मापदंडों के अनुसार नहीं हो रहा सड़क निर्माण, लगाया जा रहा घटिया मटेरियल

निर्माण कार्य में न तो पर्याप्त पुराव किया जा रहा है और न पुलियाओं का निर्माण सही ढंग से किया जा रहा है

सुल्तानगंज. लोक निर्माण विभाग के प्लान एक से बनने वाली सड़कों का निर्माण कर रहे ठेकेदारों की मनमानी पर प्रशासन का नियंत्रण नहीं रह गया है। क्षेत्र के ग्राम बिछुआ जागीर, बिलखेड़ा जागीर, शाहपुर सुल्तानपुर, डुंगरिया, सिहोरा जागीर होते हुए भजिया के बीच बन रही लोक निर्माण विभाग प्लान वन की सड़क को देखकर ऐसा ही प्रतीत होता है। सिर्फ 17.30 किलोमीटर लंबी इस सड़क में निर्माण एजेंसी सूर्यान इंफ्राक्चर भोपाल ने नियम कायदे एक ओर रख दिए है। निर्माण कार्य में न तो पर्याप्त पुराव किया जा रहा है और न पुलियाओं का निर्माण सही ढंग से किया जा रहा है। मिट्टी मिली रेत का उपयोग और अवैध उत्खनन ठेकेदार जमकर हो रहा है।

जबकि इस सड़क का निर्माण 1132 .71 लाख रुपए की लागत से किया जा रहा है। फ रवरी 2018 से सड़क का निर्माण शुरू हुआ था। यह काम 22 फ रवरी 2019 में पूर्ण हो जाना था। लेकिन अभी सड़क का निर्माण अधूरा पड़ा हुआ है। निर्माण कार्य की शुरुआत में ही लापरवाही दिखाई दे रही है।
कहीं ज्यादा ऊंचाई तो कहीं कम
सड़क में ठीक तरह से पुराव नहीं किया गया। कुछ स्थान पर सड़क को पर्याप्त ऊंचाई दी गई है, तो अधिकांश जगह पर सड़क आसपास के खेतों के लेबल पर ही दिखाई दे रही है। अर्थ वर्क करने के बाद ठेकेदार द्वारा अब सड़क पर गिट्टी का बिछाव किया जा रहा है। इस काम में भी ठेकेदार की मनमानी साफ तौर पर दिखाई दे रही है। जिस गिट्टी का उपयोग ठेकेदार द्वारा किया जा रहा है उस गिट्टी को भी पर्याप्त मात्रा में नहीं डाला जा रहा है।

मनमर्जी से उत्खनन
सड़क निर्माण में उपयोग किया गया कोपरा के लिए ठेकेदार ने आसपास की जमीन को ही खोद डाला है। ठेकेदार ने अपनी सड़क की ऊंचाई बढ़ा दी है तो कुछ स्थानों पर अच्छा-खासा तालाब बन गया है। जानकारी के मुताबिक ठेकेदार द्वारा करीब एक साल से यह अवैध उत्खनन किया जा रहा है।
बिछुआ जागीर के सरपंच कैलाश साहू ने बताया कि निर्माण कार्य को लेकर ग्रामीणों द्वारा अनेक बार जनप्रतिनिधियों एवं विभाग से शिकायत कर चुके हैं। इसके बाद भी निर्माण एजेंसी द्वारा जिस तरह से घटिया सामग्री का उपयोग एवं नियमों का उल्लंंघन किया जा रहा है। उससे सड़क कितने समय तक टिक सकेगी इसका अंदाजा लगाया जा सकता है। ऐसा लगता है कि ठेकेदार की मनमानी के आगे अफ सरों ने आंखें बंद कर ली है।

साजखेड़ा निवासी किसान हरिराम आदिवासी ने बताया ठेकेदार द्वारा मुझे रुपए का झांसा देकर मेरी करीब एक एकड़ जगह से कोपरा खोदकर मेरी जमीन बर्बाद कर दी। अनेक बार मांगने पर मुझे रुपये भी नहीं दिए।
मेरी जानकारी के अनुसार बिछुआ जागीर से भजिया गांव के बीच में बन रही सड़क नियमानुसार बन रही है। घटिया निर्माण सामग्री के उपयोग की जांच मौके पर पहुंचकर ही की जा सकती है। हम जांच करेंगे।
-ताहिर कुरैशी, एसडीओ पीडब्ल्यूडी।

Show More
chandan singh rajput
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned