परिवहन की गति सुस्त, आसमान के नीचे लाखों क्विंटल गेहूं पड़ा

परिवहन की गति सुस्त, आसमान के नीचे लाखों क्विंटल गेहूं पड़ा

chandan singh rajput | Publish: Apr, 25 2019 02:04:04 AM (IST) Raisen, Raisen, Madhya Pradesh, India

केंद्रों पर लाखों क्विंटल गेहूं खुले आसमान के तले रखा हुआ है।

रायसेन. जिलेभर के सभी समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी केंद्रों से ट्रांसपोर्टर राकेश मित्तल की लापरवाही के कारण समय पर परिवहन नहीं हो पा रहा है। इस कारण केंद्रों पर लाखों क्विंटल गेहूं खुले आसमान के तले रखा हुआ है। केंद्रों पर स्टॉक बढ़ जाने की वजह से गेहूं की तुलाई भी समय पर नहीं हो पा रही है, जिससे किसान अपनी बारी के इंतजार में डेरा डाले हुए हैं। कहीं बारदाना नहीं होने से परिवहन के अभाव में केंदों पर अव्यवस्था हो रही है।

सोसाइटी प्रबंधकों ने कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा
बुधवार को शहर सहित जिलेभर के सोसायटी प्रबंधकों ने यूनियन के अध्यक्ष ज्योतिचंद नामदेव के नेतृत्व में कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा है। ज्ञापन में बताया गया है कि समर्थन मूल्य गेहूं की खरीदी के बाद परिवहन की गति बढ़ाने व तुलावटियों, हम्मालों को उनकी मजदूरी राशि एडवांस में देने की मांग की। उन्होंने जिला प्रशासन, नॉन को तीन दिन की मोहलत दी है। सोसायटी प्रबंधकोंं ने चेतावनी भरे लहजे मेेंं कहा अगर तीन दिन में सुधार नहीं किया गया तो खरीदी रोक दी जाएगी।

ज्ञापन देने वालों में सहकारिता समिति कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष ज्योतिचंद नामदेव, सीके पारे, नबल सिंह मेहरा, सुनील लोधी, राजेंद्र उपाध्याय, नरेंद्र सिंह ठाकुर, रामलाल मीणा, पवन नामदेव, संतोष साहू, कैलाश गौर आदि शामिल थे। ज्ञापन में बताया गया है कि हर गेहूं खरीदी केंद्रोंं पर स्टॉक जमा हो चुका है। रेडी-2 ट्रांसपोर्टर राकेश मित्तल गेहूं के परिवहन में जानबूझकर देरी कर रहा है।

आगजनी की घटनाएं हो चुकी हैं
इस मामले की शिकायत सोसायाटी प्रबंधकों, खरीदी केंद्र प्रभारियों ने जिला प्रशासन की थी। कुछ खरीदी केंद्रों पर गेहूं चोरी, आगजनी की घटनाएं हो चुकी हैं। इसमें जिला खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति निगम के अधिकारियों की सुस्त लापरवाही भी उजागर हुई है। नोडल अधिकारी किशोर सोरते से लेकर नॉन के अधिकारी केंद्रों की मॉनीटरिंग नहीं कर रहे हैं।
केंद्र पर 5 हजार 848 क्विंटल गेहूं का स्टॉक है

नामदेव ने बताया कि नरवर केंद्र पर 5 हजार 848 क्विंटल गेहूं का स्टॉक है। दशहरा मैदान रायसेन कृषि उपज मंडी में 10-12 हजार क्विंटल, सेवासनी में 22 हजार क्विंटल, पैमत में 25 हजार क्विंटल, खरबई में १२ हजार क्विंटल से अधिक है। इसके अलावा सांचेत में 15 हजार क्विंटल, मुडिय़ाखेड़ा में 10 हजार क्विंटल से ज्यादा संग्रहण हो चुका है।

रात में मंडी में उपज न लाएं किसान
बरेली. मंडी की व्यवस्था सुचारु बनाए रखने के लिए रात्रि में मंडी के गेट 12 बजे से सुबह 6:30 बजे तक बंद रखने का निर्णय मंडी प्रबंधन ने लिया है। रात्रि में किसान मंडी के गेट बंद रहने के समय अपनी उपज लेकर न आएं। गेट बंद रहने के दौरान किसानों की उपज का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned