खड़ी फसलों को नुकसान पहुंचा रहे जंगली जानवर

कभी पाला, तुषार तो कभी खेत में घुसकर जंगली जानवर या आवारा मवेशी फसलों को नुकसान पहुंचा रहे हैं

By: chandan singh rajput

Published: 18 Feb 2020, 02:04 AM IST

सुल्तानगंज. क्षेत्र के किसानों पर दोहरी मार पड़ रही है। कभी पाला, तुषार तो कभी खेत में घुसकर जंगली जानवर या आवारा मवेशी फसलों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। मडिय़ा गुसांई, टेकापार खुर्द, खामखेड़ा, पंदरभटा, गुलवाड़ा, चैनपुरा आदि में जंगली जानवर ने किसानों के चना, तुअर, मसूर की फसलों को अत्यधिक नुकसान पहुंचाया है। कई फसल पककर तैयार हैं, लेकिन जंगली जानवर एवं आवारा मवेशी इन्हें बर्बाद रहे हैं, जिससे किसानों की मेहनत पर पानी फिरने लगा है। किसानों ने इस संबंध में वन विभाग को सूचना दी, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है।
शाम होते ही हिरण, नीलगाय, झुंड में खेतों में घुसकर फसलें खा जाते हैं। जिनसे किसानों को नुकसान हो रहा है।

किसानों ने खेतों की सुरक्षा के लिए अपने खेतों पर मचान बनाकर दिन रात कई रखवाले रखे हैं। लेकिन जानवरों के झुंड में होने से वे असहाय हो जाते हैं। किसान हमीर सिंह यादव ने बताया कि मैंने 12 एकड़ में तेवड़ा लगाया था, लेकिन जंगली सूअरों एवं नीलगायों ने करीब 1 एकड़ की फसल बर्बाद कर दी। इसकी सूचना किसान संघ के माध्यम से अनुविभागीय अधिकारी को एवं वन विभाग को दी, लेकिन प्रशासन ने अभी तक कोई सर्वे नहीं किया। खामखेड़ा के किसान मुन्ना अहिरवार ने बताया कि जंगली जानवरों को रोकने के लिए प्रशासन बेफिक्र है, वहीं किसान चितिंत हैं। किसानों ने जानवरों द्वारा फसलों के नुकसान पर मुआवजा की मांग की है।

जिन किसानों की फसलों का नुकसान जंगली जानवरों द्वारा हुआ है, वे राजस्व विभाग में जाकर पहले आवेदन दें। सर्वे के बाद उनको मुआवजा दिलाने की भरपूर कोशिश की जाएगी
-सुशील पटेल, डिप्टी रेंजर

Show More
chandan singh rajput
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned