BREAKING NEWS : जिले में जीएसटी के विरोध में 26 से भारत व्यापार बंद का एलान

जीएसटी के विरोध में एक साथ उतरे व्याापारी, ट्रांसपोर्टर्स

By: Rajesh Kumar Vishwakarma

Published: 23 Feb 2021, 07:48 PM IST

ब्यावरा.कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने जीएसटी (गुड्स एंड सर्विसेस टैक्स) के विकृत रूप के खिलाफ बिगुल बजाया है। 26 फरवरी को भारत व्यापार बंद की घोषणा की गई है। बंद का समर्थन करते हुए ट्रांसपोर्ट सेक्टर के सबसे बड़े संगठन ऑल इंडिया ट्रांसपोर्ट वेलफेरयर एसोसिएशन ने कैट के भारत व्यापार बंद का समर्थन किया है। इस दिन देशभर में चक्काजाम की घोषणा की है। जिले में भी इसका असर देखने को मिलेगा।
कैट के नागपुर (nagpur) में हुए तीन दिनी राष्ट्रीय व्यापार सम्मेलन में उक्त निर्णय लिया गया। इसमें देश के सभी राज्यों के 200 से अधिक प्रमुख व्यापारी नेताओं ने निर्णय लिया। यह घोषणा कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी. सी. भरतिया, राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल और ऑल इंडिया ट्रांसपोर्ट वेलफेयर एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रदीप सिंघल ने की है। कैट ने जीएसटी काउंसिल द्वारा जीएसटी के स्वरूप को अपने फायदे के लिए विकृत करने का आरोप लगाते हुए कहा कि जीएसटी पूरी तरह से एक फेल कर प्रणाली है। इसका जो मूल स्वरूप है वह व्यापारियों के साथ खिलवाड़ है। सभी राज्य सरकारें अपने निहित स्वार्थों के प्रति ज्यादा चिंतित हैं और उन्हें कर प्रणाली के सरलीकरण की कोई चिंता नहीं है। देश के व्यापारी व्यापार करने की बजाय जीएसटी कर पालन में लगे रहते हैं, जो देश की अर्थव्यवस्था के लिए गलत है। ऐसे में जीएसटी के वर्तमान स्वरूप पर नए सिरे से विचार करने की जरूरत है। लागू होने के बाद से करीब 937 से ज्यादा बार संशोधन होने के बाद जीएसटी का बुनियादी ढांचा ही बदल गया है। बार-बार मांग के बावजूद जीएसटी काउंसिल ने अभी तक कैट द्वारा उठाए गए मुद्दों पर संज्ञान नहीं लिया। इसे लेकर जिले के प्रमुख व्यापारियों की ब्यावरा में भी बैठक हुई। जिसमें कैट की मांग का समर्थन करते हुए बंद को लेकर सहति दी गई। जिला अध्यक्ष रमेशचंद्र जैन ने बताया कि 26 को होने वाले भारत बंद का सभी व्यापारी, फर्म समर्थन कर रहे हैं।

Rajesh Kumar Vishwakarma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned