नमक के बाद अब गुड़ाखू व गुटखा की खुलेआम हो रही कालाबाजारी

लॉकडाउन के दौरान चांदी काट रहे थोक व्यवसायी

By: Nakul Sinha

Published: 30 May 2020, 06:01 AM IST

राजनांदगांव / छुईखदान. आज पूरा देश कोविड-19 संक्रमण से जूझ रहा है जिसके चलते केंद्र एवं राज्य सरकार के निर्देशानुसार उच्च अधिकारियों के द्वारा लोगों से लॉकडाउन का पालन करवा रहे हैं और लोग लॉकडाउन के नियमो का पालन कर भी रहे हैं। नगर के लोगों का हाल बेहाल है, नगर के एक व्यापारी ने तो हद ही कर दी है पूरे लॉकडाउन के चलते पानराज गुटखा, गुड़ाखु और सिगरेट को प्रिंट मूल्य से तीन गुना अधिक दामों में लगातार बेचते आ रहा है। कुछ किराना व्यापारियों के द्वारा जो बाजार लाइन चौक में दुकान खोलकर बैठे है उनके द्वारा इन सामानों की कालाबाजारी किया जा रहा है।

कालाबाजारी रोकने प्रशासन ने नहीं उठाया अब तक कोई कदम
कालाबाजारी रोकने शासन-प्रशासन के द्वारा अब तक किसी भी प्रकार का कोई कदम नही उठाया जा रहा है। अगर अधिकारी दुकान और गोदाम में छापामारी करे तो सब स्पष्ट हो जाएगा। आज लोग पान मसाला जर्दा से लेकर गुड़ाखू के आदि हो गए है इसीलिए व्यापारी खुलेआम गुड़ाखू के नाम पर लूट मचा रखे है। छत्तीसगढ़ में सबसे ज्यादा महिलाएं गुड़ाखू के लत में है वहीं हाल छुईखदान क्षेत्र का है। यहां भी अधिकतर महिलाएं एवं पुरुष को गुड़ाखु की लत लगी है जिसके चलते लोगों द्वारा लगातार किराना दुकानों में जाकर गुड़ाखू का मांग किया जाता है जिसके कारण किराना व्यापारियों के द्वारा गुड़ाखू जो लॉकडाउन से पूर्व 7 रुपए में बिकता था आज उसकी कीमत 30 रुपए है और इससे एक माह पहले 80 से 90 रूपए में भी लेने के लिए लोग मजबूर थे।

Nakul Sinha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned