अदालत ने पुलिस पर दिखाई सख्ती गड़बड़ी में इंजीनियर हुआ बर्खास्त

अदालत ने पुलिस पर दिखाई सख्ती गड़बड़ी में इंजीनियर हुआ बर्खास्त

brajesh tiwari | Publish: Dec, 07 2017 11:20:43 AM (IST) Rajgarh, Madhya Pradesh, India

बुधवार का दिन कई अधिकारियों व कर्मचारियों पर कार्रवाईयों के नाम रहा। जहां न्यायालय ने अपने एक महत्वपूर्ण आदेश में एक एसआई और दो एएसआई सहित कुल नौ पुलि

राजगढ़। बुधवार का दिन कई अधिकारियों व कर्मचारियों पर कार्रवाईयों के नाम रहा। जहां न्यायालय ने अपने एक महत्वपूर्ण आदेश में एक एसआई और दो एएसआई सहित कुल नौ पुलिसकर्मियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कराने के आदेश दिए। वही कलेक्ट्रेट में आयोजित समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने जहां एक ठेकेदार को ब्लैक लिस्ट करने के लिखा। वही सीईओ जिला पंचायत ने निर्माण में लापरवाही करने वाले सब इंजीनियर को बर्खास्त करने के अलावा आरईएस के एक इंजीनियार को शो-काज नोटिस जारी किया हैं।

पुलिस पर एफआईआर दर्ज करने के मामले में एसआई के अलावा एएसआई अशोक भगत, एएसआई गंगाराम, मदनलाल यादव, प्रधान आरक्षक बरकत अली, जगदीश दांगी, ड्राइवर संजयसिंह एवं आरक्षक भुवनेश्वर व श्रीलाल मीणा के नाम भी शामिल हैं।

कालीपीठ थानांतर्गत आने वाले देवली गांव के गजराजसिंह पर पुलिस ने छेडख़ानी का मामला दर्ज किया था। इस दौरान पुलिस ने दो दिन तक उसको पकड़कर थाने में रखा और जमकर मारपीट की थी। इस मामले में जो मेडिकल बनाया गया था, उसे गजराज के परिजनों ने चेलेंज करते हुए दोबारा से मेडिकल करवाने की अपील की थी। न्यायालय के आदेश पर यह मेडिकल दोबारा से कराया गया। जिसमें गजराज के शरीर पर कई चोट थी। ऐसे में गजराज ने इस कार्रवाई के विरोध में न्यायलय में सीधे अपील करते हुए दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मांग की थी। जिसके बाद न्यायालय ने यह आदेश जारी किया।

इनमें आज तक नहीं हुए मामले दर्ज
न्यायालय द्वारा पूर्व में तीन पंचायतों में हुए शौचालयों के घोटाले के मामले में तत्कालीन जिला पंचायत सीईओ और राजगढ़ जनपद के सीईओ पर प्रकरण दर्ज कराने के लिए आदेशित किया था, लेकिन अभी तक किसी भी सीईओ पर मामला दर्ज नहीं हो सका हैं। जबकि न्यायालय ने जांच में इन्हें भी आरोपी बनाते हुए जांच के आदेश दिए थे।

पुलिस ने जो कार्रवाई की थी, वह गलत थी। पीडि़त पर पुलिस ने दबाव बनाकर उसे न्यायालय में कुछ न बोलने के लिए भी कहा गया था। समस्त साक्ष्य न्यायालय के सामने रखे गए। जिसके बाद न्यायालय से नौ लोगों के खिलाफ प्रकरण दर्ज करने के आदेश दिए गए हैं।

- अविनाश दशहेरिया, एडवोकेट

अभी तक ऐसा कोई आदेश हमें प्राप्त नहीं हुआ हैं। आदेश मिलने के बाद नियमानुसार कार्रवाई होगी।
- सिमाला प्रसाद, पुलिस अधीक्षक राजगढ़

ठेकेदार को किया ब्लैक लिस्ट
राजगढ़। विभिन्न शासकीय निर्माण विभागों के कार्य की समीक्षा के लिए कलेक्टर ने बुधवार को बैठक ली। इसमें विभागों द्वारा किए जा रहे कार्य की प्रगति, वर्तमान स्थिति और निर्माण पूर्णता आदि की जानकारी ली गई। बैठक के दौरान कलेक्टर ने निर्माण एजेंसिंयों द्वारा स्वीकृत कामों में की जा रही देरी पर नाराजगी जताई और देरी के लिए जिम्मेदारी अधिकारी और ठेकेदार पर कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए। जिपं.सीईओ प्रवीण सिंह, कार्यपालन यंत्री प्रधानमंत्री ग्राम सड़क, लोक निर्माण और ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, सहायक यंत्री, उपयंत्री सहित संबंधित निर्माण कार्यों के ठेकेदार मौजूद थे।

ठेकेदार और इंजीनियर पर कार्रवाई: कोर्ट भवन परिसर खिलचीपुर में बनने वाले सामुदायिक भवन का ठेका लेने के बाद काम से मना करने वाले ठेकेदार को ब्लैक लिस्टेड करने के निर्देश दिए। वही शांतिधाम निर्माण संबंधी जरुरी जानकारी नहीं देने पर ग्रामीण यांत्रिकी विभाग ब्यावरा के सहायक यंत्री को शोकॉज नोटिस जारी करने सहित इसी विभाग में खिलचीपुर में पदस्थ एक इंजीनियर को पूर्व की शिकायत और बैठक से अनुपस्थित रहने पर सीईओ ने बर्खास्त करने के आदेश ग्रामीण यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन यंत्री को दिए है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned