आवारा मवेशियों को दिया सहारा बनाई गौशाला

कभी किसी की फसल नष्ट कर देते थे कभी किसी की सब्जी। इससे गांव में अक्सर विवाद होते थे

सुल्तानगंज. ग्राम कोठीखोह में खुले में घूम रहे लावारिस मवेशी किसानों की फसल को खासा नुकसान पहुंचा रहे थे। कभी किसी की फसल नष्ट कर देते थे कभी किसी की सब्जी। इससे गांव में अक्सर विवाद होते थे।
ऐसे में गांव के किसान रविंद्र सिंह ठाकुर ने अपने घर के बाड़े में लावारिस मवेशियों को बांधना शुरू किया। अब बाड़ेे में 50 मवेशी हो गए हैं। रविन्द्र सिंह इन मवेशियों की एक साल तक सेवा करता रहे। कुछ दिन बाद यहां स्थानीय विधायक पहुंचे, उन्होंने गौमाता की सेवा देख अपनी निधि से सहयोग किया। जिससे रविंद्र सिंह ने टीन शेड का निर्माण किया और आज 82 मवेशियों की सेवा कर रहे हैं और ग्रामीण भी उनकी अब आर्थिक मदद कर रहे हैं ।

गौसेवक रविन्द्र सिंह ने बताया कि उन्होंने दो लोगों को गाय चराने के लिए रखा है, दोनों को पांच-पांच हजार रुपए महीना की वेतन भी देते हैं । दोनों चरवाह सुबह से शाम तक मवेशियों को जंगल मे चराने ले जाते हैं। उनकी तनख्वाह ग्रामवासियों से मिलने वाली दान राशी से दी जाती है। ग्रामीण मोहन सिंह राजपूत का कहना है कि सरकार को रविन्द्र को गौशाला चलाने में मदद करना चाहिए, जिससे यहां और अधिक व्यवस्था हो पाए।
जानकारी आसे मुझे प्राप्त हुई है। इस संबंध में यदि गांव वाले आवेदन देकर गौशाला की मांग करते हैं तब राजस्व विभाग और कृषि विभाग की टीम से स्थल निरीक्षण करवाया जाएगा। अगर राजस्व विभाग की 5 एकड़ भूमि वहां मिलती है, तब वहां पर गौशाला का निर्माण किया जाएगा।
-शैलेश पांडे, जनपद सीईओ

Show More
chandan singh rajput
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned