scriptraisen, bandaron ko bhojan karana pada bhari, gai bachche ki jaan | बंदरों को भोजन कराना पड़ा भारी, गई बच्चे की जान | Patrika News

बंदरों को भोजन कराना पड़ा भारी, गई बच्चे की जान

कार और ट्रक की टक्कर में आठ दिन के बच्चे की मौत
चार अन्य गंभीर, सगौर मोड़ की घटना, बंदरों को खाना खिलाने खड़ी की थी कार।

रायसेन

Updated: January 20, 2022 09:10:13 pm

गैरतगंज. तहसील क्षेत्र के भोपाल सागर मार्ग पर डेंजर जोन के नाम से जाना जाने वाली गढ़ी घाटी क्षेत्र में गुरुवार दोपहर हुए हादसे में एक आठ दिन के बच्चे की मौत हो गई। दुर्घटना उस समय हुई जब घटी पर बंदरों को भोजन देने रुकी कार को एक ट्रक ने टक्कर मार दी। टक्कर में कार बुरी तरह छतिग्रस्त हुई तथाट्रक अनियंत्रित होकर पलट गया। कार में बैठे लोग गंभीर रूप से घायल हुए।
जानकारी के मुताबिक गढ़ी घाटी के जंगली क्षेत्र में सागौर मोड़ पर भोपाल की ओर से आ रही कार क्रमांक एमपी 04 सीएच 7321 एवं ट्रक में भिड़ंत हुई। इस घटना में कार चालक 28 वर्षीय रविशंकर पिता बाबूलाल मेहरा निवासी भोपाल, 32 वर्षीय अरविंद पिता पर्वत पटेल, 27 वर्षीय प्रदीप पिता गौरीशंकर पटेल, 52 वर्षीय पूना बाई पति पर्वत पटेल तथा आठ दिन का बच्चा गंभीर रूप से घायल हो गए। इलाज के दौरान बच्चे की मौत हो गई। घटना के बाद ट्रक चालक फरार हो गया। कार में बुरी तरह फंसे घायलों को बमुश्किल निकाला गया। सभी को गैरतगंज स्वास्थ्य केंद्र भेजा गया। घायलों का इलाज कर रहे डॉक्टर नीलेश चौरसिया ने बताया कि घायल अरविंद, प्रदीप, पूना बाई को घटना में अत्यधिक रक्तस्राव हुआ है।
बच्चे को डिस्चार्ज कराकर जा रहे थे घर
घटना में घायल हुए लोग अपने 8 दिनों के बच्चे को भोपाल स्थित किसी अस्पताल से डिस्चार्ज कराकर अपन घर सागर ले जा रहे थे। घायलों में शामिल बच्चे की दादी पूना बाई ने बताया कि बच्चे का जन्म कम माह में होने के चलते कमजोर था, उसका भोपाल के अस्पताल में इलाज चल रहा था। वही बच्चे की मां सागर में ही इलाज करा रही है।
अस्पताल में नहीं मिला स्टे्रचर
नगर के सरकारी अस्पताल में संसाधनों की कमी एवं अव्यवस्थाओं के चलते एक बार फिर गंभीर हालात में पहुंचे घायल तड़पते रहे। एम्बुलेंस की मदद से घटनास्थल से अस्पताल लाने के बाद घायलों को उतारने के लिए अस्पताल में स्ट्रेचर ही नहीं था, न ही कोई कर्मचार था। जिससे घायलों का एम्बुलेंस में ही इलाज करना पड़ा और वहीं से रेफर कर दिया।
------------
बंदरों को भोजन कराना पड़ा भारी, गई बच्चे की जान
बंदरों को भोजन कराना पड़ा भारी, गई बच्चे की जान

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

कांग्रेस के बाद अब 20 मई को जयपुर में भाजपा की राष्ट्रीय बैठक, ये रहा पूरा कार्यक्रमTRAI के सिल्वर जुबली प्रोग्राम में PM मोदी ने लॉन्च किया 5G टेस्ट बेड, बोले- इससे आएंगे सकारात्मक बदलावपूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम के बेटे के घर पर CBI की रेड, कार्ति बोले- कितनी बार हुई छापेमारी, भूल चुका हूं गिनतीकुतुब मीनार और ताजमहल हिंदुओं को सौंपे भारत सरकार, कांग्रेस के एक नेता ने की है यह मांगकोर्ट में ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश होने में संशय, दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट में एक बजे सुनवाई, 11 बजे एडवोकेट कमिश्नर पहुंचेंगे जिला कोर्टपूनियां हत्याकांड में बड़ा अपडेट : चौथे दिन भी नहीं हुआ पोस्टमार्टम, शव उठाने को लेकर मृतक के भाई के घर पर चस्पा किया नोटिसहरियाणा: हरिद्वार में अस्थियां विसर्जित कर जयपुर लौट रहे 17 लोग हादसे के शिकार, पांच की मौत, 10 से ज्यादा घायलConstable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का साया
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.