पाइपलाइन के लिए खोदी करोड़ों की सड़कें अब मरम्मत में हीलाहवाली

अब बारिश के मौसम में ये सड़कें कीचड़ से सन गई हैं

By: chandan singh rajput

Published: 30 Jun 2020, 02:04 AM IST

गैरतगंज. नगर में तीन साल से चल रहे समेरी जलाशय से पेयजल सप्लाई योजना के कार्य में ठेकेदार ने पाइपलाइन डालने के लिए करोड़ों की लागत की नगर की विभिन्न सड़कों को खोद डाला है मगर इनकी मरम्मत का काम नहीं किया। अब बारिश के मौसम में ये सड़कें कीचड़ से सन गई हैं।
पूर्व में एस्टीमेट अनुसार पाइपलाइन डालने के लिए खोदी गई सड़कों के पैचवर्क करने की जिम्मेदारी ठेकेदार की थी। परन्तु पाइपलाइन डलने के बाद बजट खत्म हो जाने का हवाला देकर ठेकेदार ने सड़कों का पैचवर्क करने से मना कर दिया है, जिसके चलते बारिश में नगरवासियों को आवागमन में खासी दिक्कतें आ रही हैं। पेयजल सप्लाई योजना में ठेकेदार ने कागजी खानापूर्ति कर नप को जमकर चूना लगाया है।

पहले ठेकेदार ने नगर में गैर तकनीकी ढंग से मुख्य पाइपलाइन एवं सप्लाई वाली पाइपलाइनों को कम डालकर कागजी आंकड़े तैयार किए। ठेकेदार ने एस्टीमेट, नक्शा एवं शासन के नियमों के विपरीत जाकर लाइनों का विस्तारण कर दिया। इसमें नगर की आधा दर्जन से अधिक अवैध कॉलोनियों में लाइनों का विस्तारण कर पुराने कनेक्शनधारियों एवं पुराने वार्डों में लाइन नहीं डालकर उन्हें पूरी तरह से छोड़ दिया। यही नहीं नगर से सटे ग्रामीण क्षेत्र धनगंवा रोड, कुशनगर में भी ठेकेदार ने अपनी मर्जी से लाइनों का विस्तारण कर डाला। डीपीआर के तहत तय किलोमीटर के हिसाब से लाइन पूरी करने की बात कहकर कार्य को अधूरा छोड़ दिया। बात यहीं तक नहीं रुकी ठेकेदार ने नगर के विभिन्न वार्डों में बनी करोड़ों की लागत की कांक्रीट सड़के खोदकर लाइन तो बिछा दी, परन्तु उसकी मरम्मत की जब बारी आई तो टेंडर एवं डीपीआर अनुसार राशि खत्म होने की बात कहकर इस कार्य को भी अधूरा छोड़ दिया।

परेशान हो रहे लोग
नियमानुसार ठेकेदार को नगर में मुख्य पाइप लाइन के साथ सप्लाई लाइन भी डालना चाहिए थी। परन्तु कई स्थानों पर मुख्य लाइन ही डाली है, जिसके चलते मुख्य लाइन से सटकर रह रहे नगरवासियों को नल कनेक्शन की सप्लाई लेने के लिए अतिरिक्त खर्च उठाना पड़ रहा है। ठेकेदार ने स्वयं की बचत के लिए नागरिकों पर अनावश्यक खर्च का बोझ डाल दिया। ठेकेदार ने नगर के मुख्य बस स्टैंड क्षेत्र, टेकापार कॉलोनी, वार्ड क्रं. 10 सहित अन्य स्थानों पर मुख्य लाइन ही डाली है। इसके अलावा कई गलियों में लाइन का विस्तारण का कार्य भी नहीं किया। अब नगरवासियों को नल कनेक्शन लेने के लिए सप्लाई लाइन तक अतिरिक्त रूप से कई मीटर लंबी लाइन खरीदने मजबूर होना पड़ रहा है। उन्हें ठेकेदार की यह मनमानी भारी पड़ रही है।

जांच के बाद सामने आएगा सच
गौरतलब है कि सेमरी जलाशय योजना का एस्टीमेट बनने एवं इस कार्य के प्रारंभिक दौर से ही प्रशासन द्वारा सड़क रिपेयर करने की जिम्मेदारी ठेकेदार पर डाल रहा था वहीं प्रशासन अब ठेकेदार की पक्ष में आकर राशि खत्म होने की बात कर रहा है तथा नगर के जिन स्थानों पर लाइन विस्तारण अधूरा है तथा जिन स्थानों पर सड़कों को रिपेयर नही किया गया पूरे कार्य के लिए अतिरिक्त राशि का एस्टीमेट बनाकर भेजने की बात प्रशासन द्वारा की जा रही है। अब प्रशासन द्वारा की रही दोहरी बात एवं ठेकेदार द्वारा किए गए इस गड़बड़झाला का सच तो अब जांच के बाद ही सामने आ पाएगा।
& अतिरिक्त राशि का एस्टीमेट भेजा है। जल्द ही सुधार कार्य कराया जाएगा। कीचड़ वाले स्थानों पर मुरम डालकर व्यवस्था कराई जा रही है।
-रितु मेहरा, सीएमओ नगर परिषद

Show More
chandan singh rajput
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned