द्वीपसमूह में मानसून अपनी तारीख 22 मई से छह दिन पहले 16 मई तक आ सकता है।

विभाग के मुताबिक इस वर्ष मानसून सामान्य रहेगा। मौसम विभाग ने केरल के तीन जिलों- अलप्पुझा, कोट्टायम, इडुक्की में शुक्रवार को यलो अलर्ट जारी किया है। इसमें बिजली की गरज के साथ रफ्तार हवाओं के चलने का अलर्ट जारी हुआ है। कुछ जगहों पर बारिश की भी संभावना है।

8 राज्यों में दिख सकता है तूफ़ान का कहर
जानकारी के अनुसार चक्रवाती तूफान (Cyclonic Storm) अम्फान (Amphan) तेजी से ओडिशा की ओर बढ़ रहा है। मौसम विभाग के अनुसार चक्रवाती तूफान अम्फान (Amphan) आज ओडिशा के 12 जिलों में कहर ढा सकता है। मौसम विभाग ने इसे लेकर अलर्ट जारी किया है। ओडिशा के तटवर्ती जिलों में प्रशासन को संभावित तूफान से बचाव के लिए तैयारियां करने के निर्देश दिए गए हैं। मौसम विभाग के अनुसार चक्रवाती तूफान अम्फान का असर 8 राज्यों में देखा जा सकता है।

मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि यह त्वरित राहत है। वहीं अब प्रदेश में 17 और 18 मई को आंधी-तूफान आने के आसार बन रहे हैं। मौसम विभाग के मुताबिक दक्षिण अण्डमान निकोबार में एक निम्नदाब का सेट बन चुका है। इसके और प्रबल होने के बाद चक्रवात में तब्दील होने की संभावना है। इस वजह से छत्तीसगढ़ का मौसम भी प्रभावित हो सकता है।

मौसम विज्ञानी एचपी चंद्रा ने बताया कि एक द्रोणिका दक्षिण पश्चिम मध्य प्रदेश से दक्षिण अंदरूनी कर्नाटक तक 0.9 किलोमीटर ऊंचाई पर स्थित है। दक्षिण छत्तीसगढ़ में बंगाल की खाड़ी से बहुत अधिक मात्रा में नमी आ रही है। इस कारण मौसम का मिजाज बदला हुआ है। उन्होंने बताया कि 16 मई शनिवार को छत्तीसगढ़ के एक-दो स्थानों पर हल्की वर्षा अथवा गरज चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना है। एक-दो स्थानों पर गरज चमक के साथ तेज हवाएं चलने और आकाशीय बिजली गिरने की संभावना है। अधिकतम तापमान में प्रदेश में विशेष तौर पर होने की संभावना नहीं है।

Show More
Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned